पानीपत का युद्ध Panipat ka Yudh

भारत का इतिहास अत्यधिक बड़ा व विविधताओं वाला है| प्राचीन होने के कारण यह रुचिकर है और प्रसिद्ध भी| आज के इस लेख में हम पानीपत के युद्ध के बारे में बताएँगे| पानीपत के युद्ध इतिहास में अपनी अलग छवि के नाम से प्रसिद्ध है| अभी तक के इतिहास में पानीपत के तीन युद्ध हुए […]

तुगलक वंश एवं दिल्ली सल्तनत Tughlak Vansh Evm Delhi Saltnat

तुगलक वंश ने दिल्ली सल्तनत पर काफी समय तक शासन किया एवं इसमें तीन शासक ऐसे हुए जिन्हें आज भी उनकी नीतियों एवं कार्यों के कारण जाना जाता है| तुगलक वंश का शासन काल 1320 से लेकर 1414 तक माना गया है| खिलजियो के अंत के साथ ही दिल्ली सल्तनत में तुगलक वंश का राज […]

मोहनजोदड़ो सभ्यता का उद्भव एवं विनाश MohanjoDaro Sabhyta ka Udbhav evm Vinash

सिन्धु घाटी सभ्यता का नाम तो आप सभी ने सुना ही होगा, इसी सभ्यता से जुड़ा एक नगर है-मोहनजोदडों। आज से लगभग 2600 ईसा पूर्व इस नगर का विकास हुआ था। इसके भिन्न-भिन्न उच्चारण हैं- मुअन जोदडों, मोहनजोदरों, मोहेंजो दारों। सिन्धी भाषा के इस शब्द का मतलब है- ‘मुर्दों का टीला’। यह दुनिया के प्राचीनतम […]

वीर छत्रपति शिवाजी Veer Chatrpati Shivaji

मराठा साम्राज्य की नीव रखने वाले भारत के महान सम्राटों में से एक नाम वीर शिवाजी का भी सम्मिलित किया गया है| इन्होने अपने समय में कई युद्ध किये एवं हर बार अपनी वीरता का परिचय देते हुए किसी के सामने घुटने नहीं टेके| शिवाजी ने कई युद्ध प्रणालियाँ भी विकसित की, जो काफी प्रसिद्ध […]

मुगल साम्राज्य की स्थापना, शाहजहाँ एवं औरंगजेब Mugal samrajay ki Sthapana Shahjahan evn Aurangzeb

मुग़ल साम्राज्य के अंतर्गत कई ऐसे महान शासक हुए जिन्हें आज भी इतिहास उनकी उदारता एवं कला से प्रेम के कारण याद रखता है| बाबर से लेकर औरंगजेब तक मुगल साम्राज्य सबसे अधिक शक्तिशाली माना जाता रहा एवं इसने सम्पूर्ण भारत पर अधिकार करते हुए अनेक जगह अपनी विजय का परचम लहराया| बाबर: मुगल साम्राज्य […]

झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई Jhansi ki Rani Laxmi Bai

बचपन एवं विवाह: रानी लक्ष्मी बाई का जन्म का वास्तविक नाम ‘मणिकर्णिका’ था और प्यार से इन्हें मनु कहकर बुलाया जाता था| इनका जन्म मराठी ब्राह्मण परिवार में 19 नवम्बर 1828 ई. को उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी में हुआ था और मृत्यु 29 वर्ष की आयु में जून 1858 ई. को ग्वालियर के कोटा […]

पाषाण काल की विभिन्न अवस्थाएं Pashan Kaal ki Vibhinn Avasthaaye

पाषाण संस्कृत भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है पत्थर, यह उस समय का इतिहास है जब मानव पत्थरों पर अधिक आश्रित था एवं उसे चीजों के इस्तेमाल का ज्ञान न के बराबर ज्ञान था| पाषाण काल को प्रागीतिहासिक या Pre-Historic काल भी कहा जाता है| पाषाण काल का समय 6 लाख ई.पूर्व के […]