कमल के फूल के बारे में जानकारी। Lotus Flower in Hindi

lotus flower blossom

कमल का फूल भारत का रास्ट्रीय फूल है कमल का फूल दाल दलि जमीं और रुके हुए पानी में उगता है कमल की पाटिया पानी की सतह पर उठी हुए रहती हैं

कमल का पौधा एक बारहमासी, जलीय पौधा है जो पोषक तत्वों से भरपूर, दलदली परिस्थितियों में पनपता है। भारत, पूर्वी अफ्रीका, दक्षिण पूर्व एशिया और ऑस्ट्रेलिया में पाया जाने वाला यह पौधा एक सक्रिय और दिलचस्प जीवन चक्र से गुजरता है। कमल कीचड़ में उगता है लेकिन वह खुद को कीचड़ से बाहर निकल कर उसके ऊपर खिलता है, उनके लंबे तने पानी के ऊपरी भाग को खोजने के लिए ऊपर की ओर जाते हैं। वहां सुन्दर फूल खिलते हैं, और जैसे ही एक कमल खिलता है, बाकिसारे फूल एक-एक करके खिलते हैं।

lotus flower blossom

कमल के फूल दिखने में बहुत ही सुन्दर लगते हैं।

मिस्र के समय में कमल का फूल उनके धर्म में बहुत महत्वपूर्ण था। यह सूर्य का प्रतीक था, क्योंकि रात में यह सिकुड़ जाता है और पानी के नीचे चला जाता है और भोर में यह पानी के ऊपर चढ़ जाता है और फिर से खील जाता है। यह एक ही समय में फूल और फल देने वाला एकमात्र पौधा था, क्योंकि यह मैला दलदल की गहराई से शुद्ध और सफेद रूप में उभरता था और पानी के ऊपर आकर उगता था। एक मिथक जो कमल के इर्द-गिर्द घूमता है, वह यह है कि सृष्टि के समय एक विशाल कमल का फूल एक तालाब से निकला और उसमें से सूरज निकला। साथ ही, पूरे प्राचीन मिस्र में कला के विभिन्न कार्यों में कमल का चित्रण किया गया है। यह कलाकृति के एक हिस्से को रेखांकित करता है । कमल का उपयोग उनके गणित में भी किया जाता था, जिससे उच्च नम्बरो को गिनने में मदद मिलती थी। जैसे की एक कमल 1,000 के रूप में और दो कमल 2,000 के रूप में कार्य करेगा ।