ग्रहों के नाम हिंदी व अँग्रेजी

ग्रह यानि कि प्लेनेट (Planet),  यह शब्द ग्रीक भाषा के शब्द प्लेनेटिया से बना है। प्लेनेटिया का मतलब होता है- यात्री।  हमारे सौरमण्डल के ग्रह भी यात्री के समान घूमते रहते हैं। ग्रह सूर्य की कक्षाओं में इसके चारों ओर गति करते हुए घूमते हुए चक्कर लगाते रहते हैं।  पहले सन् 2006 तक ग्रहों की […]

वैज्ञानिको ने ब्लैक होल की तस्वीरें कैसे ली?

ब्लैक होल को अब तक ब्रह्मांड में मौजूद सबसे रहस्यमय खोजों में से एक माना जाता रहा है| आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि ब्लैक होल की सीधी तस्वीर लेना मुमकिन नहीं है क्योकि ब्लैक होल अपने पास किसी भी किरण, गामा किरन, प्रकाश, या प्रतिबिम्ब लेने वाली किसी भी रे को अपने अंदर खींच […]

शुक्र ग्रह (Venus) के रोचक तथ्य

प्रेम और सौन्दर्य का प्रतीक माने जाने वाले शुक्र ग्रह को Venus नाम रोमन की पूजनीय देवी के नाम पर दिया गया है| सौरमंडल में इसे सूर्य से दूरी एवं इसके बड़े आकार के आधार पर छठा स्थान दिया गया है| शुक्र को अवर ग्रह की श्रेणी में रखा गया है क्योंकी पृथ्वी से देखने […]

बृहस्पति (Jupiter) ग्रह से जुडी रोचक जानकारी

अपने विशाल आकार एवं भारी वजन के कारण बृहस्पति को सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है| सूरज से दूरी के आधार पर यह पांचवे नम्बर का ग्रह माना गया है जिसे कुछ वैज्ञानिक गैस का राक्षस भी कहते है| यदि चमक की बात करे तो इसका स्थान चौथा है, इससे पहले सूर्य, […]

आकाशगंगा क्या है Milky Way in Hindi

आकाशगंगा लाखों तारों का एक समूह होती है, जो गुरुत्वाकर्षण की शक्ति से एक-दूसरे के करीब होते हैं। इनका आकार अण्डाकार हो सकता है तथा कुछ आकाशगंगा अनियमित आकार में भी हो सकती हैं।  हम पृथ्वी पर रहते हैं, जो कि एक ग्रह है। हमारे सौरमण्डल में पृथ्वी के अतिरिक्त अन्य ग्रह भी मौजूद है। […]

ब्रह्माण्ड में मौजूद कणों का इतिहास

ब्रह्माण्ड किन चीजों से बना है मानव के धरती पर कदम रखने के बाद से मानव की मुख्य सोच यही रही है कि सारा ब्रह्माण्ड किससे निर्मित हुआ है। आरम्भ में यह धारणा थी कि ब्रह्माण्ड में स्थित सभी सजीव व निर्जीव पंच तत्वों से आकाश, पृथ्वी, वायु, अग्नि व जल से मिलकर बने हैं। […]

इसका मतलब क्या है,  जब वे कहते हैं कि ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है?

यह सम्पूर्ण सृष्टि जिज्ञासाओं से भरी हुई है, मानव मस्तिष्क आदि काल से क्यों, कहाँ, कब जैसे सवालों का पीछा करता आया है। मगर वो जितना इसे जानने के करीब आता है, यह सवाल और विस्तार रूप ले कर उलझने बढ़ा देते हैं। यही वजह है कि सृष्टि ब्रह्माण्ड के बारे में इतना कुछ जानने […]