पशुपालन का कार्य प्राचीन समय से चलता आ रहा है| पहले भी राजा-महाराजा अपने शाही सवारी, घुड़सवारी के शौंक और युद्ध के लिए घोड़े, हाथी आदि पालते थे और दूध की पूर्ति के लिए बकरी, गाय, भैंस, ऊंट आदि दुधारू पशु पालते थे, जो कि आज के समय में भी हो रहा है|

कुछ लोग शौक के तौर पर जानवरों का पालन कर रहे हैं, तो कई लोग घर की रखवाली के लिए और अपनी आवश्यकताओं जैसे सामान ढोने, दूध आदि की पूर्ति के लिए भी जानवरों को पालते हैं| कहीं मनोरंजन करने की लिये बंदर और चूहे भी पाले जाते हैं| कई लोग अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए व अपने सुरक्षा बनाये रखने के लिए भी जानवरों को पालते हैं और उन्हें सदस्य की तरह ही मानते है|

हर जानवर को पालने का तरीका अलग-अलग होता है, क्योंकि कई जानवर घर के भीतर सदस्यों के बीच रखे जा सकते है, जैसे कुत्ता, बिल्ली आदि और कुछ को घर बाहर अलग स्थान पर रखा जाता है, जैसे गाय, भैंस, घोड़ा आदि| देखभाल की बात की जाए तो यूं तो हर जानवर की देखभाल जरूरी है, लेकिन दुधारु पशुओं की समय के पाबन्द होकर देखभाल करनी पड़ती है, क्योंकि इनके दूध निकालने के समय में देरी होने या अनदेखी होने पर यह इनकी सेहत पर विपरीत असर डालता है|

हर एक जानवर पालने के योग्य नहीं होता है, क्योंकि कुछ जानवर इन्सानों के लिए खतरनाक होते हैं| आज के इस लेख में हम आपको कुछ पालतू जानवरों के नाम हिन्दी व अंग्रेजी भाषा में बताएँगे|

ऊंट Camel

कुत्ता Dog

कछुआ Tortoise

खरगोश Rabbit

खच्चर Mule

गधा Donkey

गिलहरी Squirral

गाय Cow

घोड़ा Horse

चूहा Mouse

बकरी Goat

भैंस Buffalo

भेड़ Sheep

बकरी Goat

बिल्ली Cat

बंदर Monkey

हाथी Elephant

सांड Bull

सूअर Pig

मछली Fish

याक Yak