एक प्रोटॉन प्रत्येक परमाणु के नाभिक में पाया गया एक उपपरमाण्विक कण होता है। इस कण के पास इलेक्ट्रॉन के बराबर और विपरीत सकारात्मक विद्युत चार्ज होता है। एक प्रोटॉन में केवल 1.673 का द्रव्यमान होगा? 10-27 किलोग्राम, न्यूट्रॉन के द्रव्यमान से थोड़ा सा कम होता है ।

किसी तत्व के नाभिक में प्रोटॉन की संख्या को परमाणु संख्या कहा जाता है। यह संख्या प्रत्येक तत्व को अपनी अनूठी पहचान देती है। किसी विशेष तत्व के परमाणुओं में, नाभिक में प्रोटॉन की संख्या हमेशा समान होती है। सिर्फ हाइड्रोजन के परमाणु में एक नाभिक होता है जिसमें एक ही प्रोटॉन होता है। अन्य सभी तत्वों के नाभिक में लगभग हमेशा प्रोटॉन के अलावा न्यूट्रॉन भी होते हैं।

प्रोटोन के पास भी कई प्रकार की अपनी विशेषताएं होती है | यह चुम्बकीय क्षेत्र या विदुतीय क्षेत्र द्वारा इनकी गति को बढाया जा सकता है क्यूंकी इनके पास विद्दुत आवेश होता है | यह सिर्फ किसी परमाणु के नाभिक में ही नही पाए जाते वरन कभी-कभी नाभिक के बाहर भी पाए जाते है तो वे समान परिस्थितियों में न्यूट्रॉन के समान आकर्षक, विचित्र और संभावित रूप से खतरनाक गुण प्राप्त करते हैं |