ग्रहों के नाम हिंदी व अँग्रेजी

ग्रह यानि कि प्लेनेट (Planet),  यह शब्द ग्रीक भाषा के शब्द प्लेनेटिया से बना है। प्लेनेटिया का मतलब होता है- यात्री। 

हमारे सौरमण्डल के ग्रह भी यात्री के समान घूमते रहते हैं। ग्रह सूर्य की कक्षाओं में इसके चारों ओर गति करते हुए घूमते हुए चक्कर लगाते रहते हैं। 

पहले सन् 2006 तक ग्रहों की कुल संख्या 9 मानी जाती थी। नौवें ग्रह में Pluto (यम) को सम्मिलित किया जाता था। लेकिन उसी वर्ष “अंतर्राष्ट्रीय खगोलीय संघ” IAU द्वारा यह तथ्य पेश किये गए कि यम ग्रह सूर्य से अत्यधिक दूरी पर स्थित है, जिसे ग्रहों की श्रेणी में नही रखा जाना चाहिए। अतः यम ग्रह को उस श्रृंखला से बाहर करते हुए श्रेणी में कुल 8  मुख्य ग्रहों को स्थान दिया गया।

वर्तमान समय में हमारे सौरमण्डल में आठ ग्रह हैं। जो ये हैं-

पृथ्वी Earth

बृहस्पति Jupiter

मंगल Mars

बुध Mercury

वरुण Neptune

शनि Saturn

अरुण Uranus

शुक्र Venus

सबसे बड़ा व वजनी ग्रह बृहस्पति है। सबसे छोटा ग्रह बुध है और यह सूर्य के सर्वाधिक निकट स्थित है। शुक्र सबसे चमकदार ग्रह है। वरुण ग्रह सूर्य से सर्वाधिक दूर स्थित ग्रह है, इसे हरा ग्रह भी कहते हैं और सर्वाधिक ठण्डा ग्रह है। पृथ्वी को नीले ग्रह के नाम से जाना जाता है। मंगल को लाल ग्रह भी कहते हैं|

वैज्ञानिको ने ब्लैक होल की तस्वीरें कैसे ली?

ब्लैक होल को अब तक ब्रह्मांड में मौजूद सबसे रहस्यमय खोजों में से एक माना जाता रहा है| आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि ब्लैक होल की सीधी तस्वीर लेना मुमकिन नहीं है क्योकि ब्लैक होल अपने पास किसी भी किरण, गामा किरन, प्रकाश, या प्रतिबिम्ब लेने वाली किसी भी रे को अपने अंदर खींच लेता है|

तो फिर अप्रैल 2019 को ब्लैक होल की जो तस्वीर विश्व भर में प्रसिद्ध हुई वो कैसे ली गई होगी इसी के बारे में हम आपको जानकारी देंगे|

क्या है ब्लैक होल?

ब्लैक होल हमारे सूरज से तकरीबन 650 करोड़ अधिक द्रव्यमान एवं 100 अरब किमी. दूर तक फैला हुआ एक ऐसा खड्डा है जो पृथ्वी से साड़े 5 करोड़ प्रकाश वर्ष दूर है एवं यह अपने विस्तार में आने वाली किसी भी चीज जैसे तारे, उल्कापिंड, या मानवनिर्मित वस्तुओ को अंदर खीचं लेता है|

कैसे ली गई ब्लैक होल की तस्वीर?

ब्लैक होल की जो तस्वीर सामने आई है वह सीधी न लेकर आभासीय या वर्चुअल इमेज है जिसे ब्लैक होल के नजदीक उपस्थित घटना क्षितिज से मिले डाटा के द्वारा निर्मित किया गया है|

इस प्रक्रिया को VLBI या Very Long Baseline Infromatery भी कहा जाता है जिसमे विश्व में स्थापित 8 अत्यंत शक्तिशाली टेलिस्कोप द्वारा डाटा इकठा करके अर्जित किया गया|

इस विशाल टेलिस्कोप के संयोजन से अन्तरिक्ष में झांक पाना बेहतर हो गया एवं ब्लैक होल की आभासीय इमेज बनाई जा सकी|

ब्लैक होल की इमेज लेने के लिए 2017 से NASA द्वारा प्रयत्न किये जा रहे थे किन्तु नाकामयाब रहे पर अब 2019 में कामयाबी हासिल हुई|

खगोलविदों के लिए ब्लैक होल अभी भी एक पहली बना हुआ है एवं इसका तीव्र गुरुत्वाकर्षण बल एक दानव की भांति हर चीज को निगल जाता है| वैज्ञानिको का मानना है कि भविष्य में शायद इसकी रियल एवं मूल तस्वीर ली जा सकेगी|     

शुक्र ग्रह (Venus) के रोचक तथ्य

प्रेम और सौन्दर्य का प्रतीक माने जाने वाले शुक्र ग्रह को Venus नाम रोमन की पूजनीय देवी के नाम पर दिया गया है| सौरमंडल में इसे सूर्य से दूरी एवं इसके बड़े आकार के आधार पर छठा स्थान दिया गया है|

शुक्र को अवर ग्रह की श्रेणी में रखा गया है क्योंकी पृथ्वी से देखने पर यह सूर्य से ज्यादा दूर प्रतीत नहीं होता|

यहाँ हम शुक्र ग्रह से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों का वर्णन करेंगे परन्तु उससे पहले इसकी रुपरेखा को समझना अनिवार्य है|

रुपरेखा या The Profile of Venus:

ध्रुवीय विकास- 12,104 किमी.

सूर्य से दूरी- दस करोड़ बयासी लाख किमी.

उपलब्ध उपग्रह- एक भी नहीं

एक वर्ष- पृथ्वी के 224.7 दिनों के समान

वजन- 486732 अरब अरब किलोग्राम

भू-मध्य व्यास- 38,025 कि.मी.

Facts of Venus:

# शुक्र ग्रह पृथ्वी से काफी बातो में समान नजर आता है, जैसे कि इसका आकार, सरंचना, गुरुत्वाकर्षण बल इसलिए इसे पृथ्वी की सिस्टर भी कहा जाता है| दोनों का घनत्व एक जैसा है एवं क्रेटर की कमी है|

# शुक्र ग्रह का एक दिन पृथ्वी के एक साल से भी बड़ा होता है क्योंकी अपनी धुरी पर एक राउंड पूरा करने में शुक्र ग्रह को 243 दिन लगते है जो हमारे यहाँ साल से थोडा कम समय ही है एवं ये दिन सूर्य के चक्कर पूरा करने से भी अधिक है|

# शुक्र एक स्थलीय ग्रह है जो चारों तरफ से बादलों की मोटी परत से ढका हुआ है| सल्फ्यूरिक एसिड के ये बदल शुक्र को पूरी तरह आच्छादित किये हुए है जिससे इसकी सतह का पता नही लग पाता एवं तेज रफ्तार से हवाएं चलती है जिनकी गति कई बार 350 किमी. तक हो जाती है|

# पृथ्वी से समानता होने के कारण पहले ऐसा माना गया के यहाँ जीवन की सम्भावना हो सकती है किन्तु जब भेजे गये उपग्रहों ने यहाँ खोजबीन की तब पता लगा कि शुक्र पर जीवन का कोई नामोनिशान नहीं था न ही कभी सम्भव हो सकता है|

# शुक्र को सबसे गर्म ग्रह माना गया है क्योंकी इसका आसपास का बातावरण कार्बन डाई ऑक्साइड से निर्मित हुआ है जिससे ग्रीन हाउस गैसों का निर्माण होता है एवं सूर्य से आने वाली गर्मी से इसका तापमान 462 डिग्री c तक पहुच जाता है| वायुमंडल में इतने दबाव के कारण यहाँ जीवन सम्भव नहीं है इतना दबाव समुंद्र के 1 किमी. नीचे पाया जाता है|

# अब तक शुक्र पर 20 से अधिक यान भेजे जा चुके है एवं सबसे पहले रूस ने वेनिरा 1 मिशन को 1961 ई. में शुक्र पर भेजा किन्तु यह मिशन सफल नही हो सका| उसके बाद अमेरिका ने मेरिनर 1 को शुक्र पर भेजा पर वह भी सफल नहीं हुआ फिर मेरिनर 2 को भेजा गया जिससे काफी डाटा खोजने में सहायता मिली| अंत में रूस ने फिर से वेनिरा 3 को भेजा जो सतह तक जाने जाने वाला पहला यान बना| इसके पश्चात वेनेरा 4 ने शुक्र के चुम्बकीय फील्ड का पता लगाया जिसे पृथ्वी की तुलना में काफी कमजोर पाया गया|

# शुक्र पर कई जगह छोटे-छोटे गड्डे एक ही स्थान पर पाए गये है जिससे अनुमान लगाया गया कि टूटकर आने वाले उल्का पिंड शुक्र के गर्म वायुमंडल से टकराकर छोटे भागों में टूटकर इससे टकराए होगे|

# पहले रोमन एवं ग्रीक लोगों में यह मान्यता थी कि शुक्र एक नहीं बल्कि दो ग्रह है| किन्तु बाद में सच का पता लगने पर यह पाया गया की यह एक ही ग्रह है एवं आकाश में सबसे चमकने वाला ग्रह है इसलिए इसे एश्वर्य, वैभव, एवं प्यार का ग्रह माना गया एवं ज्योतिष शास्त्र में भी इसका काफी महत्व है|

# यूरोपियन एजेंसी ने 2006 में अपने भेजे गये space shuttle से शुक्र पर 1000 से अधिक ज्वालामुखीयों की खोज की जिसमे से कुछ एक ही सक्रिय अवस्था में है बाकी सब सुप्त है| इसके सबसे विशाल ज्वालामुखी का नाम Matt Mons है जो 5 मील तक ऊँचा है| इनसे निकलने वाले लावा के कारण शुक्र ग्रह का अधिकतम हिस्सा चट्टानी एवं चिकना है|

# प्राचीन समय में Babylonians शुक्र के द्वारा समय एवं तारीख का पता लगाया करते थे| अपनी असीम चमक के कारण इसे शुरू से ही “भोर का तारा” एवं “साँझ का तारा” कहकर पुकारा जाता है|

# शुक्र ग्रह अन्य सभी ग्रहों की विपरीत दिशा में गति एवं घूर्णन करने वाला इकलौता ग्रह है|  

बृहस्पति (Jupiter) ग्रह से जुडी रोचक जानकारी

अपने विशाल आकार एवं भारी वजन के कारण बृहस्पति को सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है| सूरज से दूरी के आधार पर यह पांचवे नम्बर का ग्रह माना गया है जिसे कुछ वैज्ञानिक गैस का राक्षस भी कहते है|

यदि चमक की बात करे तो इसका स्थान चौथा है, इससे पहले सूर्य, चन्द्रमा, एवं शुक्र ग्रह अधिक चमकीले होते है| देखने में यह पीले रंग का दिखाई पड़ता है, एवं अंग्रेजी में बृहस्पति को Jupiter कहा जाता है|

आज हम आपको बृहस्पति से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों से अवगत करवायंगे जिससे सौरमंडल के एक और अद्भुत ग्रह के बारे में आप जान सकेंगे, परन्तु पहले इसकी रुपरेखा के बारे में जानना आवश्यक है:-

बृहस्पति का वजन- 18.98.130 खरब किलोग्राम, पृथ्वी से कई सौ गुना अधिक

भू-मध्य व्यास- 1.42.984 कि.मी.

सूर्य से दूरी- 77.83.40.821 कि.मी.

ध्रुवीय व्यास- 1.33.709 कि.मी.

सतह का तापमान- -108c

उपलब्ध उपग्रह- 79

भू-मध्य रेखा की लम्बाई- 4.39.264 कि.मी.

रोचक तथ्य:

# अपने विशाल आकार एवं अत्यधिक द्रव्यमान के कारण यह सबसे बड़ा ग्रह माना गया है, जिसका वजन हमारी पृथ्वी से 317.83 गुना अधिक है, जो काफी ज्यादा है|

# बृहस्पति के उपर वायुमंडल को निर्मित करने के लिए कई प्रकार का बादलों की परतें नजर आती है जिनमे रासायनिक प्रतिक्रियाएं होती रहती है, इन्ही के कारण बृहस्पति में विभिन्न प्रकार के रंग नजर आते है|

# बृहस्पति की सतह ठोस न होकर गैसीय होती है एवं गहराई बढने के साथ इस गैसों का घनत्व भी बढ़ता जाता है इसलिए इसे गैस का दानव ग्रह भी कहा जाता है|

बृहस्पति अपनी धुरी पर तेजी से चक्कर लगाता है जिसके कारण इसका एक दिन अन्य ग्रहों की अपेक्षा काफी छोटा होता है एवं यह केवल 9 घन्टे 55 मिनट या 10 घन्टे का ही होता है एवं तीव्र गति से घुमने के कारण इसका आकार दूर से चपटा नजर आता है|

# यह 90% हाइड्रोजन, 10% हिलीयम, थोड़ी बहुत अमोनिया, मिथेन, एवं पानी व् कठोर चट्टानी कणों के संयोजन से मिलकर निर्मित हुआ है|

# यदि आप बृहस्पति ग्रह की तस्वीर देखेंगे तो इसमें लाल रंग की आँख के जैसी आकृति नजर आएगी जिसे बृहस्पति की लाल आँख भी कहा जाता है| इस ग्रह पर तकरीबन 350 वर्षों से तूफ़ान उठ रहे है जो कि इतने विशाल है, कि उसमे हमारी पृथ्वी के जैसी 3 या 4 ग्रह समा सकते है| बृहस्पति की लाल आँख के उभरने का कारण भी लाल बादलों का अधिक समय तक उसी अवस्था में बने रहना बताया गया है किन्तु यह अभी तक पता नहीं लग पाया कि ये लाल बदल इतने समय तक उच्च दबाव वाले स्थान में जैसे के तैसे कैसे बने हुए है|

# बृहस्पति पर जब सूरज की पराबैंगनी किरने पडती है तो इसके बादलों का रंग भी बदलता रहता है|

# बृहस्पति पर 360 कि.मी. प्रति घंटा की तेजी से तूफानी हवाए चलना आम बात है| इसपर दिखने वाले बदल अमोनिया हाइड्रो सल्फाइड एवं अमोनिया क्रिस्टल से बने होते है जिनका प्राक्रतिक रंग भूरा एवं नारंगी होता है|

# सर्वप्रथम गैलीलिओ ने सन 1610 ई. में बृहस्पति ग्रह को अपनी दूरबीन से देखा था एवं उन्होंने ही इसके उपग्रहों की खोज की थी, जिनके नाम है: आयो, गैनिमिड, युरोपा, और कैलिस्टो| इन उपग्रहों को “ गैलीलियन उपग्रह” के नाम से भी जाना जाता है|

# बृहस्पति का गैनिमिड उपग्रह बुध ग्रह से काफी बड़ा है जिसे अब तक का सबसे बड़ा उपग्रह माना गया है| युरोपा पर एक विशाल समुंद्र हो सकता है ऐसा वैज्ञानिको का मानना है इसी कारण इस उपग्रह को विशेष दर्जा प्राप्त है|

# बृहस्पति ग्रह अपने गुरुत्वाकर्षण द्वारा कई बड़े पथरों को पृथ्वी तक आने से पहले अपने में समा लेता है इसलिए इसे पृथ्वी का vacume cleaner भी कहा जाता है| यदि बृहस्पति ग्रह न हो तो पृथ्वी का विनाश होने में समय नहीं लगेगा| इसका गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी से 2.4 गुना अधिक है आसान शब्दों में कहे तो यदि धरती पर आपका भर 40 kg है तो Jupiter पर यही भार 94 किलो होगा|

# गैलिलियो ने अपनी खोज में यह सत्य उजागर किया कि पृथ्वी ब्रह्मांड का केंद्र नहीं है| साथ ही बृहस्पति के उपग्रह उसका चक्कर लगाते है एवं अन्य ग्रह केवल पृथ्वी की परिक्रमा नहीं करते| उनके इस तथ्य का जोरदार विरोध किया गया जिसके चलते गैलिलियो ने सजा मिलने के डर से अपना बयान वापस लिया एवं माफ़ी मांगी|

# सबसे पहले पायोनियर को बृहस्पति पर डाटा इकठा करने के लिए 1973 में भेजा गया था| अब तक कुल 8 यान बृहस्पति पर भेजे जा चुके है जिसमे से गैलिलियो यान बृहस्पति पर 8 सालो तक रहा एवं उसने काफी महत्वपूर्ण जानकारी एकत्रित की|

# हिन्दू धर्म में बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना गया है एवं रोमन काल में भी बृहस्पति को रक्षा करने वाला माना जाता था|

# बृहस्पति ग्रह का यदि पता हो तो आप इसे बिना किसी यंत्र की सहायता के भी देख सकते है| यदि बृहस्पति को एक तारा बनना हो तो इसे 65% तक और विशाल बनना होगा| 

आकाशगंगा क्या है Milky Way in Hindi

आकाशगंगा लाखों तारों का एक समूह होती है, जो गुरुत्वाकर्षण की शक्ति से एक-दूसरे के करीब होते हैं। इनका आकार अण्डाकार हो सकता है तथा कुछ आकाशगंगा अनियमित आकार में भी हो सकती हैं। 

हम पृथ्वी पर रहते हैं, जो कि एक ग्रह है। हमारे सौरमण्डल में पृथ्वी के अतिरिक्त अन्य ग्रह भी मौजूद है। एक सौरमण्डल में कई ग्रह व अनगिनत तारे उपस्थित रहते हैं तथा यह विभिन्न गैसों व पदार्थों से युक्त रहता है। ऐसे ही कई सौरमण्डल मिलकर एक आकाशगंगा का निर्माण करते हैं। 

साधारण शब्दों में असंख्य तारों व ग्रहों तथा अन्य तत्वों व पदार्थों वाले कई सौरमण्डलों के मेल को आकाशगंगा कहते हैं। 

आकाशगंगा में भिन्नता की तरह इनके आकार में भी भिन्नता पाई जाती है। 

कई आकाशगंगायें अण्डे के आकार के समान होती है तथा इनके बाहरी ओर से भुजाओं की तरह एक आकृति निकलती हुई दिखाई पड़ती है। इसीलिए ऐसी आकाशगंगा को सर्पीली अण्डाकार आकाशगंगा भी कहते हैं।

कई आकाशगंगायें बड़े गोल आकार या वृत्त के आकार की होती है, जिन्हें दीर्घवृत्ताकार आकाशगंगा कहा जाता है। 

सबसे विशाल आकाशगंगा एबैल 2029 गैलेक्सी है। इसकी खोज 1990 में हुई थी। इसका व्यास 5.5 मिलियन प्रकाश वर्ष है, जो हमारी आकाशगंगा से लगभग 80 गुना बड़ा है। इस आकाशगंगा की रोशनी सूर्य से खरबों गुणा अधिक तीव्र है। यह समस्त ब्रह्माण्ड की सबसे बड़ी आकाशगंगा है। पृथ्वी से यह 107 करोड़ प्रकाश वर्ष की दूरी पर है।

पृथ्वी के सर्वाधिक नज़दीक मौजूद आकाशगंगा का नाम है- धनुबौनी। यह पृथ्वी से 70 हज़ार प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित है। इसकी खोज को अधिक समय नही हुआ है। सन् 1994 में इस आकाशगंगा के अस्तित्व का पता लगाया गया था।

सबसे दूरस्थ दिखने वाली एंड्रोमेडा आकाशगंगा पृथ्वी से 23लाख 9हजार प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। इसे दूरस्थ दिखने वाली इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसे सरल तरीके से नंगी आँखों से देखा जा सकता है। इसमें लगभग 300 खरब तारों का समूह है। इसका कुल व्यास 1 लाख 80 हजार प्रकाश वर्ष है।

सबसे चमकदार आकाशगंगा मैगेलेनिक क्लाउड को केवल दक्षिणी गोलार्द्ध से ही देखा जा सकता है। इसका व्यास 9 हज़ार प्रकाशवर्ष है। यह पृथ्वी से 1 लाख 70 हजार प्रकाश वर्ष की दूरी पर है। यह अन्य सभी आकाशगंगाओं की तुलना में सबसे अधिक चमकती हुई दिखाई पड़ती है।

सबसे प्रसिद्ध आकाशगंगा “मिल्की वे” है। इसका व्यास 1 लाख प्रकाश वर्ष है। यह हमारी आकाशगंगा है अर्थात् इसी आकाशगंगा में हमारी पृथ्वी विद्यमान है। इस आकाशगंगा को शुद्ध हिंदी में “मन्दाकिनी” भी कहा जाता है। मन्दाकिनी अर्थात् गंगा की तरह हमारी आकाशगंगा को पवित्र माना गया है।

इसके अलावा इसे “क्षीरसागर” भी कहा जाता है।

हमारी आकाशगंगा का मिल्की वे व क्षीरसागर नाम रखने का एक मुख्य कारण है, जिसके बारे में आपको जानकारी देना आवश्यक है।

चूँकि अंग्रेजी ने मिल्क का अर्थ होता है- दूध और हिंदी में क्षीर का अर्थ होता है- दूध।

असल में जब इस आकाशगंगा को अंतरिक्षयान की सहायता से दूर से देखा जाता है तो यह दूध की तरह श्वेत (सफेद) रंगत की दिखाई पड़ती है। इसी वजह से इसका नाम मिल्की वे रखा गया। हमारी आकाशगंगा अण्डाकार है, जिसकी भुजाएं भी मौजूद हैं।

यह आवश्यक नही कि प्रत्येक आकाशगंगा किसी न किसी निश्चित आकार में ही हो। कुछ आकाशगंगायें अनियमित रूप से अनिश्चित आकार की होती हैं। 

ब्रह्माण्ड में पाई जाने वाली आकाशगंगायें अनन्त हैं। अब तक बहुत सारी आकाशगंगायें खोजी जा चुकी हैं। इनका विस्तार क्षेत्र अथाह है। हम अनुमान भी नही लगा सकते कि ब्रह्माण्ड में कितने तरह के ग्रह मौजूद है। इनका जहाँ तक विस्तार है, वहाँ तक शायद हम कभी भी नहीं पहुँच सकते।

ध्यान देने योग्य बात है कि यदि इतनी आकाशगंगायें अस्तित्व में हैं तो हो सकता है कि पृथ्वी के तरह कोई ओर भी ग्रह हो जहाँ जीवन सम्भव हो या शायद मनुष्यों की भाँति ही कोई प्राणी या जीव मौजूद हो। अगर इस बारे में विचार करें तो बहुत सी बातें दिमाग में आती है तथा विभिन्न सम्भावनाएं पैदा होती हैं और तरह-तरह के प्रश्न उठते हैं। 

हालांकि आज तकनीकी व वैज्ञानिक तौर पर इतनी अधिक प्रगति हो चुकी है कि साधारण मनुष्य के ज्ञान से परे नए-नए तथ्य व ज्ञान की प्राप्ति हुई है। ब्रह्माण्ड के बारे में इतनी गहरी बातों से अवगत होने से मनुष्य का ज्ञानवर्द्धन हुआ है|

ब्रह्माण्ड में मौजूद कणों का इतिहास

galaxy

ब्रह्माण्ड किन चीजों से बना है

मानव के धरती पर कदम रखने के बाद से मानव की मुख्य सोच यही रही है कि सारा ब्रह्माण्ड किससे निर्मित हुआ है। आरम्भ में यह धारणा थी कि ब्रह्माण्ड में स्थित सभी सजीव व निर्जीव पंच तत्वों से आकाश, पृथ्वी, वायु, अग्नि व जल से मिलकर बने हैं। परन्तु बाद में रसायन शास्त्रियों ने तत्वों से अस्तित्व को सिद्ध किया और आज इन तत्वों की संख्या 110 तक पहुंच चुकी है। लगभग 600 ईसा पूर्व एक भारतीय मनीषी एवं दार्शनिक कणाद ने बताया कि सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड अति सूक्ष्म कणों से मिलकर बना है।

सन् 1808 में प्रसिद्ध रसायन शास्त्री “जॉन डॉल्टन” ने वैज्ञानिक ढंग से परमाणु सम्बन्धी सिद्धांत का प्रतिपादन किया। उन्होंने रासायनिक क्रियाओं के आधार पर बताया कि तत्व एक विशेष अनुपात में क्रिया करते हैं तथा इसके आधार पर डॉल्टन ने बताया कि सभी तत्व परमाणु कहलाने वाले सूक्ष्म कणों से मिलकर बने हैं, जिन्हें विभाजित करना असम्भव है। 

सन् 1897 में वैज्ञानिक “जे.जे.थॉमसन“ने निर्वात नली में कैथोड किरणों का उत्पादन करके इनके आवेश एवं द्रव्यमान का अनुपात का मान ज्ञात किया। उन्होंने देखा कि कैथोड किरणें ऋणावेषित हैं, जिन्हें इलेक्ट्रॉन का नाम दिया। अतः थॉमसन के प्रयोग से परमाणु में ऋणावेश की उपस्थिति का पता लगा। 

“मिलिकन” ने अपने प्रयोग से इलेक्ट्रॉन पर आवेश ज्ञात किया। 

सन् 1911 में “लॉर्ड रदरफोर्ड” का स्वर्ण परमाणु पर अल्फ़ा कण प्रकीर्णन के प्रयोग में यह पता लगा कि परमाणु में धनावेश भी उपस्थित है। यह परमाणु के मध्य भाग में स्थित है तथा परमाणु से लाख गुणा छोटा है तथा उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर चक्कर लगाता है।नाभिक में स्थित इन धनावेश कण को प्रोटॉन नाम दिया गया। 

सन् 1932 में विज्ञान विशेषज्ञ “जेम्स चैडविक“ने एक ओर नाभिकीय कण की खोज की, जिसका द्रव्यमान प्रोटॉन के बराबर था तथा इनपर कोई आवेश नही पाया जाता। इनका नाम न्यूट्रॉन रखा गया। लम्बे समय तक न्यूट्रॉन, प्रोटॉन व इलेक्ट्रॉन को नाभिक के मूल कण माना गया।

समय व्यतीत होने के साथ भौतिकविदों ने अन्य नाभिकीय कणों की खोज की, जिनमें हैं- न्यूट्रिन,फोटॉन, म्यूऑन, मेसॉन, एंटी-न्यूट्रॉनआदि। 

सन् 1932 में “सी.डी. एंडरसन” ने इलेक्ट्रॉन के एन्टी कण पोजिट्रॉन की खोज की। अब यह बात भी सिद्ध हो चुकी है कि सभी कणों के एंटी कणों का अस्तित्व भी है।

इतने सारे कणों की खोज होने के कारण इनको अलग-अलग समूहों में विभाजित किया। शुरू में सभी कणों को मोटे तौर पर दो समूहों में बांटा। एक समूह को “लेप्टोन” तथा दूसरे समूह को “हैड्रॉन” नाम दिया गया।

हल्के कण जैसे  इलेक्ट्रॉन, म्यूऑन व न्यूट्रिन को लेप्टोन परिवार में रखा गया और भारी कण जैसे प्रोटॉन, न्यूट्रॉन, व मेसॉन को हैड्रॉन परिवार में शामिल किया गया। सामूहिक रूप से इन्हें क्रमशः बेरीयोन व मेसॉन कहा गया।

बेरीयोन को आगे दो भागों में बांटा, जिनका नाम”न्यूमलियोन” व “हाइप्रोन्स” रखा। न्यूमलियोन में प्रोटॉन, न्यूट्रॉन व इनके एंटी कणों को रखा गया, जबकि हाइप्रोन्स में लैम्डा कण, सिग्मा कण व काई कण को रखा गया।

सन् 1964 में गैलमैन, ज़ीमान व जॉर्ज ज़्वेईग ने क्वार्क मॉडल को प्रस्तुत किया। इस मॉडल के अनुसार सभी हैड्रॉन का निर्माण क्वार्क कणों से मिलकर हुआ होता है। इन कणों पर अन्य मूलकणों की तरह पूर्ण आवेश नही होता है। इन पर इलेक्ट्रॉन व प्रोटॉन का आवेश +2/3 या -1/3 गुणा होता है। गैलमैन को इस क्वार्क मॉडल के लिए 1969 में भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला।

गैलमैन के मॉडल में तीन क्वार्क ही प्रस्तावित थे। इनको अप, डाउन व स्ट्रेन्ज नाम दिया गया। बेरियोन नामक कणों की रचना तीन क्वार्कों से होती है तथा मेसॉन नामक कण की रचना एक क्वार्क व एक एंटी क्वार्क से होती है। प्रोटॉन में दो अप व एक डाउन क्वार्क पाये जाते है। न्यूट्रॉन में एक अप व दो डाउन क्वार्क पाये जाते हैं। अप क्वार्क पर +2/3e का आवेश होता है तथा डाउन क्वार्क पर -1/3e का आवेश होता है।

बाद में इसी क्रम में चौथे व पाँचवे क्वार्क की खोज हुई, जिनका नाम चार्म क्वार्क व बॉटम क्वार्क रखा गया। 

इसी क्रम में क्वार्क परिवार के छठे सदस्य की खोज अमेरिका स्मिथ फर्मी नेशनल एक्सीलेटर लेबोरेट्री में कार्यरत वैज्ञानिकों के दाल ने 2 मॉर्च 1995 में की, जिसका नाम टॉप क्वार्क” रखा गया।

क्वार्कों के अंतिम व अविभाज्य कण से अभी तक कई वैज्ञानिक पूर्ण रूप से सन्तुष्ट नही है। अब इन क्वार्कों से आगे चलकर प्रोटोक्वार्कों के अस्तित्व के बारे में परिकल्पना करने में लगे हैं। प्रोटोक्वार्क ही  आगे की खोज का आधारभूत प्रश्न है|

इसका मतलब क्या है,  जब वे कहते हैं कि ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है?

Milkey way image

यह सम्पूर्ण सृष्टि जिज्ञासाओं से भरी हुई है, मानव मस्तिष्क आदि काल से क्यों, कहाँ, कब जैसे सवालों का पीछा करता आया है। मगर वो जितना इसे जानने के करीब आता है, यह सवाल और विस्तार रूप ले कर उलझने बढ़ा देते हैं। यही वजह है कि सृष्टि ब्रह्माण्ड के बारे में इतना कुछ जानने के बाद भी, अभी भी ऐसी बहुत सारी बातें हैं जिन्हें जानना बाकी है। इन्हीं में से एक है, क्या ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है? यदि हाँ तो कैसे ? कब ? और कहाँ ? आइये इन सवालों को जानने की कोशिश करते हैं।

यह जानने से पहले कि विस्तार कहाँ हो रहा है, यह जानना बहुत जरुरी है कि इस विस्तार का आकार क्या है। अगर आप यह सोच रहे हैं कि इस विस्तार में ब्रह्मांड की सारी आकाशगंगा एक दिशा में तेजी से बढ़ रही है और एक दिन वो सब आपस में मिल जाएंगी तो यह भी पुर्णतः सही नहीं है। क्योंकि समय के साथ इनकी गति और दिशा बदलती रहती है। और स्पष्ट रूप से जानने के लिए ब्रह्मांड के विस्तार को तीन आकारों में बांटा गया है।

१. बंद ब्रह्माण्ड – इस विस्तार में गोल आकार का निरंतर विकास होता रहता है।

२. खुला ब्रह्माण्ड – गोल ब्रह्माण्ड के खुल जाने के बाद विस्तार इस तरह का आकर लेता है।

३. सपाट ब्रह्माण्ड – इस विस्तार में ब्रह्माण्ड एक दम सपाट हो जाता है।

कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि ब्रह्मांड गोल होने के बाद भी उसका सपाट आकार में विस्तार होता है। और यही वजह है कि इसमें समय के साथ-साथ विस्तार गति में भी कमी आती जाती है। इसे इस उदाहर द्वारा भी समझा जा सकता है कि हम एक काले रंग का गुब्बारा लेते हैं जिसमें सफेद रंग के धब्बे बने हुए हैं। इस गुब्बारे को हमने अपना ब्रह्मांड मान लिया और इन सफेद धब्बों को आकाशगंगा। अब जैसे-जैसे गुब्बारे में हवा भरी जाती है यह सेफ धब्बे एक दुसरे से दूर होते जाते हैं। और कुछ ही देर बाद एक ऐसी स्थिति आती है जिसमें गुब्बारे को और अधिक फुला पाना संभव नहीं हो पाता। और यदि उसके बाद भी उसे फुलाया जाए तो वो फूट जाता है।

अगर बात हमारे ब्रह्माण्ड की करें तो उसके साथ भी लगभग यही होता है। जब ब्रह्माण्ड का विस्तार होता है, आकाशगंगा की दुरी एक दुसरे से बढ़ती जाती है। मगर इस दुरी के बढ़ने की गति धीमी होती है, इसकी वजह अलग-अलग आकाशगंगाओं का गुरुत्वाकर्षण है।

मंगल ग्रह की जानकारी

मंगल ग्रह

मंगल ग्रह प्रोफाइल प्रोफाइल

त्रिज्या – 3,3 9 0 किमी गुरुत्वाकर्षण – 3.711 मीटर / वर्ग मीटर
मास– 6.3 9 × 10 ^ 23 किलो (0.107 एम⊕)
चंद्रमा डेमोस, फोबोस
सतह क्षेत्र – 144.8 मिलियन वर्ग किमी
सतह तापमान  -55 डिग्री सेल्सियस (माइनस 55 डिग्री )

मंगल का उपनाम है और हम इसे लाल ग्रह भी कहते हैं। ग्रह लाल रंग के धूल से ढका हुआ है जो इसे इसका लाल रंग देता है । ग्रह का वातावरण गुलाबी लाल है। वैज्ञानिकों का कहना है कि मंगल ग्रह पर जीवन के संकेत हो सकते हैं क्योंकि इसपर पानी है। मानव अस्तित्व के लिए पानी जरूरी है और फसलों की पोषण के लिए भी पानी चाहिए, नही तो पानी के बिना कुछ भी जीवित नहीं रह सकती हैं। नासा और इसरो द्वारा मंगल ग्रह के बारे में लगातार जानकारी इक्कठा की जा रही है वो भविष्य में नए नए राज खोलेगी, यहाँ हम मंगल गृह के बारे में कुछ तथ्य पेश कर रहे है जिसे आप पढना चाहते हैं

मंगल ग्रह पृथ्वी से बहुत ठंडा है।
मंगल ग्रह हमेशा धुल और आंधियो की चपेट में रहता है जो बहोत ही खतरनाक है
मंगल ग्रह पर कई ज्वालामुखी हैं और इसमें ओलंपस मॉन्स, पूरे सौर मंडल में सबसे बड़ा ज्वालामुखी है। यह 21 किलोमीटर ऊंचा है।

मंगल ग्रह पर एक पतला वातावरण है जो मुख्य रूप से कार्बन डाइऑक्साइड से बना होता है। यदि इस ग्रह पर घना वातावरण होता है, तो यह सूर्य की गर्मी को संचित करने में सक्षम होता , जैसे वीनस करता है। लेकिन चुकी इसका वातावरण काफी पतला है, इसलिए मंगल ग्रह ठंडा है और सर्दी भरी रातो में वहा का तापमान -120 डिग्री होता है। हमारे पृथ्वी का जो वातावरण है वह मगल की तुलना में काफी सघन है जो सूर्य की उसमा को संचित कर के रखता है इसलिए हमें मंगल जैसी ठण्ड का सामना नही करना पड़ता।

ग्रह पर पानी का क्षरण संभव हो सकता है क्योंकि इसकी सतह पर कई घाटी, मैदान और चैनल हैं। ऐसा माना जाता है की मंगल ग्रह पर हजारो साल पहले नदिया और समुन्द्र बहा करते थे।

मंगल ग्रह की गुरुत्वाकर्षण बहोत ही कमजोर है। इसका मतलब यह हुआ की अगर आपका वजन पृथ्वी पर 100 किलो है तो आपका वजन मंगल ग्रह पर 37 किलो होगा।

मंगल ग्रह पर जमे हुए बर्फ कैप्स हैं जिसका अर्थ यह हो सकता है कि मंगल ग्रह पर जीवन का अस्तित्व था।
मंगल ग्रह पर भी पृथ्वी जैसे मौसम हैं।

मंगल ग्रह आकर में  पृथ्वी से बहोत छोटा है , लेकिन चन्द्रमा से बड़ा है। अगर हम इसकी तुलना सूर्य से करे तो अगर हम सूर्य को घर का दरवाजा मान ले तो मंगल एस्पिरिन टेबलेट के आकर का होगा।

सूर्य से मंगल चौथा ग्रह है जिसकी दुरी 228 मिलियन किलोमीटर है सूर्य से।

मंगल ग्रह पर दिन पृथ्वी से बड़ा होता है और यह 687 दिन में सूर्य का एक चक्कर लगता है।

मंगल ग्रह का सतह काफी खुरदुरा और पत्थरों से भरा पड़ा है।

मंगल ग्रह पर लोहे के खनिज काफी मात्रा में है और जब इनमे जंग लग जाता है तो इनका रंग लाल हो जाता है इसलिए मंगल गृह लाल दिखाई पड़ता है।

अगर हम मंगल ग्रह की तुलना पृथ्वी से करे तो पृथ्वी के भीतर 6 मंगल ग्रह समा सकते हैं।

एलियन क्या होता है

परग्रही, एलियंस

मुझे एलियंस तो पहले एक कल्पना लगते थे परन्तु , आजकल इतनी फ़िल्में, न्यूज़ और वैज्ञानिको के विचार-विमर्श सुनने के बाद मै भी काफी उत्सुक हो गया| मेरे मन में हमेशा ये प्र्शन आते की आखिर ये एलियन होते क्या हैं ? कहाँ से आते हैं ? क्यों आतें है ? आते भी हैं या नहीं ? और बहुत कुछ .

वैसे तो मुझे ये सारी बातें भ्रांतियां लगती थी, परन्तु ऐसे बहुत सी जानकारियां है जो आपको एलियंस के होने का विश्वास दिलातीं है | इस ब्रम्हांड में हमारे ही सौर मंडल की तरह कई सौरमंडल पाए जातें है , उनका भी अपना सूर्य होता है जिसके चारों ओर दूसरे ग्रह चक्कर काटतें है | एलियंस के बारे में मानना है की ये हमारे जैसे ही दूसरे सौरमंडल के ग्रहों से आतें है | पर अब भी इस बात के पुख्ता सबूत नहीं मिलते है |

हालाँकि, ये अपने आप में खुद एक प्रश्न चिन्ह है की क्या दूसरे ग्रहों में जीवन है? इस बात पर विभिन्न लोंगो के अलग – अलग मत है| कुछ कहतें है की एलियंस होते है , जबकि कुछ कहतें है की एलियंस नहीं होते |

है न कमाल का विषय ?

तो चलिए आज आपके साथ शेयर करूँगा एलियन से जुडी कुछ रीसर्च एंड इनसे जुडी कुछ रोचक बातें | अभी कुछ समय पूर्व अमेरिकी अनुसंधान संसथान के एक वैज्ञानिक ने यह दावा किया है की एलियन होतें हैं | असल में उन्होंने एलियन से सम्बंदित रीसर्च में कहा है की एलियंस एक तरह का बैक्टीरिया या जीवाश्म है जो कई वर्षों पूर्व अंतरिक्ष से धरती पर गिरे उल्कापिंडों में पाया जाता है |

नाशा के एक वैज्ञानिक ने धरती पर गिरे उल्का पिंडो का अध्यन कर ये तथ्य रखा है की एलियंस होते है | उन्होंने ये साइबीरिया और अलास्का में पाए गए असाधारण नमोनो पर शोध कार्य किया जिससे ये निष्कर्ष निकला की इस ब्रमांड में कई दुनिया है और हमारे आलावा भी दूसरे जीव है जो समय – समय के साथ अपनी उपस्थिति का अनुमान देतें रहतें है |एलियन अगर हैं तो धरती पर क्यों आतें है ? इसका भी कोई सटीक उत्तर नहीं है| वैसे तो कई लोगों ने यूएफओ देखने का दावा किया है , सबसे पहले 1440इस्वी पूर्व में किया गया था| अब आगे समय ही बताएगा की आखिर एलियन और धरती के बीच का क्या सम्बन्ध है और यह बात भविष्य में किस मोड़ पर पहुंचेगी |.

उल्कापिंड किसे कहते हैं

उल्का पिंड

आसान शब्दों में कहे तो उल्कापिंड एक ब्रह्मांडीय पत्थर है जिसका आकार छोटे पत्थर से लेकर बड़े पहाड़ जैसा हो सकता है या फिर उससे भी बड़ा और यह ब्रह्माण्ड में विचरण करता है

रात में आपने कभी आकाश की तरफ देखा है की एक लम्बा सा तारा टूटता हुआ दिखाई देता है | अक्सर गर्मियों में जब आप चांदनी रात में आसमान को ताकते हैं तो शायद आपने देखा होगा, जब तारा टूटता है तो एक लम्बी सी लाइन बनती चली जाती है |और, इसको लेकर लोंगो में तरह- तरह की मान्यताएं और भ्रांतियां सुनने को मिलती है | और यहाँ तक एक मान्यता मानी गयी है की, जब तक तारा टूटता रहता है यानि की उसका प्रकाश दिखाई देता रहता है और लाइन दिखाई देती रहती है, उस मध्य में अगर कोई अपने कपडे, आँचल, रुमाल इत्यादि में से किसी पर भी एक गांठ लगाके एक मनोकामना करता है और उसी समय में खोल देतें है तो उनकी मनोकामना पूरी होती है |

कुछ लोगों का मानना है की ये आसमान में विचरण करती हुई आत्माएं है | और ये आत्माएं क्या करतीं है ? जब वह अपनी जगह बदलतीं है, किसी भी एक जगह से दूसरी जगह जातीं है तो वो चमकतीं है | इसके पीछे जो भी मान्यताएं और अस्थायें हों, मगर सत्य यह है की ये उल्काएं होती है, धूमकेतु होतें है | ये छोटे -बड़े आकाशीय पिंड होतें है, जो निरंतर सूर्य की परिकर्मा करतें रहतें है|

और जब कभी कोई पिंड, छोटा हो या बड़ा हो घूमते- घूमते पृथ्वी के पास आ जाता है तो , पृथ्वी की आकर्षण शक्ति यानि गुरुत्वाकर्षण के कारण पृथ्वी की ओर खिंचने लगता है | गुर्त्वाकर्षण का जो नियम है उसके अनुसार एक निश्चित दूरी तक पृथ्वी इस बल के कारण अपने से दूर से गुजरती हुई वस्तुओं को अपनी ओर आकर्षित करती है | और इस खिंचाव के कारण जो पिंड का जो वेग है, वो बहुत ज्यादा बढ़ने लगता है | और वेग इतना ज्यादा बढ़ जाता है की जैसे ही वह हमारे वायुमंडल में प्रवेश करता है तो घर्षण के कारण इसमें आग लग जाती है | और आग लगके उसमें से गैसें निकलने लगती है | और ये जलती हुई गैस प्रकाशवान हो जाती है | और उल्का की चमक दिखाई देतीं है | और कभी – कभी ये आकर में अत्यधिक बड़े होतें हैं और जलकर छोटे हो जातें है | और इनमेंसे अधिकतर पिंड वायुमंडल में प्रवेश करते ही नष्ट हो जातें है और छोटे भागों में विभाजित हो जातेंहै | और जो बहुत बड़े होतें है और जलने के बाद भी उनका कुछ हिस्सा बचा रहता है , वो धरती तक पहुँच जातें है | ये उल्का पिंड या धूमकेतु कहलातें है |

आयाम किसे कहते है

आयाम यानि डाइमेंशन, जिस तरह से हम भौतिकी में किसी भी चीज को मापते है, जैसे तापमान को केल्विन में लम्बाई को मीटर में समय को घंटे में और करंट को एम्पियर में उसी तरह से ब्रम्हांड में हो रही सारी घटनाओं को आयाम में मापते है |स्ट्रिंग थ्योरी के अनुसार ब्रम्हांड में वास्तविक रूप में १० आयाम हो सकतें है | और एम थ्योरी के अनुसार ब्रम्हांड में ऐसे ११ आयाम हो सकतें है | जबकि बोजोनिक थ्योरी के अनुसार ब्रम्हांड में २६ आयाम हो सकतें है|

शुरुआत होती है शून्य आयाम से – कल्पना कीजिये की प्रकृति का बनाया हुआ कोई ऐसा जीव है जो शून्य आयाम में मौजूद है | अब यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है की शून्य मतलब कुछ भी नहीं अर्थात शून्य आयाम में स्थित इस जीव का कोई भी आकर नहीं होगा न ही उसका कोई शरीर होगा |

शून्य आयाम को समझने के लिए हम एक काल्पनिक बिंदु मान लेते है , ध्यान दीजिये की इस बिंदु का कोई भी आकर नहीं होता है | अब इस बिंदु में मौजूद वो जीव न आगे जा सकता है न ही पीछे, न ऊपर जा सकता है न ही नीचे और यहां तक की वो जीव अपनी जगह पर घूम भी नहीं सकता |

मैं आपको बता दूँ की आगे आने वाले सभी आयामों का आधार शून्य ही है |

पहला आयाम – कल्पना कीजिये के शून्य आयाम के दो बिंदु है, जो एक दुसरे से कुछ दूरी पर है , अब इन दोनों बिंदुओं को मिला देतें ही तो इस अवस्था में जीरो आयाम में उपस्थित वह जीव केवल आगे और पीछे ही जा सकता है |

दूसरा आयाम – पहले आयाम में उपस्थित वो जीव आगे पीछे चलने के बाद दाएं और बाएं भी चल सके जैसा की आपने कभी सांप वाला गेम खेला ही होगा, | यही है दूसरा आयाम|

तीसरी आयाम में उस जीव की जगह पर हम खुद को रखतें है | अब आप देख सकतें है की इस तीन आयाम वाली दुनिया में हम आगे पीछे और दाएं बाएं जाने के साथ -साथ ऊपर नीचे भी जा सकतें है | इसी को ही तीसरा आयाम कहतें ही |

चौथा आयाम – चौथा आयाम है समय, जिसमें हम अभी चल रहें है , मैं आपको अवगत करा दूँ की ये तीनों आयाम और समय आपस में जुड़े हुए है | हम समय में एक सरल रेखा की तरह आगे बढ़ते चले जा रहें है | हम भूतकाल से भविष्य काल की ओर चलते चले जा रहें है, यही है चौथी आयाम| बाकी आयाम परिकल्पनाएं हैं जो वैगनिकों द्वारा बनाई गयीं है, जिसमें इंसान का जाना संभव नहीं है |

सौरमंडल के ग्रह और रोचक तथ्य

सूर्य, चन्द्रमा, और बाकी खगोलीय पिंड, हमारे ग्रह को हर ओर से घेरे हुए हैं। और आकाश में टिमटिमाते तारों और इन सब छोटी बड़ी सनरचनाओं को देखकर हम कितने रोमांचित हो उठते हैं। यही रोमांच जब वैज्ञानिक शोध का आधार बन जाता है, तब अनेकों नए सिद्धांत, नयी खोजें जन्म लेती हैं। और मानव अंतरिक्ष में अपनी स्थिति को और बेहतर समझ पाता है।

माना जाता है की आज से लगभग 46 करोड़ साल पहले अंतरिक्षीय गैसों का एक बहुत बड़ा बादल किसी ऊर्जा से उद्वेलित हुआ था। और इस हलके से उद्वेलन ने इस बादल में मौजूद कणों को इस के अपने अंतर्गुरुत्वाकर्षण के कारण एक दुसरे की ओर धकेलना शुरू कर दिया। और इसी हलके से उद्वेलन ने हमारे सौर मंडल की कहानी की शुरुवात कर दी। इस उद्वेलन से आपस में टकराते हुए बादल के कण घूमने और फिर गर्म होने लगे, और इस बढ़ते हुए तापमान और गति ने बादल के बेडौल आकर को एक गोल तश्तरी जैसी आकृति में बदल दिया। इसी तश्तरी के बीचों बीच इतने तेज़ घूर्णन और गर्मी के कारण हुई आणविक प्रक्रियाओं ने हमारे सूर्य का रूप ले लिया जो की आज तक जारी है।

और सूर्य तो केवल शुरुआत थी। धीरे धीरे तापमान कम हुआ, और तापमान में आये इन उतार चढ़ावों ने, कई भौतिक और रासायनिक प्रक्रियाओं को जन्म दिया, जिनके परिणाम स्वरुप अलग अलग रासायनिक कण आपस में जुड़ने-चिपकने लगे। और जैसे जैसे कण जुड़ते गए वैसे वैसे खगोलीय पिंड बड़े होते गए और नन्ही ग्रहिकाओं का निर्माण हुआ।

फिर जैसे कण आपस में टकरा रहे थे, उसी तरह ग्रहिकाएँ भी आपस में टकराती-जुड़ती रहीं और और धीरे धीरे इतनी बड़ी हो गयीं के अपना खुद का गुरुत्व उत्पन्न कर सकें और अपने आसपास किसी तरह का पैटर्न या गणितीय करीना बना सकें। और यही ग्रहिकाएँ आज के हमारे सौरमंडल के ग्रहों में बदल गयीं।

हमारे इस विहंगम सौरमंडल से जुड़े और भी कई रोचत तथ्य हैं।

इसमें 1 सूर्य और 8 ग्रह

  1. मक्यूरि या बुध
  2. वीनस या शुक्र
  3. स्वयं पृथ्वी
  4. मार्स या मंगल
  5. बृहस्पति या जुपिटर
  6. शनि या सैटर्न
  7. युरेनस (अरुण)
  8. नेप्चून (वरुण)

हैं। इसके अलावा 5 बौने या गौण ग्रह जिनमे प्लूटो या यम, सेरेस, हॉमी माकेमाके और एरिस शामिल हैं।

इसके अलावा इन ग्रहों के कुल, अभी तक 181 चंद्रमाओं की पहचान हो चुकी है। और 566,000 क्षुद्र ग्रह और 3,100 उल्कापिंड भी इस विशाल अंतरिक्षीय क्रीड़ांगन की शोभा बढ़ाते हैं।

हमारा आकाश आश्चर्यों से भरा, अपने रहस्य खोलने के लिए केवल हमारी जिज्ञासा का इंतज़ार कर रहा है।

प्रकाश वर्ष किसे कहते है। What is light year in Hindi

प्रकाश वर्ष की परिभाषा
प्रकाश वर्ष खगोलीय दूरी का वह इकाई है, जो की 1 साल में प्रकाश द्वारा तय किया गया दुरी के बराबर है।

प्रकाश वर्ष खगोलीय दुरी का मात्रक है। चुकी ब्रह्माण्ड इतना बड़ा और विशाल है की हम इसकी दुरी किलोमीटर में नही नाप सकते इस लिए ग्रहों और तारो की दुरी नापने के लिए हमें एक अलग मात्रक की जरूरत पड़ती है जिसे हम प्रकाश वर्ष कहते हैं।

अगर हम खगोलीय दुरी को प्रकाश वर्ष में नही नापे तो हमारी पृथ्वी से नजदीकी तारे की दुरी 38,000,000,000,000 किलोमीटर होगी। ये तो सूरज को छोड़कर पृथ्वी से सबसे नजदीकी तारे की दुरी है, अब सोच लीजिये की सबसे दूर तारे की दुरी किलोमीटर में क्या होगी। शायद हम गणना भी ना कर पाए। इसलिए इस परेशानी को दूर करने लिए हम प्रकाश का इस्तेमाल करते है।

जैसा की आप जानते हैं की प्रकाश 300,000 किलोमीटर पर सेकंड की रफ़्तार से दुरी तय करता है तो चलिए आइये हम यह पता लगते हैं की

1 प्रकाश वर्ष में कितना किलोमीटर होगा

300,000 * 60 सेकंड * 60 मिनट * 24 घंटा * 365 दिन  = 9,460,800,000,000 किलोमीटर की दुरी

मतलब की 1 प्रकाश वर्ष 9,460,800,000,000 किलोमीटर की दुरी के बराबर होता है

चुकी ब्रह्माण्ड की तुलना में हमारा पृथ्वी बहोत छोटा है तो यहाँ हम किलोमीटर से काम चला लेते हैं लेकिन ब्रह्माण्ड में काम चलाना मुस्किल हो जाता है। अब आप समझ गये होंगे की 1 प्रकाश वर्ष में कितना किलोमीटर होता है।

प्रकाश वर्ष से ब्रह्माण्ड की दुरी नापने के अन्य फायदे

क्या आपको पता है की हम प्रकाश वर्ष से किसी तारे की उम्र का भी पता लगा सकते हैं ? जी हाँ , आप जितने भी तारे आसमान में देखते है वो अभी वैसे नही हैं जैसा हमने देखा। बल्कि आप वर्त्तमान ना देख कर भूतकाल में हैं।  क्यों की कुछ तारे पृथ्वी से इतने दूर हैं की उनका प्रकाश पृथ्वी पर हजारो, लाखो प्रकाश वर्ष के बाद पहुचता है।

तो अगर आपने किसी तारा को देखा जो की 1 प्रकाश वर्ष की दुरी पर है तो यह मान लीजिये की आप उस तारे को 1 साल पहले जैसा था वैसा देख रहे हैं और अभी जैसा है वैसा नहीं।

अगर वह तारा 1000 प्रकाश वर्ष की दुरी पर है तो आप उस तारे को 1000 साल पहले जैसा था वैसा देख रहे हैं। क्यों की उस 1 हज़ार प्रकाश वर्ष दूर तारे के प्रकाश को पृथ्वी पर पहुचते पहुचते 1000 साल लग गये।

सोचिये, ब्रह्माण्ड इतना बड़ा है की यहाँ प्रकाश वर्ष भी फीका पड़ जाता है लेकिन चुकी 1 प्रकाश वर्ष की दुरी तय कर किसी नजदीकी ग्रह पर जाना ही हमारे लिए मुस्किल काम है इसलिए हम फ़िलहाल प्रकाश वर्ष से की खुश हैं।

फोटो सोर्स

जब प्रकाश ब्रह्माण्ड में दुरी तय करता है तो वह फैलता है और उसका wavelength ( वेव लेंग्थ ) भी बढ़ जाता है, इसका मतलब यह हुआ की जो तारा हमें लाल दिखाई देता है वह पृथ्वी से करोडो प्रकाश वर्ष की दुरी पर है, और जो पिला दिखाई देता है वह पृथ्वी से हजारो या सैकड़ो प्रकाश वर्षा की दुरी पर है यानि की लाल वाले से नजदीक है ,और असमान में जहा काला दिखाई देता है वहा के तारे अरबो प्रकाश वर्ष की दुरी पर है क्यों की उनका प्रकाश का wavelengh इतना फ़ैल गया है की वह प्रकाश visible स्पेक्ट्रम से invisible स्पेक्ट्रम में चला गया है तो इसका मतलब यह हुआ है की प्रकाश तो आ रहा है लेकिन हम उसे आँखों से देख नही पा रहे हैं।

कौन सी मानव निर्मित वस्तु ब्रह्मांड में पृथ्वी से सबसे ज्यादा दूर है

Voyager 1 (वायेजर 1 ) जो की १९७७ में नासा द्वारा, ब्रह्माण्ड में दुसरे ग्रहों को ढूंढने के लिए छोड़ा गया था, अब वह ब्रह्माण्ड में एक ऐसा मानव निर्मित वस्तु है जो की पृथ्वी से सबसे दूर चला गया है।

यह उपग्रह आज भी काम कर रहा है और पृथ्वी पर बैठे लोगो को सन्देश भेजते रहता है। वायेजर 1 का अब पॉवर सप्लाई कम हो रहा  है और ऐसा माना जा रहा है २०२५ तक वायेजर 1 पृथ्वी पर सन्देश भेजना बंद कर देगा।

फरवरी २०१८ की डाटा तो माने तो वायेजर 1 पृथ्वी से २१ बिलियन किलोमीटर दूर जा चूका है।

नासा ने १९७० से ही दुसरे ग्रहों के बारे में जानकारी इकठ्ठा करना सुरु कर दिया था। वायेजर 1 को जुपिटर, सैटर्न और प्लूटो के बारे में जानकारी इकठ्ठा करने के लिए बनाया गया था लेकिन बाद में इसे सैटर्न का मून टाइटन तक के लिए डिजाईन किया गया।

वैसे तो अब वायेजर 1 हमारे सौर मंडल से काफी दूर जा चूका है और उसका अब कोई अगला ठिकाना नही है लेकिन नासा कहता है की वायेजर 1 हमारे आकाश गंगा में घूमते रहेगा हमेशा के लिए और आज से 40,000 साल बाद एक नजदीकी तारा Gliese 445 ( ग्लिएस ) से होकर गुजरेगा जो की 1.6 लाइट इयर की दुरी पर रहेगा।