Types of Computers (कंप्यूटर के प्रकार), कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं?

आज हर एक व्यक्ति कंप्यूटर के बारे में अच्छे से जानता है। लेकिन कुछ लोग कंप्यूटर के प्रकार के बारे में जानना चाहते हैं आज के इस पोस्ट में हम आपको कंप्यूटर के प्रकार के बारे में बताने जा रहे हैं।

कम्प्यूटर के प्रकार

1. अनुप्रयोग के आधार पर कम्प्यूटर प्रकार

  • Analog Computer
  • Digital Computer
  • Hybrid Computer

2. उद्देश्य के आधार पर कम्प्यूटर प्रकार

  • General Purpose Computer
  • Special Purpose Computer

3. आकार के आधार पर कम्प्यूटर प्रकार

  • Micro Computer
  • Workstation
  • Mini Computer
  • Mainframe Computer
  • Supercomputer

1. अनुप्रयोग (Application) के आधार पर Computer के प्रकार

Analog Computer

Analog Computer एक ऐसा यंत्र है जो आँकड़ों की एक भौतिक मात्रा जैसे दाब, तापमान, लम्बाई, ऊँचाई आदि को दर्शाता है, यह आँकड़े सतत (लगातार) परिवर्तित होते रहते है। इस कम्प्यूटर की कार्यक्षमता तेज होती है इनका परिणाम हमें ग्राफ आदि के रूप में प्राप्त होता है। Analog Computer आँकड़ो को स्टोर नही कर सकते इनका उपयोग तकनीक, विज्ञान, शिक्षा आदि हर क्षेत्र में किया जाता है। थर्मामीटर एक एनालॉग कम्प्यूटर हैं।

Digital Computer

डिजिटल कम्प्यूटर एनालॉग कम्प्यूटर से अलग होता है। एक Computer जो सूचनाओं को अंकीय रूप में प्रोसेस करता है उसे डिजिटल कम्प्यूटर कहा जात है। डिजिटल कम्प्यूटर सूचनाओं को अंकीय रूप में दर्शाने के लिए Binary System (0,1) का उपयोग करता है। ये Computer गणीतिय तथा तार्किक कार्य करने में सक्षम होते हैं। जैसे, एक Calculator .

Hybrid Computer

ये कम्प्यूटर एक एनालॉग कम्प्यूटर और एक डिजिटल कम्प्यूटर की विशेषताएं लिए होते है। Hybrid Computer इन दोनों प्रकार कम्प्यूटर से ज्यादा अधिक तेज और शुद्ध परिणाम देते है।

2. उद्देशय के आधार पर Computer के प्रकार

General Purpose Computer

आज हम जीस कम्प्यूटर का उपयोग करते है वह सभी लगभग General Purpose Computer ही होते है।

सामान्य उद्देश्य कम्प्यूटर एक ऐसा कम्प्यूटर है जो कई कार्यो को करने में सक्षम है। इसके द्वारा आप शोध पत्र लिख सकते है, अपने घर, कार्यस्थल का बजट तैयार कर सकते है, केवल एक ही मशीन से व्यवसाय की बिक्री का चार्ट आदि जैसे कई कार्य कर सकते है। Desktop, Notebooks आदि सभी सामान्य उद्देश्य कम्प्यूटर है।

Special Purpose Computer

इस प्रकार के कम्प्यूटर किसी विशेष काम को करने के लिए विकसित किया गया है, दरअसल इसका कार्य केवल एक ही तरह के कार्य को करना होता है। जैसे की परिवहन नियत्रंण करना, मौसम की भविष्यवाणी करना आदि। इस तरह के कम्प्यूटर सामान्य उद्देश्य कम्प्यूटर की तुलना में ज्यादा तेज होते है। लेकिन ये कम्प्यूटर एक सामान्य उद्देश्य कम्प्यूटर की तरह अलग तरह के कार्य नही कर सकते है।

3. आकार (Size) के आधार पर Computer के प्रकार

Micro Computer

Micro Computer तेजी से बढ़ता हुआ और व्यापक रूप से उपयोग होने वाला कम्प्यूटर है। यह सभी प्रकार के कम्प्यूटर से सस्ता, हल्का और आकार में भी सबसे छोटा होता है।इस तरह के कम्प्यूटर को सामान्य उद्देश्य जैसे, मनोरंजन, शिक्षा, घर तथा कार्यालय में उपयोग के लिए बनाया गया है। PCs, Notebooks, Laptops, PDAs (Personal Digital Assistants) आदि Micro Computer है।

Work Station

आमतौर पर यह एक ऐसा कम्प्यूटर है जो किसी Network से जुड़ा रहता है इसे ही Work Station कहते है। इनको व्यवसाय और पेशेवरो को ध्यान में रखकर विकसित किया जाता है। यह कम्प्यूटर Micro Computers से ज्यादा तेज और क्षमतावान होते है।

Mini Computer

Mini Computers को ‘Mid range Computer’ भी कहा जाता है। इसका उपयोग छोटे व्यवसाय तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठानो में किया जाता है। मिनि कम्प्यूटर को Single User के लिए विकसित नही किया जाता। इनको एक कम्पनी के द्वारा अपने एक विभाग खास किसी कार्य को करने के लिए उपयोग किया जाता है।

Mainframe Computer

Mainframe Computer ऊपर वर्णित सभी कम्प्यूटर से ज्यादा तेज और क्षमता वाला होता है। इनका उपयोग सरकारी प्रतिष्ठानों, बड़ी-बड़ी कम्पनियो के आँकड़ों को संग्रहित करने के लिए किया जाता है। ये कम्प्यूटर आकार में बहुत बड़े होते हैं।

Super Computer

Super Computer अब तक का मानव निर्मित सबसे तेज और शक्तिशाली कम्प्यूटर है। यह कम्प्यूटर आकार में विशाल और खर्चीले होते है। इनका इस्तेमाल बड़े बड़े संगठनो के द्वारा शोध कार्य, मौसम भविष्यवाणी, तकनीक आदि के लिए होता है।

भारत ने अपना पहला सुपर कम्प्यूटर PARAM – 8000 साल 1991 में बनाया था। परम कम्प्यूटर को भारत सरकार की एक संस्था C-DAC ने विकसित किया था।

उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आपको कंप्यूटर के प्रकार के बारे में यह जानकारी अच्छी लगी तो इस पोस्ट को लाइक करें और शेयर करें।


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *