हम देखतें है की कोई भी भारी वस्तु पानी में बड़े आसानी से डूब जाती है परन्तु इतना बड़ा जहाज पानी के उपर तैरता रहता है | है न अजीब बात ? की एक छोटा सी लोहे की गेंद पानी में डूब जाती है परन्तु इतना बड़ा लोहे का जहाज पानी में तैरता रहता है | क्या आपने सोच है ऐसा क्यों होता है ?

एक जाने- माने भौतिकशास्त्री आर्क्मडीज द्वारा एक सिद्धांत दिया गया है, जिसके अनुसार जब किसी वस्तु को पूरी तरह या आंशिक रूप में किसी द्रव में डुबोया जाता है तो वह हल्की हो जाती है,अर्थात आभासी रूप में उसके भार में कमी आ जाती है | और यह आभासी भार में कमी वस्तु द्वारा हटाये गए द्रव के बराबर होती है |

लोहे की छोटी सी गेंद पानी में इस कारण डूब जाती है क्यूंकि उसके द्वारा हटाये गए जल का भार उस गेंद के भार से कम होता है | जबकि जहाज इसलिए नही डूबता क्यूंकि उसके द्वरा हटाये गये जल का भार उसके भार के बराबर होता है | इसलिए वह पानी में तैरता रहता है |