जीवाणु एक एककोशकीय जीव है। जीवाणु एक अकेंद्रिक या प्रोकेरियोट जीव है। ऐसे जीव का केन्द्रक (न्यूक्लियस) नही होता। जीवाणु  (बैक्टीरिया) हर जगह पाए जाते हैं समुद्र में , मिट्टी में, हमारे शरीर में। कई जीवाणु हमारे शरीर के लिए अच्छे भी हैं  तो कई हमे बीमार भी कर देते हैं। जैसे की दही में पाया जाने वाला जीवाणु हमारे शरीर के लिए उपयोगी है वही निमोनिया का जीवाणु हमे बीमार कर देता है।

जीवाणु अलैंगिक प्रजनन करते है। वे द्विखण्डन द्वारा दो भागो में विभाजित हो जाते हैं। जिसमे की जनक कोशिका (Parent cell) डीएनए का कॉपी करके फ़ैल जाता है और बाद में बिच से द्विखण्डन द्वारा दो भागो में विभाजित हो जाता है।

विभाजन के बाद पुत्री कोशिका (Daughter cells) और जनक कोशिका (Parent cell) दोनों का डीएनए समान होता है।