Last updated on जून 24th, 2018 at 01:14 अपराह्न

मापन का हमारी रोजमर्रा की गतिविधियों में महत्वपूर्ण स्थान होता है, शायद यही वजह है की मापन हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण विषय बन जाता है | अगर थोडा सा ध्यान दे तो पायेंगे की हम हर काम में मापन का इस्तेमाल करतें है, फिर चाहे वह भोजन बनाते समय, या खाते समय या फिर कोई दुसरे काम पर हर जगह हम मापन का इस्तेमाल करतें है| यद्दपि हम अपनी ग्यानेद्रियों द्वारा तुलनात्मक मापन भी कर सकते है |

मापन में हम एक वस्तु को दुसरे वस्तु या किसी भी भौतिक राशि को मात्रक की मदद से मापतें है |

हमारे पास मापन के कई तरीके होतें है, कौन सी वस्तु को मापने के लिए कौन सा मात्रक इस्तेमाल करना है यह हम निर्धारित करतें है | हमें यह जानने की जररूत है की अलग- अलग परिस्थिति में अलग-अलग माप की आवश्यकता होती है, किसी में हमें सन्निकट मान की आवश्यकता होती है, तो कहीं पर हमे सटीक मान की आवश्यकता होती है |

अतः किसी भी भौतिक राशि को मापने पर जो मान आता है और वास्तविकता में जो मान होता है, इन दोनों के अंतर को ही मापन में त्रुटी कहतें है |

मापन  में त्रुटियां कई प्रकार की होती है, जिनमे से कुछ इस प्रकार है –

निरपेक्ष त्रुटि ( Absolute Error )

जब किसी भौतिक राशि को किसी व्यक्ति द्वारा मापा जाता है तो उस राशि के वास्तविक माप और व्यक्तिगत माप में जो अंतर आता है उसे निरपेक्ष त्रुटी या Absolute Error कहतें है | निरपेक्ष त्रुटी ऋणात्मक, धनात्मक या शून्य भी हो सकती है |

दुसरे शब्दों में कहें तो किसी भी भौतिक राशि को मापने में जो human error अर्थात किसी व्यक्ति विशेष के गलतियों के कारण माप में परिमाण आता है उसके तथा वास्तविक माप के अंतर को निरपेक्ष त्रुटी कहतें है |

निरपेक्ष त्रुटि = व्यक्तिगत मान – वास्तविक मान

इसको प्रदर्शित करने के लिए Δa का उपयोग किया जाता है |

माध्य निरपेक्ष त्रुटि ( Mean Absolute Error )

जब हम निरपेक्ष त्रुटियों के मान का समनांतर माध्य निकालते है तो जो मान आता है उसे Mean Absolute Error या माध्य निरपेक्ष त्रुटी के नाम से जाना जाता है |

माध्य निरपेक्ष त्रुटि ( Mean Absolute Error ) को Δam से प्रदर्शित किया जाता है|

आपेक्षिक त्रुटि ( Relative Errors )

इस त्रुटी में जो माध्य निरपेक्ष त्रुटि ( Mean Absolute Error ) का जो मान होता है उसका तथा मापी गयी राशि का माध्य का जो आनुपात आता है उसे आपेक्षिक त्रुटी के नाम से जाना जाता है |

आपेक्षिक त्रुटि = माध्य निरपेक्ष त्रुटि / माध्य मान

या दुसरे शब्दों में माध्य निरपेक्ष त्रुटी और माध्य आन का अनुपात ही आपेक्षित त्रुटी कहलाता है |

यह किसी भौतिक राशि के माध्य निरपेक्ष त्रुटी में इसके माध्य मान से विभाजित करने से प्राप्त किया जाता है |

प्रतिशत त्रुटि ( Percentage Error )

जब हम किसी भी भौतिक राशि के आपेक्षित त्रुटी अर्थात Relative Errors का प्रतिशत(Percentage) निकालते है उसे प्रतिशत त्रुटि ( Percentage Error ) के रूप में जाना जाता है |

प्रतिशत त्रुटि (Percentage Error) = आपेक्षिक त्रुटि X 100 %

दुसरे शब्दों में कहें तो, जैसा की नाम से ही प्रतीत होता है प्रतिशत अर्थात Percentage त्रुटी, इसका मान निकालने के लिए आपेक्षित त्रुटी के परिमाण को सौ प्रतिसत से गुणा कर दिया जाये तो Percentage Error यानि प्रतिशत त्रुटी का मान आ जाता है