इस गिलहरी को मालाबार विशालकाय गिलहरी भी कहा जाता है। यह भारत में पेड़ की गिलहरी की सबसे बड़ी प्रजाति है।

स्रोत: विकिपीडिया

इस गिलहरी का आकार 25.4-45.7 सेमी तक होता है और इनका वजन होता है 
1.5-2 किग्रा

वे भारत के विभिन्न राज्यों जैसे गुजरात, केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, झारखंड, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में पाए जाते हैं।

वे पेड़ों पर रहते हैं और सर्वाहारी हैं। वे स्वभाव से शर्मीले हैं जिससे उन्हें जंगल में ढूँढना मुस्किल हो जाता है

उनका संभोग अक्टूबर से जनवरी के महीने में शुरू होता है। 
इनका गर्भकाल अवधि 21-25 दिनों की होती है

जीवन अवधि जंगल में कम हो सकती है लेकिन इनकी अधिकतम जीवन अवधि (कैप्टिव – बंदी ) 20 वर्ष पाई गई।

स्रोत: animalpot.net

वे क्या खाते है?

चूंकि वे सर्वाहारी हैं। वे फल, नट, फूल, कीड़े, पक्षियों के अंडे का भोजन करते हैं।

वे पेड़ों में अपना आश्रय बनाते हैं और कभी-कभी एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर चले जाते हैं।

वे दो पैरों पर खड़े होकर और 2 हाथों का उपयोग करके खाते हैं। और अपने शरीर को संतुलित करने के लिए पूंछ का उपयोग भी करते हैं

वे अपने द्वारा खाए जाने वाले बीजों को फैलाते हैं, जो वनीकरण में मदद करता है।

ये एकान्त जानवर हैं जो ज्यादातर प्रजनन के समय एक साथ आते हैं।

स्रोत: सौम्यदीप चटर्जी