कोरोना वायरस से बचने के उपाय टिप्स – Coronavirus Tips in Hindi

सरकार द्वारा कहे गये सभी बातो को माने और लॉक डाउन का अनुसरण करे. लॉक डाउन का अनुसरण करना ही …

Readकोरोना वायरस से बचने के उपाय टिप्स – Coronavirus Tips in Hindi

The rise of Cultural nationalism in India – Indian Culture fights back

Culture has always been in the blood of Indians. India has been invaded many times in the passed but even after all of this cultural identity of India is still alive.

The ethnic and native groups of Indian subcontinent i.e Hindus and Buddhists are rising again to preserve their culture and identity.

Some political parties are thinking that the rise of Hindutva is due to BJP in power but they don’t realize that Hindutva has never been a religious identity, infact Hindutva is not itself a religion, it has always been a way of life and belief of Indian people for thousands of years. There is no mention of Hindutva is Vedas or any where. The people of India were called Hindus because they live beyond the Sindhu river (present day Indus river) . The term Hindu is not a religious term but it is geographic term.

Every human that lives beyond Indus river is a Hindu by geographic term and Hindus have always preserved their culture no matter what the circumstances are.

I would like to give a current example of what happens when a foreigner visits India. You may have seen when a foreigners visits India they are greeted with garlands and tika on their forehead and this what a Hindu culture is, those foreigners love this because they come here to see the culture of India.

Presently cultural nationalism in India is on the rise not because BJP is in power but because people are realizing that there are certain groups present in the country who criticize and defame Indian culture and it’s traditions on social media platforms and other channels. In fact there are some TV channels and News Network that are writing openly against the Indian culture and they are offending India cultural spirit, may be they are doing this as a part of some agenda to divide and conquer India again but this same thing has lead to the rise of cultural nationalism in India.

Certain groups are calling RSS as Hindu Terrorist organisation. Its like calling all the Hindus in India terrorists and this thing is being promoted on agenda basis on very same news portal operated by certain groups. These certain groups are failing to realize that RSS is not a religious identity but a cultural identity of the people of India. RSS teaches how to welcome visitors, it teaches good manners and promotes cultural nationalism in Indians. RSS always works for the people when they need help at the time of natural disaster. RSS has been in India way before BJP came to existence because RSS is not a political party or a terrorist organisation like ISIS it is a cultural identity to protect and promote the Indian culture. Calling RSS a terrorist organisation to safe guard Jihadi mindset is not working anymore. People promoting Jihad are justifying their Jihad to their people by calling RSS a terrorist organisation with no proof of any causality to those certain groups. Infact those certain groups seek help from RSS at the time of natural disaster and calamities. Jihadi mindset can not be justified by calling your pray a killer because if you attack innocent they will attack too and you can’t call them killer just because they attacked too.

Hindus of various caste and creed are uniting against these certain groups and infact we can see that India seems to be divided in two groups one who want to protect their cultural identity and other who want to destroy the Indian cultural identity.

These certain groups and financially backed and funded by Muslim country to promote certain agenda against Indians and their culture.

International news networks like Aljajeera, TRT World, BBC, DW are opening working on their agenda against a Hindu country because they have always worked to destroy other culture to promote their own culture. Abrahmic religions have always worked on to promote their religion around the world be it Islam or Christianity, they fund to destroy other culture and promote their own culture and this is what they have been doing for so long.

These countries like Malaysia, Pakistan ,Turkey, UK , France have never been able to digest a country in this world whose faith and identity is different from them. They always work on to put the image of India down by posting negative videos on social media platforms. They have been doing all of this for so long but since the rise of Internet users in India they are getting a reply from Indians now.

All of this propaganda against Indian culture and beliefs is promoting cultural nationalism in India.

As long as these agenda is going on defeating BJP in election is almost impossible because in India anti nationals and agenda lovers are insignificant when compared to cultural nationalist. These agenda lovers are failing to realize that there are 1 billion Hindus in India and anything that hurts their sentiments and culture identity will always work against their agenda.

Hindus of India can never be made to forget their past glory as long as the ancient rock cut temples like Kailasa Temple is there, which reminds Hindus of their rich culture and heritage. These temples are not just symbol of technological advancement but also a system of rich Indian heritage.

People with agenda will always fail as long as the ancient temples of India are there. Also cultural nationalism will always favor the right wing party BJP to win elections.

To win elections you don’t need to have an agenda against the native people but you need to work for their betterment leaving your agenda behind because it will never work in favor of you, if you are there to win elections. And this is the same reason why Indian National Congress has become insignificant as compared to BJP.

2014 elections were fought for corruption, 2019 elections were fought for development but 2024 elections will be fought for nationalism and every time it will work in favor of BJP as long as opposition is failing to realize that this country is not a Muslim country but a Hindu country.

How to Solve Mumbai Flooding

Spydr : Hey Bro, Why Mumbai Floods every damm year

Roach: Because local government is lame, they do not want a proper solution to this problem.

Spidr : How can we solve this problem

Roach: Ban plastics, make proper drainage system, Follow rain water harvesting methods to store water in tunnels.

Roach: We need to follow Japan’s Technic. Tokyo used to flood every damm year like Mumbai, but they constructed tunnels that stores water and they also use to later year.

Spydr : Bro, you are genious bro, I love you

Roach: Thanks, Thanks I love you too.

About cat in Hindi – बिल्ली के बारे में जानकारी

वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत (Kingdom) : (Animalia ) जंतु
संघ (Phylum) : (Chordata) कौरडेटा
वर्ग (Class) : (Mammalia) स्तनधारी
गण (Order) : (Carnivora) मांसाहारी
कुल (Family) : (Felidae) फ़ेलिडाए
वंश (Genus) : (Felis) फ़ीलिस
जाति : फ़ीलिस कैटस

बिल्ली – एक ऐसी चार पैरो वाली जानवर जिसे हम अक्सर देखते है, ये बिल्लियाँ बंदरो से कम नही हैं कही भी चढ़ जाती हैं दूध पिने के लिए या फिर चूहे मारने के लिए।

कुछ लोग बिल्लियों को पालते भी हैं वहीं कुछ लोग इसे असुभ जानवर मानते है। चलिए आइये इस पोस्ट में हम बिल्लियों के बारे में अधिक जानकारी इक्कठा कर के ये पता लगाये की क्या बिल्लियाँ सचमुच में असुभ हैं या फिर एक शानदार जानवर है।

बिल्ली का वैज्ञानिक नाम Felis catus ( फ़ीलिस कैटस ) है। ये हजारो सालो से इंसानों के साथ रहती आयीं हैं। आज से 4000 साल पहले पहली बार इनको Egypt में पालतू बनाया गया था

ऐसा माना जाता है की इनकी चूहों को मारने की काबिलियत से इन्सान इन्हें पालतू बनाने लगे

Egypt में तो बिल्लियों को पूजा भी जाता था और उनका mummy भी तैयार किया जाता था साथ में चूहे का भी mummy तैयार करके रखा जाता था।

बिल्ली एक स्तनधारी और मांसाहारी जानवर है जिसकी सुनने और सूंघने की छमता अतुलनीय है

बिल्लियों के बारे में कुछ रोचक तथ्य

बिल्ली रात में भी देख सकती है।

बिल्लियों की औसतन आयु 15 साल है।

बिल्लियों का शरीर बहुत ही लचीला होता है और इनका दांत छोटे जानवरों का शिकार करने के लिए बना है जैसे की चूहा।

इनकी सूंघने और सुनने की छमता काफी अचूक है। इनकी स्वाद चखने की छमता हम इंसानों से काफी कम होती है , ये मीठा स्वाद का पता नही लगा सकती क्यों की इनके पास मीठे स्वाद का taste bud है ही नही।

अपनी जिन्दगी के 70 % समय बिल्ली सोने में बिता देती है, ऐसा माना जाता है की सोकर बिल्लियाँ एनर्जी को संचित करती हैं ।

Egypt में बिल्ली को मरना अवैध था क्यों की बिल्लियाँ चूहों पर नियंत्रण रखती थी

एक बिल्ली अपने height से 6 गुना ज्यादा दुरी तक उछल सकती है और रेस में उसेन बोल्ट जैसे धावक को हरा भी सकती है

एक बिल्ली एक बार में लगभग 2 से 5 बच्चे को जन्म दे सकती है

एक पालतू बिल्ली, जंगली बिल्ली के हिसाब से आकर के छोटी होती है तथा उसका वजन लगभग 4 से 5 किलो तक हो सकता है

बिल्ली के दांत बहुत ही तेज होते हैं और इस वजह से वह अपने शिकार के गले में दांत डालकर उसके स्पाइनल कॉर्ड को क्षति पंहुचा देती है जिससे की शिकार अपाहिज होकर तुरंत मर जाता है

एक बिल्ली ऐसे चलती है ताकि उसके पैर से आवाज़ न आये

बिल्ली दिन की अपेक्षा रात में ज्यादा सक्रीय होती है

Male Cat, Female Cat को पाने के लिए अक्सर लड़ाई करते है और इसमें जीत उन्ही की होती है भरी भरकम और मजबूत होता है

चार्ल्स बैबेज कौन थे ?

चार्ल्स बैबेज का जन्म, लन्दन के एक आमिर घराने से सन 1791 में हुआ था ।

उनके माता पिता का नाम बेंजामिन और एलिज़ाबेथ था। उनके पिता लन्दन में बैंकर थे। बेंजामिन के 4 बच्चे थे लेकिन, बचपन में बस चार्ल्स और उनकी बहन मैरी अन्न ही बच पायीं। इकलौता बेटा होने के कारन बेंजामिन ने चार्ल्स को अच्छे अच्छे स्कूलों में भेजा। ऑक्सफ़ोर्ड और कैंब्रिज के ट्रिनिटी collage से उन्होंने सन 1810 में पढाई पूरी की।

16 – 17 साल की उम्र में उन्होंने ऑक्सफ़ोर्ड के एक tutor से कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के लिए तैयारी की।

1810 में उन्होंने कैंब्रिज में दाखिला लिया और 1814 तक वो ग्रेजुएट हो गये। इस दौरान उन्होंने कैंब्रिज में बहुत कुछ किया। वे कैंब्रिज के टॉप क्लास के गणितज्ञ बन चुके थे।

उन्होंने जॉन हेर्चेल और जोर्ज पीकॉक के साथ मिलकर एनालिटिकल सोसाइटी की स्थापना की।

चार्ल्स बैबेज को father ऑफ़ कंप्यूटर के नाम से भी जाना जाता है, उन्होंने Difference Engine और Analytical Engine बनायी, हलाकि ये दोनों इंजन जैसा चार्ल्स बैबेज ने सोचा था वैसा नही बन पाए थे लेकिन उस समय के हिसाब से ये काफी पावरफुल चीज़ थे।

उन्होंने इतिहास का पहला कंप्यूटर बना दिया था।

Difference Engine गुणा और जोड़ करने में सक्षम था, Analytical Engine पहला ऐसा मशीन था जो प्रोग्राम किया जा सके यह सोच कर बनाया गया था, जैसा की आज मॉडर्न डे में हम कंप्यूटर को प्रोग्राम करते हैं।

हलाकि पोलिटिकल और इकनोमिक कारणों से उनका Analytical Engine इंजन कभी पूरा नही हो पाया।

चार्ल्स बचपन से ही तेज तर्रार थे। वे एक मैथमेटिकल और मैकेनिकल जिनिअस थे। कहा जाता है की चार्ल्स स्कूल में अलजेब्रा खुद ही सिख गये थे क्यों की वे अज्लेब्र से बहुत ही मन मोहित थे।

चार्ल्स को गणित में इतना इंटरेस्ट था की जब वे हाई स्कूल गये तब 3 बजे से सुबह 5 बजे तक छुपकर स्कूल जाते थे ताकि वे खुद से कैलकुलस पढ़ पाए।

25 साल की उम्र में वे रॉयल सोसाइटी के मेम्बर बन चुके थे। बाद में उन्हें Lucasian Professor of Mathematics का इनाम भी मिला। यह इनाम इसाक न्यूटन को भी मिला था।

चार्ल्स रिलिजन और भगवान में भी विश्वास करते थे। वे मानते थे की इस दुनिया का सबसे बड़ा प्रोग्रामर भगवान ही हैं।

मछली पानी में कैसे सांस लेती है

हम सभी फेफड़े के द्वारा हवा में साँस लेते है, फेफड़ा ऑक्सीजन को खून में मिला देता है और खून फिर पुरे शरीर में ह्रदय के द्वारा पंहुचा दिया जाता है लेकिन क्या कभी आपने सोचा है की मछलियाँ ये सब पानी के अन्दर रहकर कैसे करती है ?

जिस तरह हमारे पास फेफड़ा होता है उसी तरह मछली के पास गिल होता है जिससे वह पानी में से घुला हुआ ऑक्सीजन निकालती है

गिल पानी से निकला ऑक्सीजन खून में मिला देता है और फिर यह पुरे शरीर को पहुचाया जाता है

हम मछली का गिल उसके सिर के पीछे देख सकते है , यह दिखने में झिल्लीदार स्पंज जैसा होता है

जैसा की हम जानते है की पानी ऑक्सीजन और हाइड्रोजन से बना है लेकिन मछली पानी को तोड़कर ऑक्सीजन नही ले सकती क्यों की ऐसा करने के लिए बहुत एनर्जी की आवस्यकता पड़ेगी, इसके बजाये मछली पानी में घुला हुआ ऑक्सीजन लेती है

क्या सभी मछलियों के पास गिल होता है ?

हाँ और नही, क्यों की हम मानते है की ब्लू व्हेल मछली है, डॉलफिन मछली है लेकिन ये दोनों मछली नही बल्कि मैमल्स में आते हैं और दोनों ही बच्चे को जन्म देते है न की अंडे

व्हेल और डॉलफिन के पास गिल नही होता उन्हें साँस लेने के लिए पानी के ऊपर आना पड़ता है

हालाँकि सभी मछलियों में गिल पाया जाता है, (व्हेल और डॉलफिन को छोड़कर क्यूँ की ये मछली नही हैं ) लेकिन सभी मछलियाँ अपने गिल का उपयोग नही करती जैसा की Lungfish  (लंग फिश ) जो मीठे पानी में रहती है उसके पास लंग्स भी होता है, ये मछली लंग्स से साँस लेती है

अक्सर रुका हुआ पानी में घुले हुए ऑक्सीजन की मात्रा इतनी कम हो जाती है की एक मछली उसमे गिल से साँस नही ले सकती इसलिए वह अपने लंग्स का इस्तेमाल करती है और पानी के ऊपर आकर साँस लेती है

सभी मछलियों में गिल्स होता है लेकिन सभी मछलियों में लंग्स नही होता

गर्मी में दूध खट्टा क्यों हो जाता है

दूध हम सभी के रोजाना खाद्य पदार्थ का एक अभिन्न अंग है, दूध के बिना हम चाय नही पी सकते, दही नही बना सकते, मिठाई नही बना सकते, पनीर नही बना सकते।

दूध जानवरों से लेकर इंसानों तक सभी के लिए जरूरी है, दूध पीकर हम भूक मिटा सकते है और यह हमारे शरीर को सभी जरूरी पोसक तत्व भी प्रदान करता है।

दूध में मिक्रोएलेमेंट्स ( जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम ), वसा, प्रोटीन, विटामिन, एंजाइम और बैक्टीरिया मौजूद होते हैं।

दूध में मौजूद बैक्टीरिया हमारे लिए हानिकारक नही है लेकिन ये वही बैक्टीरिया हैं जो दूध को गर्मियों में अधिक समय तक रखने पर खट्टा बना देते हैं।

दूध में अधिकतर lactobacillus ( लाक्टोबसिलुस ) नाम का एक बैक्टीरिया पाया जाता है जिसकी सुरुआत में जनसँख्या कम होती है लेकिन जब दूध को अधिक देर तक बिना गर्म किये छोड दिया जाये तो वे अपनी जनसँख्या को बढ़ा लेते हैं।

lactobacillus ( लाक्टोबसिलुस ) बैक्टीरिया दूध में मौजूद एंजाइम (lac­tose) लाक्टोस को लैक्टिक एसिड (lactic acid) में बदल देते हैं।

दूध में लैक्टिक एसिड की मात्रा बढ़ने से दूध खट्टा हो जाता है, और बहोत ज्यादा बढ़ने से दूध फट भी सकता है।

दूध को lactobacillus ( लाक्टोबसिलुस ) बैक्टीरिया से अगर हम बचा कर रखे तो दूध को कई दिनों तक रखा जा सकता है।

इसके लिए दूध को तेज आंच पर गर्म करना पड़ेगा ताकि उसमे मौजूद बैक्टीरिया मर जाएँ इसके बाद उस दूध को रेफ्रीजिरेटर (फ्रिज ) में रखना पड़ेगा।

ठण्ड में lactobacillus ( लाक्टोबसिलुस ) उतने ग्रो नही कर पाते जितने की गर्मियों में, इसलिए गर्मियों में दूध अक्सर खट्टा हो जाता है।

दूध को फ्रेश रखने के लिए उसको साफ़ बर्तन में रखना चाहिए जैसे की ग्लास या सेरामिक के बर्तन, या स्टील के बर्तन।

दूध के बर्तन को ठन्डे पानी से धोना चाहिए।

दूध को ढक कर और दुर्गन्ध से दूर रखना चाहिए।

दूध को प्रकाश से भी दूर रखना चाहिए क्यों की प्रकाश दूध में मौजूद विटामिन्स को तोड़ देते हैं।

कूलर कैसे काम करता है

गर्मियों में आप एयर कूलर तो जरूर इस्तेमाल करते होंगे, लेकिन क्या कभी आपने सोचा है की एयर कूलर कैसे काम करता है ?

एयर कूलर को अंग्रेजी में हम स्वाम्प कूलर या एवापोराटिव कूलर भी कहते है, यह कूलर ठीक उसी सिधांत पर काम करता है जिस सिधांत पर पानी से भरा मटकी।

इसे और आसानी से समझने लिए हम एक उधारण लेते हैं, आप जब स्नान करके हवा खाने जाते हैं तो आपको ठण्ड लगती है।

अगर शरीर पूरा भीगा है तो ज्यादा ठण्ड लगती है और कम भीगा है तो कम लगती है लेकिन आखिर ऐसा होता क्यों है।

जब हमारे शरीर पर पानी होता है तो वह पानी जब सूखता है तो हमे ठण्ड लगती है, यहाँ पर पानी द्रव अवस्था से गैसीय अस्वथा में जब बदलता है तो उसे हीट (गर्मी ) की जरूरत पड़ती है, तो जब गरम हवा उस पानी से टकराता है तो वह उस पानी तो भाफ या गैस में बदल देता है इस प्रक्रिया में गरम हवा ठंडा हो जाता है क्यों की उसकी सारी गर्मी पानी द्वारा सोख ली जाती है और इस प्रकार हमे ठण्ड लगने लगता है जब तक की सारा पानी सुख न जाये।

कूलर भी इसी सिधांत पर काम करता है, कूलर में जो हम पानी डालते है वो गरम हवा से गैस में बदल जाता है और गरम हवा कूलर के अन्दर ठंडा हो जाता है जिसे कूलर में लगा फैन बहार की ओर फेक देता है और हमे इस तरह ठंडा हवा मिलता है।

कूलर के 3 साइड में खस लगे होते है जिसपर पानी गिराया जाता है, और जब उन पानी की बूंदों से गरम हवा टकराती है तो वह उन बूंदों को भाफ में बदल देती है और ठंडी हो जाती है।

एयर कूलर, AC से पर्यावरण के लिए अच्छा है क्यों की AC में मौजूद केमिकाल्स हमारे ओजोन परत को ख़राब कर रहे है कूलर का कोई ऐसा साइड इफ़ेक्ट नही है।

कूलर का एक खामी यह है की उसे बहोत ज्यादा पानी चाहिए होता है। ऐसे जगह जहाँ पानी की किल्लत है वह कूलर लगाना महंगा पड़ सकता है।