हमें सपने क्यों आते हैं। Why do we dream in Hindi

यह सवाल कितना जटिल है इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकतें है की, सपनों के अध्यन के लिए शोध्कर्ताओं की एक अलग शाखा होती है जिसे “ओनैरोलोज़ी” कहतें है । सपनों को समझ पाना वाकई काफी मुश्किल होता है, किसी सामान्य जन के लिए भी और एक वैज्ञानिक के लिए भी। किसी भी प्रयोग में जब लोंगो से पूछा जाता है की आपने सपने में क्या देखा तो जबाव हमेशा अविश्वसनीय होता है।वास्तव में औसतन कोई भी इंसान उठने के १० मिनट बाद अपने सपने के ९० प्रतिशत को भूल चूका होता है।

इसलिए जब आप जागतें है तो आपको कुछ झलक मात्र याद रहतीं है, और आप याद करने का प्रयत्न करतें है कि आखिर आपने सपने में क्या देखा ।

जब आप सोते हैं तो आपकी केवल दो अवस्था हो सकती है-

१- तीव्र नेत्र संचलन

२- गैरतीव्र नेत्र संचलन

अगर आप किसी सोते हुए व्यक्ति के दिमाग कि विद्युतीय गतिविधि को देखो तो आप विचित्र चीजों का अनुभव करेंगे । शोधकर्ताओं ने यह पता लगया कि जब आप जागे हुए होते हो तब आपके दिमाग में जो हलचल होती है वैसी ही हलचल तब होती है जब आप तीव्र नेत्र संचलन की अवस्था में सोये हुए सपने देख रहें होतें है।इसका मतलब तीव्र नेत्र संचलन कि अवस्था में आपका मस्तिष्क अच्छी- खासी ऊर्जा का इस्तेमाल कर लेता है, जबकि हम कहतें है कि मस्तिष्क को आराम दे रहें है। परन्तु सोते समय कुछ ऐसे रसायन जैसे – हिस्टामिन,सेरोटोनिन नहीं निकलते जिस कारण जब आप सपना देखतें है तो अलग-अलग भावनाओं को महसूस कर पातें है पर आपकी शरीर नहीं हिलता है। लेकिन कुछ लोगों में कभी-कभी इन रसायनों का संतुलन बिगड़ जाता है और उनका शरीर हिलने लगता है, कुछ लोग तो नींद में चलते भी है जिसे हम स्वप्नाटन कहतें है तथा शोध में यह पता चला है कि हम तीव्र नेत्र संचलन की अवस्था में सपने देखतें।

अतः आप दिन के समय में जो भी करतें है या देखतें वो आपके मस्तिष्क में याददस्त कि तरह संचित हो जाता है, आपका अचेत मस्तिष्क सोने के समय में उन यादों को जाँच कर व्यवस्थित करता है , और उनके बीच में जो सम्बन्ध होतें है उनको मजबूत करता है तथा आपकी बेकार यादों को मिटा देता है ताकि हम अगले दिन उस याददास्त को और भी सही तरीके से इस्तेमाल कर सकें। जब ये सारी घटनाएं चल रहीं होती है तो आपका सचेत मस्तिष्क समझ नहीं पाता कि क्या हो रहा है? और जब यादें व्यवस्थित हो रही होती है तो आपको कुछ यादृच्छिक [अव्यवस्थित] छवियां दिखाई देतीं है और आपका सचेत दिमाग इन यादों से एक अर्थ निकलने कि कोशिश करता है, और इस तरह हम सपने देखतें है ।

क्या रात को सोना जरूरी है। Sleeping at night in Hindi

sleeping boy cartoon

नींद हमारे अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण का एक अति आवश्यक सूचक है। हम सब अपने जीवन के सम्पूर्ण समय का एक तिहाई हिस्सा सो कर बिता देतें है । अतः एक स्वस्थ नींद की सही स्थिति और सही समय जानना हमारे आपके जीवनकाल का एक अनिवार्य प्रश्न है।

आपको आपके आस-पास ऐसे बहुत से लोग मिल जायेंगे जो कहतें है की उन्हें दोपहर में एक झपकी लेने की आदत है । पर हमें यह नहीं पता की दिन में सोना फायदेमंद है की नहीं । इस बारे में सब अलग- अलग मत रखतें है।

आयुर्वेद कहता है की, रात में सोना दिन में सोने की अपेक्षा अधिक अच्छा और सुरक्षित होता है । यहां तक की विज्ञान का भी कहना लगभग-लगभग इसी प्रकार है इसके अनुसार ” मनुष्य को दिन की अपेक्षा रात में अधिक अच्छी नींद एवं जल्दी आती है “और एक रिसर्च में यह साबित हुआ है की अगर आप किसी इंसान को अँधेरे में सुलाते है तो वह एक बार में अधिकतम २४ घटें तक की नींद ले सकता है।

आयुर्वेद कहता है की अगर आप दिन में अधिक सोते है तो आपको कई समस्याएं हो सकती है, जैसे की कफ की समस्या, पित्त की समस्या और वात की समस्या इत्यादि | और यह आपके शरीर के कुछ दोषों के असंतुलन के कारण होता है जो आपकी दिनचर्या और रोज के कामकाजी जीवन में समस्या उत्पन्न कर सकता है ।इसलिए कुल मिलाकर देखें तो रात का सोना अधिक सुरक्षित माना गया है ।

cute boy sleeping cartoon

लेकिन कुछ ऐसी भी स्थितियाँ हैं जिनमे दिन में सोने को शरीर के लिए फायदेमंद बताया गया है। आयुर्वेद कहता है की-

यदि आप स्वस्थ और तंदुरुस्त हैं तो गर्मियों के समय में झपकी लेना आपके शरीर के लिए फायदेमंद साबित होगा।

जो विद्यार्थी लगातार पड़ते रहतें है उन्हें कुछ अंतराल बाद छोटी सी झपकी लेना लाभदायक होगा ।

कुछ बूढ़े लोगों के लिए दिन में छोटी सी झपकी अपने शरीर को आराम देने के लिए भी लाभकारी सिद्ध होगी ।

तथा अगर आप अत्यंत दुखी हैं तो आपका दिन में छोटी सी नींद लेना बेहतर रहेगा और आपके दिमाग को इससे आराम मिलेगा

विज्ञान ये भी कहता है की आपको ७-८ घंटे सोना चाहिए वह दिन हो या रात इससे अधिक अंतर नहीं पड़ता । अतः निष्कर्ष यही है की आप दिन में भी सो सकतें है और रात में भी, करें वही जो आपकी सेहत के लिए सही और शरीर के लिए आरमदायक हो ।

Keywords: kya raat ko sona jaroori hai, kya rat me sona chahiye, Kya din me sona aacha hai