क्या आपको पता है की आखिर पानी बेरंग क्यूँ दिखाई देता है ? तथ्य जानने से पहले, आपको यह पता होना चाहिए की आखिर रासायनिक अणुओं के रंग के पीछे का मूल सिद्धांत क्या है |

एक रसायन का रंग उसका भौतिक गुण है। रासायनों की दुनिया में, सभी परमाणु या अणु ऊर्जा को अवशोषित करने और मुक्त करने में सक्षम होते हैं। दरसल रसायनों में रंग इलेक्ट्रानों द्वारा बाहरी उर्जा को अवशोषित करने से जो इनमें उत्तेजना आती है उसकी वजह से आता है |

जो रंग हम अपनी आँखों से देख पातें है वह दरसल पूरक रंग होतें है जो की इनके द्वरा `अवशोषित उर्जा तरंग दैर्ध्य को छोड़ने पर उत्पन्न होतें है |

पानी बहुत ही सरल अणुओं से बना होता है ऑक्सीजन और हाइड्रोजन जो बहुत अधिक ऊर्जा को अवशोषित करने में असमर्थ हैं। इसलिए, जब पानी के माध्यम से दृश्य प्रकाश गुजरता है, तो यह बहुत अधिक दृश्यमान प्रकाश या ऊर्जा को अवशोषित करने में असमर्थ होता है। पानी के दो क्वांटम राज्यों की ऊर्जा के बीच का अंतर बहुत कम है, इसलिए, पूरक रंग उत्पन्न नहीं होता है। और यह बेरंग दिखाई देता है |