जब आप जिम में खूब पसीना बहाते हो या सही तरीके से कसरत करते हो तो आपकी मांसपेशियों में दर्द होने लगता है।  यह भी माना जाता है कि कसरत के दौरान अगर आपकी मांसपेशी में दर्द नहीं हुआ तो इसका मतलब यह है कि आपने सही मायने में कसरत नहीं की।  कई लोग इस दर्द से बचने के लिए कम कसरत करते हैं या सही तरीके से कसरत नहीं करते हैं। कसरत के बाद हमारी मांसपेशियों में दर्द होना बेहद जरुरी है।  इसी से हमें इस बात का अंदाजा लगता है कि हमने अपने शरीर पर कितनी मेहनत की।

दरअसल मांसपेशी में दर्द होने की वजह आपकी मांसपेशी में आने वाला खिंचाव है। इससे इस बात का भी पता लगता है कि आपके मांसपेशी अब रिकवरी की स्थिति में आ गयी है। जिसकी वजह से आपकी मांसपेशी न सिर्फ मजबूत होगी बल्कि यह पहले से भी बड़ी हो जाएगी। यही वजह है कि कसरत या जिम करने के बाद मांसपेशियों में दर्द होता है।

जिम ट्रेनर आपको हिदायत देते हैं कि एक सेट लगाने के बाद वेट बढ़ा लेना चाहिए। दरअसल वो इसलिए ताकि आप प्रिंसिपल मांसपेशी को कन्फ्यूज कर सकें। वहीं इसकी वजह यह है कि मांसपेशी पर ज़्यादा से ज़्यादा दबाव देने से यह और मजबूत होती है। दरअसल हमारा शरीर किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं चाहता जब हम जिम से इसमें बदलाव करने की कोशिश करते हैं तो मांसपेशी में दर्द होने लगता है।

एक हफ्ते लगातार जिम करने से आपकी मांसपेशी में दर्द होता है मगर उसके बाद वो दर्द कम हो जाता है, इसके पीछे यह वजह है कि आपका शरीर अब इस बदलाव में ढल गया है। और अब आपके शरीर की मांसपेशियों ने इस पर प्रतिक्रिया देना बंद कर दिया है।