Last updated on नवम्बर 17th, 2017 at 08:27 अपराह्न

internet kya hai

आप सिंपल वर्ड्स में इंटरनेट को मकड़ी का जाल कह  सकते है। यहाँ जाल तारो का बना है। वह हर तरफ फैला है। इंटरनेट टेलीफोन के तार से डाटा भेजता है. और वापस पता है।

डाटा किसे कहते है ?

आप सोच रहे होंगे की डाटा क्या है तो मैं आपको सिंपल वर्ड्स में बताता हु। डाटा हर वो चीज़ है जो हम क्रिएट करते है कंप्यूटर पर। कल हमारे साथ क्या हुआ था ये हमे याद रहता है कभी आपने सोचा की हमे कैसे याद रहता है ? चलिए मै आपको बताता हु। कल हमारे साथ जो भी घटना हुए थी वो हमारे दिमाग में स्टोर हो  गया था. हमारा दिमाग उस घटना को एक मूवी की तरह बना कर अपने पास रख लिए। उस घटना का जो भी प्रकार है जैसे कोई इंसान, उसकी आवाज , उसका तस्वीर , उसका  बोलने का तरीका ये सब कुछ हमारे दिमाग में स्टोर हो जाता है। इसे ही हम डाटा कहते है। जो स्टोर होता है वो डाटा है।

ठीक हमारे दिमाग की तरह कंप्यूटर भी डाटा स्टोर करता है। आपने कोई लेख लिखा , किसी को ईमेल भेजा, किसी की तस्वीर देखि , कोई वीडियो देखा ये सब डाटा है जो सर्वर में स्टोर होता है।

सर्वर क्या होता है।

सर्वर हमारे दिमाग की तरह है लेकिन उसका काम दिमाग चलना नहीं बल्कि डाटा को स्टोर करना होता है। सर्वर दिमाग भी चलता है वैसे हर समय नहीं। अगर कोई डाटा वापस देखना चाहे तो सर्वर उस डाटा को जिस कंप्यूटर से डाटा देखने का रेकुएस्ट आ रहा वह भेज देता है। एक उदाहरण देता हु आपको जैसे की मन लीजिये कोई हिंदी न्यूज़ का वेबसाइट है जैसे हिंदुस्तान , प्रभात खबर।  अगर इस वेबसाइट को कोई भी कही से देखना चाहे तो वो देख सकता है। अब पूछिए कैसे. तो मै आपको बताता हु.

हिंदुस्तान और प्रभात खबर जैसे वेबसाइट का डाटा सर्वर पर स्टोर होता है। सर्वर को आप इंटरनेट का दिमाग भी कह सकते है। वह सब स्टोर करता  है।

जब भी कोई हिंदुस्तान टाइम्स का इ पेपर पढ़ने के वेबसाइट खोलता है जैसे hindustantimes.com  तो ये रेकुएस्ट उस सर्वर के पास चली जाती है जो इस वेबसाइट को स्टोर किया है। अब सर्वर वेबसाइट का डाटा वापस उस आदमी के कंप्यूटर पर भेज देता है जो पढ़ने के लिए रिक्वेस्ट किया है।

आसान शब्दों में इसी को हम इंटरनेट बोलते है। यहाँ हर एक कंप्यूटर टेलीफोन लाइन से कनेक्ट है और डाटा का आदान प्रदान हो रहा है हर समय।

इंटरनेट की तारे समुद्र के अंदर से होकर दूसरे देश  में भी जाती है। इंटरनेट पर हर  एक कंप्यूटर या मोबाइल का IP एड्रेस होता है। IP एड्रेस को आप फ़ोन नंबर की तरह समझ सकते है। जब हम हिंदुस्तान की वेबसाइट को रिक्वेस्ट करते है तो उसका IP एड्रेस 52.74.17.139 पर कॉल होता है।  तो हम कह सकते है की एक तरह से हम इस IP एड्रेस को कॉल कर रहे है तो वो हमारी बाते सुनकर हिंदुस्तान की वेबसाइट को आपके कंप्यूटर पर भेज दे रहा है।

हर एक डिजिटल डिवाइस जो इंटरनेट से जुड़ सकता है उसका IP एड्रेस होता है।

हमारा कंप्यूटर सर्वर नहीं है क्यों की हम इंटरनेट से डायरेक्ट नहीं जुड़े है।  बल्कि हम ISP से जुड़े है ISP का मतलब इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर। जो हमे इंटरनेट देता है। JIO , Airtel ये सब ISP प्रोवाइडर हैं

ISP इंटरनट से डायरेक्ट जुड़े होते है और किस देश में कौन सा वेबसाइट अल्लोव करना है और कौन सा बंद करना है ये निर्णय लेते है सरकार के हिसाब से।