1. आप उतना वैल्यू (कीमत ) क्रिएट (बनाना ) नही कर पा रहे जितना उम्मीद कर रहे हैं।

ये नंबर एक पॉइंट इस लिए है क्यों है आपको उतना ही मिलता है जितना वैल्यू आप क्रिएट करते है।  चलिए मै आपको एक उद्धरण से समझाता हूँ।  मान लीजिये अपना बिज़नस मिठाई बनता है।  मिठाई में आप घी नही डाल कर डालडा डाल रहे हैं , मिठाई में आप खोया नही डाल कर आलू डाल रहे हैं तो अन्तिम में आपने अपने फाइनल मिठाई का कास्ट उतना ही रखा है जितना की एक धी और खोया से बना मिठाई का है।  कास्ट तो उतना है लेकिन उतना वैल्यू नही है। वैल्यू उस चीज़ का होता है जिसका मांग ज्यादा होता है।  आपने तो डालडा और आलू का मिठाई बना दिया लेकिन उसका डिमांड (मांग) नही बढ़ा, क्यों की लोगो को पता चल गया की आपने उनको उल्लू बनाया है।  और वो आपके दुकान या बिज़नस के बारे में दुसरे को बताने के बजाये और मना करेंगे की अरे भाई वहा मत जाओ वो दुकान वाला उल्लू बनता है।  तो अंत में होगा ये की आपके पास कस्टमर तो जरूर आयेंगे लेकिन आपका व्यवसाय नही बढेगा क्यों की आप उतना कीमत नही बना रहे जितना उम्मीद कर रहे है।  किसी चीज़ का कीमत उसके दमाद पर निर्भर करता है। अब अगर आपने बहोत ही बेकार मिठाई बना दिया तो उसका कीमत 0 रुपया हो जायेगा लेकिन आप उम्मीद में रहेंगे की आज 10 रुपया आने वाला है मगर ऐसा कभी नही होगा।  आपको किसी चीज़ का उतना ही कीमत मिलेगा जितना कीमती उस चीज़ को आप बनायेंगे। उससे कभी ज्यादा और ना कभी कम मिलेगा.

2. आप का ध्यान काम पर नही बल्कि सिर्फ पैसे पर है।

आप दिन रात सिर्फ पैसे के बारे में सोचते हैं और आपका वैल्यू 0 रहता है।  जैसा की मैंने बताया ऊपर आपको उतना ही कीमत मिलेगा जितना आप कीमती चीज़ बनायेंगे। इसलिए मेरी सलाह यही है की पैसे से ध्यान हटा कर अपने उत्पाद पर ध्यान दें , उसका वैल्यू बढ़ाये , ताकि उसका मांग बढे.

3. आप औरो की तरह लूटना , ज्यादा से ज्यादा प्रॉफिट कमाना और लोगो को मुर्ख बना कर पैसे कमाना चाहते है।

एक बात याद रखिये आप अगर लोगो को लूटकर पैसा कमाना चाहते है और अगर आप अपने क्लाइंट्स को मुर्ख बना कर पैसा कमाना चाहते है तो आपका व्यवसाय कभी आगे नही बढेगा।  आपको अपने ग्राहक के प्रति अगर सम्मान नही है और आप अगर अपने ग्राहक को लुटने के नज़रिए से देखते है तो आप कभी जिन्दगी में ज्यादा सफल नही हो पाएंगे।  लोग अपने ग्राहक को बहोत तरह से मुर्ख बनाते है जैसे ढूधवाला दूध में पानी मिला कर ग्राहक को बेवक़ूफ़ बनता है, किराना दुकान वाला तराजू के निचे चुम्बक लगा के ग्राहक को मुर्ख बनता है।  खोया वाला खोया में मैदा मिला कर ग्राहक को मुर्ख बनता है।  सब्जी वाला सब्जी को रंग में डूबा कर हरा कर के ग्राहक को मुर्ख बनता है। होटल वाला ग्राहक को 2 दिन का बासी खाना खिला कर मुर्ख बनता है।  ये सरे लोग ग्राहक को तो मुर्ख बना देते है लेकिन जिन्दगी उन्हें मुर्ख बना देती है और वो इस तरह के आर्टिकल पढने आ जाते है की उनका व्यवसाय आगे क्यों नही बढ़ रहा।

4. आपके उत्पाद ( प्रोडक्ट ) का क्वालिटी बहोत ही निचे अस्तर का है।

आप जो कुछ भी बनाते है और बेचते है जो निम्न अस्तर का सामान है।  उसमे क्वालिटी नही है उसका वैल्यू बहोत कम है जब आप निम्न अस्तर का सामान बेचते है तो ग्राहक आपके व्यसाय का प्रचार नही कर दुष्प्रचार करता है।  जो ग्राहक 10 और ग्राहक ला सकता था वो 10 और ग्राहक को आने से रोक देता है।  निम्न अस्तर का सामान बेचकर आप कभी सफल नही हो सकते।  अगर सफल होना चाहते हैं तो सामान का क्वालिटी और व्लुए बढाइये।

5. आप अपने ग्राहक को मुर्ख और खुद को समझदार समझते है।

ऐसा भी हो सकता है की आप अपने ग्राहक को मुर्ख और खुद को समझदार समझते हो अगर ऐसी बात है तो ये आपकी मुर्खता है . ग्राहक मुर्ख नही होता उसे सब पता होता है की आप उसे क्या बेच रहे हैं और वो क्या खरीद रहा है . ऐसा भी हो सकता है की ग्राहक को आपके उत्पाद के बारे में आपसे ज्यादा जानकारी हो।  इसलिए कभी भी अपने ग्राहक को मुर्ख और खुद को समझदार ना समझे।

6. आपमें दूर दृष्टी की कमी है।

आप में दूर दृष्टी की कमी है आप भविष्य के बारे में सोचकर काम नही करते बल्कि थोरे से लाभ के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते है। अगर आप अपने व्यवसाय को दूर तक ले जाना चाहते है तो आपको दूर का सोचना पड़ेगा और अभी से ही उसकी प्लानिंग करनी पड़ेगी।

7. आप किसी समस्या का अच्छा समाधान नही दे पा रहे हैं।

आप अगर सर्विस का काम करते है तो ये भी हो सकता है की आप का समाधान अच्छा नही है और आपके प्रतिद्वंदी आपसे अच्छा समाधान ग्राहक को दे रहे हैं।  आप अपने क्वालिटी ऑफ़ सर्विस को अच्छा करे और प्रतिद्वंदियों पर नज़र रखे को वो क्या कर रहे हैं उनसे हमेशा बेहतर करने की कोशिस करे।  अगर कोई ग्राहक आपके पास किसी समस्या को लेकर आता है तो उसका समाधन ऐसे करे की वो और भी ग्राहक भेजे। इसका मै उधारण देता हूँ आपको आपने कई बार देखा होगा कोई कोई डॉक्टर के रोगियों का लाइन लगा रहता है और कोई डॉक्टर बैठ कर मक्खी मरता है उसका उतना नही चलता है।  मुह बोली प्रचार सबसे ताकतवर प्रचार का माध्यम है क्यों की लोग अन्य विज्ञापन से ज्यादा अपने दोस्त और साथी द्वारा बताये गए चीज़ पर ज्यादा भरोसा करते हैं . आप कितना भी विज्ञापन पर खर्च क्यों ना कर दे लेकिन अगर आपके ग्राहक का दोस्त ग्राहक को मना कर दिया हो तो आपके प्रचार से आपके बनने वाले ग्राहक भी आपके ग्राहक नही बनेंगे और आपका सारा प्रचार का पैसा पानी में जायेगा।

8. आपका बिज़नस प्लान आपके प्रतिद्वंदियों से बेहतर नही है।

यहाँ बुसिनेस प्लान की बात हो रही है।  मान लीजिये आपका उत्पाद बहोत अच्छा है लेकिन उसको खरीदने के लिए ग्राहक को 10 दिन पहले बताना पड़ेगा और पहले पैसा देना पड़ेगा तो कहना ये है की आपका सामान खरीदना बहोत ही कठिन है। लेकिन आपका एक प्रतिद्वंदी भी है जहा से सामान खरीदना ग्राहक के लिए बहोत ही आसन है और ग्राहक हमेशा आपके प्रतिद्वंदी के पास जायेगा ना की आपके पास. आपको अपने बिज़नेस प्लान में सुधार करना होगा तब जाकर आप अपने प्रतिद्वंदी को पीछे छोर पाएंगे।

9. आप अपने यहाँ काम करने वालो को नौकर समझते है।

ये भी हो सकता है की आप अपने यहाँ काम करने वाले लोगो को नौकर समझते हो आप का व्यवहार उसने अच्छा नही हो , तो पता है क्या होगा आपके यहाँ काम करने वाले आपके ग्राहक का क़द्र नही करेंगे क्यों की उन्हें आपके व्यवसाय से अब कोई लेना देना नही रह गया है।  वो अब सिर्फ पैसे के लिए काम करने लगे है।  जब व्यवसाय में काम करने वाले लोगो को अपने काम से प्यार नही रहता तब व्यवसाय ख़तम हो जाता है।  आपके यहाँ काम करने वाले आपके ग्राहक को वैसे ही ट्रीट करेंगे जैसे आप उनको करते हैं।  इसलिए काम करने वालो को नौकर नही समझ कर सहयोगी समझना आपके लिए ज्यादा आचा रहेगा।

10. आप अपने क्लाइंट को नज़र अंदाज़ कर रहे हैं , उसे खुश नही कर रहे।

ये अंतिम रीज़न है लेकिन सबसे पावरफुल है , आप क्लाइंट की चिन्ताओ को नही सुन रहे , आप अगर सुन भी रहे है तो एक कान से सुन रहे हैं वो दुसरे कान से निकाल दे रहे हैं।  हमेशा अपने ग्राहक या क्लिनेट की सुने , उनकी समस्यायों को नज़र अंदाज़ नही करे बल्कि उनकी सहायता करे।  इसे फीबैक लूप बोलते है।  क्लाइंट की सुने और अपने बिज़नस या उत्पाद को सुधारते जाये , जल्द ही आपके प्रतिद्वंदी आपसे पीछे छुट जायेंगे क्यों की वो ऐसा नही कर पा रहे वो वो सिर्फ अपनी ही मनमानी कर रहे है।  आपको फीबैक लूप से बहोत लाभ होगा।

By: Anurag Kumar