आधुनिक युग में ऐसा कोई नहीं जो मोबाइल के प्रयोग से अछुता हो| बच्चे से लेकर बड़े तक मोबाइल का इस्तेमाल करते है| मोबाइल ने आज पूरे संसार को आपकी मुठी में लाकर खड़ा कर दिया है|

आज आप कही भी हो, हमेशा अपनों से जुड़े रह सकते है, कही भी किसी से बात कर सकते है, किन्तु कभी आपने यह सोचा कि मोबाइल को किसने बनाया, कैसे बनाया, कैसे यह विकास के अलग-अलग पहलुओ से होकर गुजरा और आज जो android डिवाइस जिसके आप आदी हो चुके है, कुछ समय पहले किसी ने सोचा तक नहीं होगा इसके बारे में|

यहाँ हम मोबाइल से जुड़े सभी तथ्यों एवं जानकारी के बारे में जानने का प्रयास करेंगे|

कैसे बना मोबाइल?

Martin Cooper और John F. ने 1973 ई. में सबसे पहले मोबाइल का अविष्कार किया जो Motorola का फ़ोन था एवं व्यवसायिक रूप से यह 1983 में प्रयोग में आना शुरू हुआ|

सिम कार्ड जिसके बिना मोबाइल को चलाना मुमकिन नहीं इसका अविष्कार 1991 में Munich Smart कार्ड Maker Giesecke and Devrient द्वारा बनाया गया था|

फर्स्ट Generation या 1G cellular Network का प्रारंभ जापान द्वारा 1979 ई. में किया गया था|

2G network की शुरुआत फ़िनलैंड द्वारा 1991 में की गई थी एवं ठीक 10 साल बाद 3G network अस्तित्व में आया जिसे जापान द्वारा बनाया गया| अब तक 4G नेटवर्क आ चुका है एवं 5G को लाने पर खोजबीन जारी है|

केवल 20 वर्षों में मोबाइल का प्रयोग करने वाले करीब 700 करोड़ users बने एवं इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढती चली गई|

सबसे ज्यादा smart मोबाइल बनाने वाली कम्पनीज में Samsung, Apple, Nokia आदि के नाम प्रसिद्ध है|

2014 तक अकेले Samsung ने दुनिया में प्रयोग होने वाले मोबाइल्स का 25% बनाया एवं Nokia का योगदान इसमें 13% रहा|

मोबाइल से जुड़े कुछ आश्चर्यजनक तथ्य:

सबसे पहले मार्किट में आने वाला मोबाइल Motorola का था जिसका नाम डायना टीएसी था जिसकी कीमत करीब 2 लाख रूपये थी एवं वजन में भारी था, इसलिए इसके मार्किट में उतारने से पहले कुछ हल्का किया गया| इसे १ बार चार्ज करने के बाद आप 35 से 40 मिनट तक बात कर सकते थे|

ब्रिटेन में सबसे पहले मोबाइल फ़ोन की शरुआत ‘एरिन वाइज’ द्वारा 1985 में वोडाफोन के कार्यालय में फ़ोन करके की गई थी|

वोडाफ़ोन कम्पनी को अपने लाखों ग्राहकों से जुड़ने के लिए 9 साल लगे किन्तु ओ2 नामक कम्पनी ने sellnet सेवा द्वारा केवल २ वर्षो में डस लाख का आंकड़ा पर करके वोडाफोन के एकाधिकार को खत्म कर दिया|

कोई भी वाहन चलाते समय मोबाइल के प्रयोग पर पाबन्दी लगा दी गई जिसमे भारत के साथ अन्य देशो में यह कानून लागू कर दिया गया|

वर्ष 2007 में एक नामी कम्पनी ने कुत्तों के लिए मोबाइल फ़ोन बनाया जिसमे GPS सिस्टम लगा हुआ था जिससे आप अपने कुत्ते को कही भी ट्रेक कर सकते थे एवं इसकी कीमत 25,000 थी|

Wireless World कांफ्रेंस में सबसे पहले टचस्क्रीन वाला smart फ़ोन पेश किया गया, इसके द्वारा आप मेल सेवा, कैलकुलेटर, कैलेन्डर, पेजर आदि का लाभ उठा सकते थे|

फरीदेलेहम नामक इंजिनियर ने 160 शब्द की टेक्स्ट सीमा की शुरुआत की जो कि जर्मनी से थे एवं एक अच्छे टाइपिस्ट थे|

साल 2012 में Samsung, Apple, एवं अन्य कम्पनीज के करीब 1अरब 70 करोड़ हैंडसेट बिके|

अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाला मोबाइल फ़ोन का रिकॉर्ड नोकिया कम्पनी के 1100 मॉडल के नाम पर है, मार्किट में आने के साथ ही इसके करीब 25 करोड़ सेट बिक चुके एवं अभी तक इतने बड़े रिकॉर्ड को कोई कम्पनी नहीं तोड़ पाई|

केवल ब्रिटेन में 2011 में दो सौ अरब से अधिक टेक्स्ट मेसेज एक दूसरे को भेजे गये जिसमे से अधिकांश 11 से 16 साल के बच्चे थे| सबसे पहला sms 1992 में नील पोप्वोर्थ ने अपने एक दोस्त को भेजा था जिसमे उन्होंने लिखा था Marry Christmas|     

आधुनिक समय में इस्तेमाल होने वाले मोबाइल फ़ोन द्वारा आप नेट बैंकिंग, टिकेट booking, नेट सर्फिंग, बिज़नस प्रमोशन, एवं किसी भी प्रकार की जानकरी प्राप्त कर सकते है|

भारी वजन के साथ शुरू होकर आज एकदम हल्के एवं दिखने में आकर्षक smart फ़ोन हर प्रकार की रेंज में बाजार में उपलब्ध है| उस समय शायद ही किसी ने सोचा होगा की मोबाइल फ़ोन का इतिहास इतना जबर्दस्त एवं तेजी से बदलने वाला होगा|

आज के युवा अपना अधिकतर समय फेसबुक, Whtsapp, ट्विटर, आदि सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बिताते है, इसमें एक बहुत बड़ा भाग गेम्स के लिए भी जाता है|

अमेरिका में वर्ष 2007 में i-Phone को लांच किया जिसको लेने के लिए लोग रात भर लाइन में लगे थे पर कुछ समय बाद एप्पल का यह फ़ोन लोगों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया|

अपनी बेजोड़ मजबूती के लिए मशहूर सोनिम xp फ़ोर्स मोबाइल को गिनेस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया है, इसे 84 फीट से नीचे फेंका गया एवं 2 मीटर पानी में डुबाया गया जिसके बाद भी मोबाइल को कोई नुकसान नहीं हुआ एवं पहले के जैसे वर्किंग मोड में रहा| इसके अलवा और भी फ़ोन है जो पानी में खराब नहीं होते|

अब तक के सबसे महंगे फ़ोन की कीमत 7,850,000 डोलर है जो एप्पल द्वारा बनाया गया है एवं इसमें 500 हीरे लगे हुए है जो 100 कैर्रेट के है, मोबाइल का पिछला कवर गोल्ड का बना हुआ है एवं देखने में यह शानदार है, एप्पल कम्पनी का प्रसिद्ध लोगो भी डायमंड्स का बना हुआ है|

शायद ही आपको पता हो कि मोबाइल बनाने से पहले नोकिया पेपर बनाने का काम करती थी इसके साथ ही यह प्लास्टिक एवं रबर के उत्पाद बनाया करती थी परन्तु मोबाइल जैसी डिवाइस बनाकर इसने सबको हैरान कर दिया|

अब तक के आकड़ो के अनुसार, फिलिपीन में सबसे ज्यादा टेक्स्ट मेसेज एक दुसरे को भेजे जाते है|

आज के समय में जियो ने इन्टरनेट सेवा की दरो को काफी हद्द कम करके भारत में इसके प्रयोग को और भी सुविधाजनक बना दिया है|

निष्कर्ष:

जैसा कि प्रत्येक अविष्कार के साथ होता है, इसके पॉजिटिव एवं नेगिटिव दोनों पहलु होते है| ऐसे बहुत से मामले सामने आये जिसमे मोबाइल की बैटरी में ब्लास्ट होने से लोग बुरी तरह जख्मी हुए, या मर गये|

ड्राइविंग करते समय या पेट्रोल पंप में मोबाइल का प्रयोग निषेध है, कई बार इसके अधिक इस्तेमाल से नींद न आना, सिर में दर्द रहना, एकाग्रता की कमी, जैसी समस्याओं का जन्म हो जाता है|

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमसे अपने विचार जरुर शेयर करे|