ज्यादातर लोग मानते है की इलेक्ट्रिक बल्ब का अविष्कार १८७९ में थॉमस अल्वा एडिसन द्वारा किया गया था लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है । हाँ, यह माना जा सकता है की उन्होंने व्यावसायिक रूप से ‘लुमेनसेंट प्रकाश’ बनाने का अविष्कार किया लेकिन वे प्रकाश का आविष्कार करने का मुख्य व्यक्ति नहीं थे ।

एडिसन के पहले ‘प्रकाश बल्ब’ के २० से अधिक निर्माता थे। फिर भी, एडिसन को अभी भी आविष्कार का श्रेय दिया जाता है क्योंकि उनके बनाये गये बल्ब तीनो कारकों (factors) को पुरा कर सकते थे ,वह कारक थे: आकर्षक चमकती सामग्री, दूसरों की तुलना में एक उच्च वैक्यूम और उच्च प्रतिरोधक स्तर।

इलेक्ट्रिक बल्ब की खोजों में से एक की प्रक्रिया सबसे पहले १८०२ में ‘हम्फ्री डेवी’ ने शुरू की, जिन्होंने विद्युत प्रवाह के बारे में विभिन्न संभावनाओं की खोज की और एक इलेक्ट्रिक बैटरी तैयार की। जब उसने तारों को अपनी बैटरी और कार्बन के साथ जोड़ा, तो कार्बनसे चमकता हुआ, प्रकाश निकल रहा था और इस संशोधन को “इलेक्ट्रिक आर्क लैंप” के रूप में जाना जाता था।लेकिन इस शुरुआती संस्करण में यह कमी थी कि ये प्रकाश तो उत्पन्न करता था, लेकिन प्रकाश लंबे समय तक नहीं टिक नहीं पता था और प्रकाश बहोत ज्यादा चमकदार था जो आंखों के लिए बिलकुल भी उपयुक्त नहीं था, जिसे दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों के लिए उपयुक्त नहीं माना गया था। उसके बाद सात दशकों में, विभिन्न संशोधकोंने प्रकाश बल्बों के विभिन्न रूपों को भी बनाया, हालांकि, व्यावहारिक उपयोग के लिए कोई भी रूप पर्याप्त नहीं था।

१८४० में, ब्रिटिश शोधकर्ता वॉरेन डी ला रु(Warren de la Rue) ने वैक्यूम ट्यूब में प्लैटिनम फाइबर कॉइल लगाया और इसके माध्यम से एक विद्युत प्रवाह पारित किया। यह प्रयोग इस तथ्य पर निर्भर था कि प्लैटिनम का उच्च पिघलने का बिंदु इसे उच्च तापमान पर काम करने में सक्षम बनाता है और खाली चैम्बर में प्लैटिनम के साथ प्रतिक्रिया करने के लिए कम गैस परमाणु होते हैं, जिससे इसके जीवन काल में वृद्धि होती है। यह प्रयोग यशस्वी होने के बावजूद , प्लैटिनम की उच्च लागत ने दैनिक उत्पादन के लिए इसे अनुचित बना दिया।

१८५० में एक और प्रयास किया गया था, जब एक अंग्रेजी भौतिक विज्ञानी ‘जोसेफ विल्सन स्वान’ ने एक स्पष्ट ग्लास में कार्बोनाइज्ड पेपर फाइबर को घेरकर एक इलेक्ट्रिक बल्ब संस्करण बनाया था। १८६० तक उनके पास एक वर्किंग मॉडल था, हालांकि एक अच्छे वैक्यूम की अनुपस्थिति और बिजली की पर्याप्त आपूर्ति ने एक बल्ब का निर्माण किया जिसका जीवनकाल अल्प था परन्तु इस चीज ने भविष्य की सम्भावनोंकी तरफ एक ओर कदम बढ़ाया।

१८७८ में, थॉमस एडिसन ने ऐसा प्रकाश बल्ब बनाने शोध शुरू किया जिसका वास्तव में उपयोग किया जा सके ।१४ अक्टूबर, १८७८ को, एडिसन ने “इलेक्ट्रिक लाइट्स में सुधार” के लिए अपना पहला पेटेंट आवेदन दाखिल किया। उन्होंने अपनी विशिष्ट योजना को बढ़ाने के लिए धातु फाइबर के लिए कुछ प्रकार की सामग्री का परीक्षण किया और ४ नवंबर, १८७९ को, तारों से जुड़े कार्बन फाइबर का उपयोग करते हुए एक विद्युत प्रकाश के लिए एक उपयोगी बल्ब का अविष्कार किया।