Computer Virus (कंप्यूटर वायरस) क्या होता है?

आज के इस लेख में हम कंप्यूटर वायरस (Computer Virus) के बारे में बात करने वाले हैं, जैसे कि कंप्यूटर वायरस क्या है, इसका पूरा नाम क्या है, यह कितने टाइप्स(Types) के हैं इत्यादि के बारे में बताने वाले हैं।

Computer Virus क्या है?

वायरस (VIRUS) का पूरा नाम होता है Vital Information Resources Under Siege। कम्प्यूटर में वायरस छोटे- छोटे प्रोग्राम होते है, जो auto execute program हैं। 

यह कम्प्यूटर के अंदर जाकर कम्प्यूटर की कार्य प्रणाली को प्रभावित करते हैं इसी को वायरस कहा जाता है। वायरस आपके कंप्यूटर के सिस्टम को fail कर सकता है, आपके कंप्यूटर को हैक या उसमें से आपकी पर्सनल जानकारियाँ तक चुरा सकता है। 

कंप्यूटर वायरस एक कंप्यूटर प्रोग्राम (Computer Program) है जो अपनी प्रति लिपि (copy) कर सकता है और यूज़र के बिना  अनुमति के कंप्यूटर को संक्रमित कर सकता है जिसके बारे में कंप्यूटर उपयोगकर्ता को इसका पता भी नहीं चलता है। अब आप सोच रहे होंगे की यह कैसे हो सकता है वायरस किसी कम्प्यूटर के अंदर कैसे जा सकता है।

दरअसल वायरस एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम है जो खुद को कॉपी करके एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में जा सकता है। एक वायरस एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में तभी पहुंच सकता है, जब इसका होस्ट एक असंक्रमित कंप्यूटर में लाया जाता है।

वायरस अपने आपको कॉपी करके एक फ़ाइल से दूसरे फ़ाइल और एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में चला जाता है। वायरस एक पेन ड्राइव के जरिए एक PC से दूसरे PC तक पहुंच सकता है।

कंप्यूटर को वायरस से सुरक्षित रखने के लिए वायरस को समझना जरूरी होता है। आज के इस पोस्ट में हम आपको इसके बारे में भी बताने वाले हैं। 

Malware 

Malware ओर Virus दोनो अलग अलग टर्म होते हैं। मैलवेयर जनरल टर्म है, जिसका मतलब होता है मैलिसस सॉफ्टवेयर, यानी कोई भी चीज जो आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा दें। मैलवेयर में वायरस, ट्रोजन हॉर्सेज, स्पाइवेयर, स्कैरवेयर इत्यादि शामिल होते हैं।

Spyware 

स्पाइवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है, जो कंप्यूटर पर इनस्टॉल होता है और सूचनाएं इकट्ठा करके सॉफ्टवेयर को बनाने वाले के पास भेजता है यह पर्सनल सूचनाएं चुराता है।

Scareware 

इसमें यूजर के पास मैसेज आता है कि यह एक फ्री का एंटीवायरस है जिसे डाउनलोड करने के लिए आपको लिंक पर क्लिक करने को कहते हैं ऐसे लिंक पर क्लिक करने से यह स्पाइवेयर आपके कंप्यूटर में आ सकता है। यह आपके कंप्यूटर और पर्सनल जानकारी को हानि पहुंचा सकता है।

ऐसे सभी प्रकार के वाइरसो से आपके कंप्यूटर को हानि पहुँच सकता है और आपकी पर्सनल जानकारी भी लीक हो सकती है। ऐसे वाइरसो से बचने के लिए आपको अपने कंप्यूटर को संक्रमित डिवाइस से दूर रखना चाहिए और अपने कंप्यूटर में कोई अच्छा सा है एंटीवायरस इनस्टॉल करके रखना चाहिए। 

एंटीवायरस, वायरस को आपके कंप्यूटर में आने से रोकने में आपकी मदद करेगा और पहले से आपके कंप्यूटर में मौजूद वायरस को खत्म करेगा।

एंटीवायरस (Antivirus)

एंटीवायरस एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो किसी भी मैलवेयर को कंप्यूटर में आने से रोकता है। अगर कंप्यूटर में मैलवेयर आ जाता है तो उसका पता लगाना ओर उसे कंप्यूटर से हटाना भी एंटीवायरस की जिम्मेदारी होति है।

अगर आप अपने कंप्यूटर पर ज्यादा इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो आपको वायरस से बचने के लिए अपने कंप्यूटर में प्रीमियम एंटीवायरस रखना चाहिए और अगर आप ज्यादा इंटरनेट उपयोग नहीं करते तो वायरस से बचने के लिए आप अपने कंप्यूटर में फ्री एंटीवायरस डाल सकते हैं।

कंप्यूटर वायरस के बारे में यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट करके बताना ना भूले । इस पोस्ट से जुड़ा अगर आपका कोई सवाल है तो भी आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो इस पोस्ट को लाइक करें और शेयर जरूर करें।


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *