आपको मेजरमेन्ट यानि मापन के बारे में पता होगा, मापन का अर्थ होता है किसी भी भौतिक राशि की मात्रा को ज्ञात करने  में इस्तेमाल किया गया यन्त्र | और इस यन्त्र के सूचक अर्थात यूनिट को मात्रक कहतें है |

मात्रकों को दो रूपों में विभाजित किया गया है | पहला है फंडामेंटल यूनिट अर्थात मूल मात्रक और दूसरा डेराइव्द यूनिट या व्युत्पन्न मात्रक |

और इन मात्रकों के निर्धारण के लिए मात्रकों की पद्धति का निर्माण किया गया है | सभी प्रकार की भौतिक राशियों के मापन हेतु मुख्य तीन प्रकार की पद्दतिया प्रचलित है |

मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय पद्धति (SI Units)

मात्रकों की कई पद्दतियां होने और कई प्रकार की भौतिक राशियों के लिए अलग- अलग मात्रक, इस स्थिति में मात्रकों की संख्या बहुत अधिक हो जाती है |

इस परेशानी से निकलने के लिए सन् 1960 मात्रकों की अंतर्राष्ट्रीय पद्धति जिसे संछेप में SI Units का निर्माण किया गया | इस प्रणाली में सर्वत्र मीटर-किलोग्राम-सेकण्ड़ रूप से मापन किया जाता है |

इस पद्दति में मूल राशियों पर आधारित सात मूल मात्रक बनाये गए | और दो पूरक मात्रक बनाए गये, इन्ही की सहायता से अन्य व्युत्पन्न मात्रकों का विनिर्माण किया जाता है |

लम्बाई मीटर m
द्रव्यमान किलोग्राम kg
समय सेकेण्ड s
ताप केल्विन K
वैद्युत धारा ऐम्पियर A
ज्योति-तीव्रता केण्डिला cd
पदार्थ की मात्रा मोल (इकाई) mol

mks पद्धति:- 

इस पद्दति में लम्बाई और द्रव्यमान तथा समय के मात्रक मीटर और किलोग्राम तथा सेकंड का इस्तेमाल किया जाता है |

cgs पद्धति:-

CGS System या सीजीएस पद्दति में सेन्टीमीटर, ग्राम और सेकंड क्रमशः लंबाई, द्रव्यमान एवं समय के मात्रक के रूप में उपयोग किये जातें है |

fps पद्धति:-

इस पद्दति में फूट, पाउंड तथा सेकंड मात्रक क्रमशः भौतिक राशि  लंबाई, द्रव्यमान एवं समय के लिए इस्तेमाल किये जातें है |