आपकी वेबसाइट को अद्यतन या अपडेट रखने के लिए, उसमें नए आर्टिकल, ब्लॉग्स, फोटो, वीडियो आदि को दिखाने व समय-समय पर उनमें परिवर्तन करने के लिए वेबसाइट को प्रतिपल होस्ट करना होता है। उच्च स्तर पर लाने के लिए, प्रोमोशन के लिये और उपभोक्ताओं का ध्यान आकर्षित करने के लिए वेबसाइट की होस्टिंग आवश्यक है। 

कई कम्पनियों द्वारा वेब हॉस्टिंग सर्विसेज उपलब्ध करवाई जाती हैं। 

वेबसाइट की हॉस्टिंग कितने तरीकों से की जाती है?

वेब हॉस्टिंग सर्विसेज के प्रकार- वेब हॉस्टिंग सर्विसेज कई तरीकों से उपलब्ध करवाई जाती है। सभी अलग-अलग सुविधाओं से युक्त होती हैं। वेब हॉस्टिंग सर्विसेज के प्रकार निम्नलिखित हैं-

शेयर्ड वेब हॉस्टिंग सर्विस- एक ही कम्प्यूटर के एक सर्वर पर अनेक वेबसाइट एक साथ एकत्र कर के रखी होती हैं। यानि कि भिन्न-भिन्न वेबसाइट ने ही सर्वर को साझा (शेयर) किया हुआ होता है। उस कम्प्यूटर के सर्वर पर जितनी वेबसाइट चल रही होती हैं, वे सब मिलकर उसके प्रॉसेसर, हार्ड डिस्क, रैम व अन्य प्रोग्राम का इस्तेमाल करती हैं। 

इस कारण से कई बार सर्वर की गति धीमी हो जाती है। किसी एक वेबसाइट के विज़िटर यदि कम या ज्यादा होते हैं या किसी वेबसाइट के पेज को खोलने वाले लोगों की संख्या कम या ज्यादा हो जाती है तो क्रमशः सर्वर की कार्य की गति भी कम या ज्यादा होगी, तो इस कारण अन्य वेबसाइट पर भी उसका प्रभाव पड़ता है। अनेक वेबसाइट का एक ही सर्वर होने के कारण ऐसा होता है। इस कारण अन्य वेब होस्टिंग सर्विसेज की तुलना में यह सर्विस कम खर्चे वाली होती है।

वर्चुअल प्राइवेट सर्वर वेब हॉस्टिंग सर्विस-  यह शेयर्ड वेब हॉस्टिंग से थोड़ी भिन्न है। इसे उदाहरण द्वारा आसानी से समझा जा सकता है, जैसे-एक मकान के पाँच कमरों में से एक कमरा आपके द्वारा खरीद लिया जाये तो उसमे रहने व उपयोग का हक आपका ही होगा। इस वेब हॉस्टिंग सर्विस में भी एक सर्वर को  विभक्त कर के कई आभासी (वर्चुअल) सर्वर का रूप दे दिया जाता है। आपकी वेबसाइट इस आभासी सर्वर में चल रही है तो इस सर्वर में अन्य कोई वेबसाइट नही शामिल की जायेगी। यानि कि आपको अपना आभासी सर्वर वेबसाइट चलाने के लिए उपलब्ध होता है। यह सुविधाजनक होता है। शेयर्ड वेब होस्टिंग की तुलना में इसमें खर्चा ज्यादा लगता है।

क्लाउड वेब हॉस्टिंग सर्विस- इसमें विभिन्न देशों के कई वेब सर्वर आपस में इंटरनेट के जरिये एक दूसरे से जुड़ कर समूह बनाते हैं। इसमें सर्वर डाउन होने की स्थिति न के बराबर होती है। इसमें यदि एक वेब सर्वर क्लाउड की गति धीमी हो जाये या कार्यशील न हो तो तुरन्त उसकी सूचना दूसरे क्लाउड सर्वर में भेज दी जाती है और आपकी वेबसाइट दूसरे क्लाउड के जरिये अपनी गति पर बनी रहती है। वेबसाइट का विस्तार अन्तर्देशीय हो तो यह काफी फायदेमंद व सुविधाजनक है और यह सर्विस महंगी होती है।

डेडिकेटेड वेब हॉस्टिंग सर्विस- डेडिकेटेड यानी समर्पित। नाम के अनुसार इस सर्विस में  सर्वर पूरी तरह से आपको समर्पित होता है, क्योंकि आपकी वेबसाइट के लिए आपको हार्ड डिस्क, रैम, प्रोसेसर के साथ एक पूर्ण सर्वर  दिया जाता है। इसमें न सर्वर को साझा किया हुआ होता है और न सर्वर के हिस्से किये होते हैं। 

इस सर्विस में वेबसाइट के पेज खोलने पर लोडिंग नही लेती। यदि आपको अपनी वेबसाइट के लिए अलग से सर्वर की आवश्यकता हो और अधिक संख्या में लोग आपकी वेबसाइट में रूचि रखते हैं तो आप इस सर्विस का चुनाव कर सकते हैं। यह आपको काफी अच्छी परफॉर्मेंस देती है, परन्तु यह सर्विस अधिक खर्चे वाली होती है। 

रिसेलर वेब हॉस्टिंग सर्विस- इसमें हॉस्टिंग कम्पनी आपको अपनी वेबसाइट की आपको संभालने का मौका प्रदान करती है। इस सर्विस में आप अपनी वेबसाइट का संचालन स्वतः कर सकते हैं। इसमें आप स्वयं अपनी वेबसाइट को होस्ट कर सकते हैं। अपनी ज्ञान क्षमता के आधार पर आप इस सर्विस का उपयोग करते हुए वेबसाइट को उच्च स्तर तक ले जा सकते हैं। 

फ्री वेब हॉस्टिंग सर्विस- कुछ कम्पनियाँ वेबसाइट की हॉस्टिंग के लिए मुफ़्त सुविधा प्रदान करवाती हैं। ये अपनी इच्छानुसार कार्य व सुविधाएँ उपलब्ध करवाती हैं|