एक इलेक्ट्रॉन एक नकारात्मक चार्ज का उपपरमाण्विक कण है। यह या तो मुक्त हो सकता है (किसी भी परमाणु से जुड़ा नहीं), या परमाणु के नुक्लिअस से बंधा हुआ हो सकता हैं। परमाणुओं में इलेक्ट्रॉन विभिन्न त्रिज्या के स्फेरिकल सेल्स में मौजूद होते हैं | हर स्फेरिकल सेल्स ऊर्जा के स्तर को बताता है | स्फेरिकल सेल्स जितना बड़ा होगा, इलेक्ट्रॉन में निहित ऊर्जा उतनी ही अधिक होगी।

इलेक्ट्रोन हमेशा निगेटिव पोल से पॉजिटिव इलेक्ट्रिक पोल की ओर चलतें है | अर्धचालक पदार्थों में धारा का प्रवाह इलेक्ट्रानो के संचार के कारण होता है| एक अर्धचालक में, एक इलेक्ट्रॉन-कम परमाणु को होल कहा जाता है। सामान्य रूप से यह नेगेटिव से पॉजिटिव यानि की होल की ओर चलतें है जिससे विद्युत धारा का प्रवाह होता है |

इलेक्ट्रान को e द्वारा प्रदर्शित किया जाता है | एक इलेक्ट्रॉन चार्ज लगभग 1.60 x 10-19 c होता है | तथा एक इलेक्ट्रान का द्रव्यमान 9.11 x 10-31 किलोग्राम (किग्रा) होता है | इलेक्ट्रॉनों के पास कोई ज्ञात घटक या संरचना नहीं होती है और इसलिए उन्हें आम तौर पर प्राथमिक कण यानी एलिमेंट्री पार्टिकल माना जाता है।