10 Indoor Flowering Plants that do not need Sunlight in India

Everybody loves the touch of nature and we all know that most of the plants need proper sunlight to grow and develop.

If you are looking for such flowering plants that do not need sunlight in India and you can keep them to your living area, drawing room, or anywhere in your house.

Fortunately, there are many suitable plants available that only grow without direct sunlight and you can place them indoor area. Here we are listing 10 indoor flowering plants that only need a little shade and moisture, so let’s take a look:-

Dracaena:

There are 50 different varieties available of Dracaena plant and this one is suitable for indoor space. It looks great at your home and you can place it anywhere in your house.

Try to avoid excess watering only water it whenever soil looks dry.

Maidenhair Fern:

If you are a fern lover then this plant can be a favorable choice as an indoor plant. The plant looks like human hairs and the leaves cover the whole pot slowly. All you need to notice one thing that avoids excess watering of this plant.  

Bromeliads:

This tropical plant can be grown anywhere and it is suitable for both options an indoor and outdoor areas. It looks great after grow well and need less sunlight and keep away this from direct sunlight.  

Parlor palm:

Parlor palm is a popular plant of palm family, especially for indoor areas. This plant can be grown easily in darker places without sunlight. It requires no extra care or attention that’s why people love it.  

Snake plant:

Snake plant or also known as Mother in law’s tongue plant is adored by many plant lovers and it is great indoor flowering plants that need no sunlight to grow. It is a famous plant and needs less care and maintenance. The snake plant can bear the dark areas and can survive easily in the less water.  

Palm:

Umbrella palm is also a good choice as an indoor plant. This evergreen palm can be grown to the dark areas but it should be kept at the moisture place. One can also keep the tray filled with water under the palm.  

Creeping Fig:

This tiny plant grows slowly and needs less water. The leaves are dense and thick and it looks wonderful and suits your home decor. Only remember that water the plant whenever the soil looks dry.   

The dark green shaded leaves spread surrounding the pot that makes it more vibrant and attractive.

Prayer plant:

Prayer plant or also known as Maranta Leuconeura is a suitable plant for indoor places and it looks really beautiful. It grows perfectly well without needing direct sunlight. Even the straight sunlight can harm the leaves.

Calathea:

One of the most pretty and lovely plants that are also known as peacock plant and it grows well in the light shade and less sunlight. All it needs the proper watering according to the temperature of atmosphere.  

Money plant:  

Money plant or also known as Devil’s Ivy can be grown indoor areas and need less maintenance and sunlight. This plant has been grown in most of the Asiatic countries on a large scale and some of them consider it as a holy plant.  

These plants will not only decorate the house but also enhance the natural feeling in the house that will provide a deep calmness and relaxation to you. We hope that you like this article and please share your thoughts with us.  

How to Make Your Kitchen look Expensive on a Budget

A proper space in the kitchen is necessary as your other rooms and a housewife can seriously understand the importance of the kitchen. Are you looking for some tips and tricks to make your kitchen more efficient? Don’t worry, we will help you.  

If you are not satisfied with your kitchen then you must read this article because here we will reveal some special secrets to make your kitchen look expensive on a budget, so let’s have a look at that:-

Change the Hardware:

The kitchen hardware plays a lead role in the kitchen and if you want your kitchen looks modern and luxurious then use the good quality hardware, like the drawers, chimney, and cabinets.

You can easily buy these products online at a cost-effective range and according to your budget. Replace all those ugly, old, and fate-colored hardware and add some new products and it will change the kitchen look completely.  

Use Light Painting:    

The dark shade of the kitchen walls makes it look darker and never shows the space of the kitchen. If your kitchen has dark paintings or color then it is the time to change it. Use a light color for a kitchen like vanilla, cream shade, or white would be perfect.  

The light color reflects the shades and space in your kitchen and it looks brighter and open and also helps to hide those dents and dings of our drawers.  

Change the Old Lightening:

An appropriate kitchen light can change the whole scene of your kitchen. Always use bright lightening for your kitchen it will not only help in visibility but also enhance the space and brightening of your kitchen.

If you have those yellow lights in your kitchen then instantly change it. There are many lights and chandeliers available online that you can choose for your kitchen.    

Use Advanced Methods for Cabinets:

Now modern technology has changed most of the old ways and kitchen cabinets are one of them. You can use smart cabinets that fit in the small space and provide a large space with ergonomic outlook and make your kitchen look luxurious in the budget.    

Use glass cabinets and sliding drawers for the kitchen and place your small kitchen tools in that.

Do Some Art job:

A little effort of the artwork can change the whole look of your kitchen and you need not hire somebody from the outside just do it yourself. You can use wallpapers and wall paintings that are easily available at a cheaper price.

Use your imagination or watch YouTube for more ideas and this artwork will highlight the kitchen space as well as make it look expensive.   

Make Space for small appliances:

The regular kitchen appliances like a blender, coffee maker, mixer, juicer, and toaster take a lot of space of the counter. You must make some space in the kitchen for hiding these small appliances.

You can buy a trendy shelf or basket for placing these appliances. It will make your kitchen clean and tidy and you will get more space for other work.    

Replace the Old Stuff:

If you are still using those old fruit baskets or trays then it is the time to replace them with a simple sober ginger jar or some decorative trays. Place the stainless steel utensils in the cabinets that look great.

There are different colors available in the market especially for utensils that you can use to decorate them. Keep your kitchen clean or you can also use kitchen freshener to reduce the smell.   

Follow these simple steps and you will see a huge transformation in your kitchen and must share your experience with us.  

Best Electric Kettles in India- Buyer’s Guide and Reviews

If you are looking for a stylish and smart electric kettle for your kitchen then you are at the right place because here we have listed the best electric kettles in India according to their quality, ratings, client’s reviews, and other basic features.

Electric kettle can be used for boiling water, making tea or coffee, instant noodles, and heating vegetables easily. It is suitable for bachelors and families. You can easily take this anywhere but the product must be fine quality.

So let’s take a look at that and decide by yourself which one you would like to buy:-

Maharaja Whiteline Viva Electric Kettle:

The famous brand of India launched a perfect solution for hassle-free preparing your food. It quickly heats up the item with 1200 watt power and 1-liter capacity. The handle is quite sturdy with a good shape and grip.

The outlook is also fine as well as the price is also cost-effective and easily available online with free-delivery option and loved by most of the customers with 4.0 ratings out of 5.

Check the price here: Amazon

Solimo Electric Kettle:

This wonderful appliance is available in 1.2-liter capacity with 15oo watt power supply. The automatic timer prevents food from burning over-cooking. The heavy sheet keeps the outer layer cool and ergonomic handle never slips while serving.

The water measurement indicator helps you to pour the needed amount of water. The black and white design looks impressive and you will definitely love it. The ratings are 5 out of 5.

Check the price here: Amazon   

Wonderchef Luxe Kettle:

One of the well-known brands of India Wonderchef offering a beautiful electric kettle with a stainless steel interior that is more hygienic and keeps your food fresh and warm. It is available in bright red color with one-year of product warranty and 1.7-liters capacity.

The ratings are 4.3 out of 5 and loved by most of the clients.

Check the price here: Amazon

Philips HD9306/06 Kettle:

Philips has earned a lot of love from their clients due to its high-quality products. This kettle is easy to use and maintain. The broad size of the lid helps to pour liquid items easily. The stainless steel interior enhances food safety and hygiene.   

The sensors prevent overcooking and food burning. You will get 2-years of warranty and money back guarantee within 10 days if not like it. The ratings are 4.4 out of 5.

Check the price here: Amazon  

Kent 16023 Kettle:

This electric kettle is available in 1.7-liter capacity 1700 watts. There is no plastic material has been used to make the product which is a plus point and increases the quality of the food. The glass body enhances visibility.

The outlook and handle grip is sturdy with an auto-timer censer and stainless steel lid. The ratings are 3.9 out of 5.

Check the price here: Amazon

Black& Decker electric Kettle:

This electric kettle is ideal for making pasta, noodles, tea, and coffee with 2-year of product warranty. You can set the heating temperature accordingly and 360 rotational body is a good feature.

You will get a steel plate and a steaming base as extra accessories with the item. The ratings are 4.4 out of 5.

Check the price here: Amazon

Prestige PKOSS Kettle:

The prestige electric kettle is ideal for making soup, stew, noodles, and tea with a 1.5-liter capacity. The product is loved by thousands of satisfied clients and the price is also quite reasonable.

You will get 10 days refundable policy and one-year of prestige warranty. The ratings are 4.1 out of 5.

Check the price here: Flipkart

Best Electric Rice Cooker in India – Buyer’s and Reviews Guide

Electric rice cookers are one of the kitchen appliances that a rice lover must have in the kitchen. Choosing an appropriate rice cooker is the not that easy you will found numbers of branded products online that will make you confused for sure.

You will have to browse several websites and compare the price, reviews, and the product quality step by step that is total time wasting but now don’t worry because we will help you to choose a perfect rice cooker.

There are different types of rice cookers are available in the market like induction rice cooker, standard rice cooker, multifunctional rice cookers, etc. we are listing here the selected items, let’s take a look at that:-

Prestige Electric Rice Cooker:

Prestige presenting the high-class 700-watt rice cooker with two aluminum pans inside that will cook the rice firmly. You can easily make Biryani, Pulav, stew, soup, idli, and steamed vegetables, etc.

The outlook is amazing with a stainless lid and scoop. The ratings are 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon 

Panasonic SR-WA22H Rice Cooker:

Panasonic has developed this 5.4-liter rice cooker with 5 years of heater warranty and 2 years of appliance warranty. The quality is also fine with a scoop, a plate, cooking pan, a cup, etc.

One can easily cook 1.25 kg of rice at one time and ideal for a medium family. The ultimate apple green color looks attractive and suitable for the kitchen and the ratings are 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

BMS Lifestyle Rice Cooker:

This cooker of perfect for traveling and the nonstick inner pan allows quality and keep the food warm for 10 to 12 hours. The impressive design, a fine Quality, and efficiency of the product make this item more demand-able.

It is a multifunctional product and can be used for multipurpose and the ratings are 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon     

I-Bell Multi-purpose Electric Rice cooker:

Covered with a stainless steel structure with 1.2 L capacity multifunctional rice cooker can be used in several dimensions. It can be also used for traveling and one can easily make pasta, tea, coffee, vegetables, and many other dishes.

The price is also reasonable with 4.2 ratings out of 5.

Check the price here: Amazon      

Black+ Decker Electric Cooker:

The automatic electric rice cooker provides effortless and smart cooking. The aluminum cooking pan keeps the food fresh and warm for a long time. You can easily take this anywhere and can be used for multipurpose.

The stainless steel lid cooks the food from all the sides and heat resistant handle prevent burning. The ratings are 5 out of 5.

Check the price here: Amazon  

Sowbhagya Automatic Cooker:

The sturdy outlook and the attractive color of this electric rice cooker are amazing. You can prepare multiple dishes in a less time period. The heat resistant panel and aluminum pan makes it worthy and the price is also reasonable.

You can buy this product online with 1 year of warranty and if not satisfied then the refundable policy is also available. The ratings are 5 out of 5.  

Check the price here: Amazon

Geek Robocook Rice Cooker:

This kitchen appliance is available with 11 in 1 function and suitable for Indian cuisine. You will have hassle-free cooking and prepare the dishes within minutes that take hours to prepare on the common stove.

The sensitive touch panel enhances the smartness of the product. it preserves the nutrients and minerals of the food and automatic time control prevent over-cooking. The ratings are 5 out of 5.

Check the price here: Amazon     

Best Multipurpose Electric Frying Pan in India- Buyer’s Guide and Reviews

If you have the right cooking appliance you can make your cooking experience interesting and smarter. Don’t you think that modern science has invented many adorable kitchen gadgets that make your busy life easier?

If we talk about frying pans they also become advanced and electric. Now you can use a frying pan for multipurpose like steaming, frying, making pizza, etc.

You must aware that what kind of utensil you are using for preparing the food? Is that okay with your health? Is that non-stick material or common material?

Here we are mentioning the best multipurpose electric frying pan in India that is simply available online and helps you to make a better choice, let’s have a closer look at that:-

CPEX 2 in 1 Electric Frying Pan:

This non-stick frying pan can be used for cooking, steaming, making pancakes, frying, etc. it is crafted in the round shape that evenly spreads the heat around the food and cooks it nicely and firmly.

The sturdy plastic handle has a favorable grip and transparent lid allows the finest visibility for your food. It is a perfect egg boiler and automatic time setter works great. You can boil up to 7 eggs in one time.

The ratings are 4.1 out of 5.

Check the price here: Flipkart

Nashware Multi functional Frying Pan:

Nashware has brought a multipurpose electronic frying pan through you can make fried dishes, dumplings, momos, boiled eggs, pancakes, etc. The lightweight of pan provides easiness and ergonomic design is suitable to cook several dishes.

It is available in different colors and price are also reasonable with 10 days money back guarantee. You can easily take it anywhere and suitable for traveling. The ratings are 3.7 out of 5.

Check the price here: Flipkart

Shreeji Ethnic Frying Pan:

This automatic electronic frying pan is worthy for multi-functional usage. The non-stick coating prevents food from sticking to the surface and heat-efficiency cook the food evenly. It is available if multi colors so you have many choices.   

The small size of the pan allows you to take it anywhere. You can easily make poached eggs, fish, hot milk, pancakes, fried eggs, pizza, and many more. It is easily available online with free delivery option and with 10 days money back guarantee. The ratings are also good 3.5 out of 5.

Check the price here: Amazon

D& D Electric Frying Pan:

D& D multipurpose electric frying pan is also can be a good choice for you. The small size of the product with light weight enables the efficiency of the product. it saves a lot of time and energy and non-stick coating cook your food in less oil which is good for your health.

You can carry this pan anywhere for poaching or boiling eggs, making pancakes and dumplings, etc. Now forget about the common stoves just switch on the plug and cook your food wherever you want to cook. It is available in different bright colors and the ratings are 3.6 out of 5.

Check the price here: Amazon

AEXiVE Compact Versatile Frying Pan:  

This versatile multipurpose frying pan looks very stylish and will enhance the decor of your kitchen. The efficient thermal and heating process prepare food from all the side and prevent burning or sticking.

The price is also low and available in bright colors. It is a smart mixture of the electric frying pan and egg boiler. The transparent cover lid increases the visibility of the food. Simply plug in the pan and prepare fish, pancakes, dumplings, fried items, and boiled eggs, etc.  The ratings are 2.9 out of 5.

Check the price here: Amazon

Top 10 Best Microwave Ovens in India- Buyer’s Guide and Reviews

The modern gadgets have fastened and eased up each process and cooking is also one of them. Now you need not stand in the kitchen for a long time for preparing a dish.

A Microwave oven is one of the greatest product through you can prepare Kebabs, cakes, Lasagna, Chicken, and many more dishes in a few minutes in less oil.

You will find plenty of microwave ovens in the market but choosing the right one is the tough task. Here we are mentioning the top 10 best microwave ovens in India have a quick glance at them and decide by you.    

Samsung 28 L convection microwave oven:

Reckoned as the bestseller product this microwave oven can reduce the timing of cooking. You can easily make Tandoori items, baked items, and grilled items.

One of the most trusted brands Samsung has discovered the trustworthy item for their buyers and the rating is 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

LG 32 L convection microwave oven:

This large size oven perfectly suitable for big families includes grilling process, cooking, defrosting, baking, etc. it is available in different colors with one-year brand warranty and 4 years warranty of magnetron.

One can easily make Indian bread and other exotic Indian dishes with this superb convection microwave oven within minutes. The product has been liked by the numbers of clients and rated 4.4 out of 5.   

Check the price here: Amazon

IFB 17 L solo microwave oven:

IFB has again proved that it never compromise with the quality and the service. This oven is available in an attractive white color that will suit your kitchen decor. The size is also average and worthy for bachelors and small families.

It is easily available online with 1-year product warranty and 3 years of magnetron warranty. The customers have rated it 4.2 out of 5.

Check the price here: Amazon 

Bajaj 17 L solo microwave oven:

Bajaj is the name that is a well-known brand from many past years. This middle size oven is the best option for singles and small family. The price is also reasonable and the ratings is 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

Morphy Richards 23 L microwave:

This product has amazing reviews due to its fantastic looks and features. Available in black color with total safety options, you can buy this online and the ratings are 5 out of 5.

Check the price here: Amazon

LG 28 L microwave oven:

You will get a starter kit with this oven with 4 years of magnetron warranty. It is easy to maintain and easy to clean and the touch panel is also smooth and sensitive. The rating is 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

Koryo 25 L M oven:  

It is Suitable for Indian kitchen methods like grilling, defrosting, cooking, and reheating, etc. you can easily set the temperature with different modes and the ratings are 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

Godrej 25 L microwave oven:

The tactile buttons help to set and change the temperature. The size is also medium suitable for every family size or bachelors. The outlook is also impressive and the ratings are 4.2 out of 5.

Check the price here: Amazon

IFB 20 L grill oven:

This oven is crafted for regular use with advanced sensitive touch panel. You can easily refund your all money if not like the product within 10 days. The client satisfaction ratio is good and ratings are 4.3 out of 5.

Check the price here: Amazon

Samsung 23 L solo oven:

The beautiful black solo oven is 100% worthy to buy with the reliability of Samsung. You can set the temperature with tactile buttons. The price is cost-effective and ratings are 4.0 out of 5.

Check the price here: Amazon

Best kitchen chimney in India – Buyer’s Guide & Reviews

Are you searching for a perfect way to reduce grime, heat, and smoke from your kitchen? Do you often feel that now modern kitchens deserve the smartest way to get rid of those all troubles that you face whenever cook in the kitchen?

Well, we have a genuine and working solution available that will remove all of your kitchen troubles.

Here we will mention the best kitchen chimney and briefly elaborate their features to make your decision easy. So let’s take a look at that:-

Elica 60 cm 1200 m3/hr chimney

The product comes with 5-year motor warranty and one-year product warranty. The auto-clean technology and LED lights make this product worthy for your kitchen.

This electric chimney based on the touch panel. Elica has crafted such an elegant kitchen appliance that suits the modern kitchens and an overall solution for your all troubles.

It cleanses itself by the heating process just pressing a button and keeps the kitchen fresh, odor-free, without any noise. The free installation kit enhances product demand as well.  

Check the latest price here: Amazon

Faber 60 cm 1200 m3/h filter less chimney

The Faber chimney has a powerful motor with a sturdy design and strong suction formula. It has no filters that ease up the cleaning process and heat and smoke directly sucked by the motor that makes the maintenance charges 0.

It has 2 LED lights and a touch panel. The outlook of the product is also attractive that will suit your kitchen decor. It has an oil collector available that collects the oil present in the smoke and keeps the chimney safe and clean.

The product has 4.3 ratings out of 5 with numbers of satisfied clients. Easily available online with no cost EMI and 0 delivery charges.     

Check the latest price here: Amazon

Hindware 60 cm 1100 m3/hr chimney

Hindware introduces an advanced product for your kitchen with smart LED lights, touch panel, and max air flow without generating any disturbing noise. The matte black color increases the beauty of your kitchen with a sturdy outlook.

The baffle filters made with stainless steel work efficiently. The product motor has 5-year warranty with one-year product warranty. The brighter LED lights enhance the work stamina and make your vision clear.   

The brand Hindware is enough for quality assurance especially in India and makes your cooking experience hassle-free and lovely.  

Check the latest price here: Amazon

Faber 90 cm 1200 m3/hr chimney

Again Faber has developed a powerful kitchen appliance to ease up your kitchen experience. The item has a strong motor system that sucks all the heat and smokes out from your kitchen with less-noise.

Only with one smart touch, the chimney would be clean itself and all the oil particles. The extra oil and grease collect in the oil collector that prevent chimney. People love this product very much that’s why rated it 4.3 stars out of 5.  

Check the latest price here: Amazon

Eurodomo 60 cm 1200 m3/hr chimney    

The high-tech smart design with sturdy outlook and filters are made of heavy material and stainless steel. Eurodomo has brought an efficient chimney that is completely designed to sort out all the common troubles and a chef can understand it well.

It is suitable for 2-4 burner stove with 5-year motor warranty that makes your life easier. The baffle filter is the best for Indian kitchen as it requires more oil and produces more smoke and heat.

The elegant and attractive black color is favorable for all kind of kitchen decor. The product has high demand that’s why it has been rated 4.5 stars out of 5 and available online with no delivery charges and 0 cost EMI.   

Check the latest price here:Amazon

ट्विटर Twitter का आविष्कार कैसे हुआ

फेसबुक की तरह ट्विटर भी एक सोशल मीडिया का स्त्रोत है, जो दुनिया भर के लोगों से जुड़ने में सहायक होता है तथा किसी भी विषय के बारे में जानकारी ग्रहण करने तथा व्यक्तिगत विचार व्यक्त करने में सहयोगी होता है।

जैक डॉर्सी, नोह ग्लाज़्, बिज़ स्टोन, इवान विलियम्स को ट्विटर के संस्थापक के रूप में जाना जाता है। 21 मार्च 2006 को ट्विटर की स्थापना की गई थी।

सेन फ्रांसिस्को, केलिफोर्निया, यूनाइटेड स्टेट्स में ट्विटर का मुख्यालय स्थित है।

ट्विटर पर लिखित रूप से कोई जानकारी साझा करने या पोस्ट करने की प्रक्रिया को ट्विट करना कहा जाता है।

एक ट्विट में लिखने की अधिकतम सीमा 140 वर्णों की होती है अर्थात् एक ट्विट में 140 से अधिक वर्णों का इस्तेमाल नही किया जा सकता, परन्तु ट्विट करने की सीमा निर्धारित नही है। उपयोगकर्ता अपनी इच्छानुसार कितने भी ट्विट कर सकता है।

दुनियाभर में चल रहे चर्चित विषयों की जानकारी पाने के लिए तथा उन मुद्दों पर अपने विचार प्रकट करने के लिए ट्विटर एक अच्छा माध्यम है। ट्विटर में लोगों के द्वारा किसी विशेष विषय पर ट्विट किये जाते है, जिन्हें हम ट्विटर खाता (अकाउंट) बनाये बिना भी पढ़ सकते हैं, परन्तु उस ट्विट पर अपने विचार साझा करने के लिए या सवाल-जवाब के लिए ट्विटर खाता बनाना आवश्यक होता है।

कैसे बनाये ट्विटर पर अपना अकाउंट:

ट्विटर खाता बनाने का कार्य अत्यन्त सरल है। इसके लिए मोबाईल नम्बर से ट्विटर में साइन-अप करना पड़ता है, जिससे खाता निर्माण होता है|

ट्विटर पर हम जिनको फ़ॉलो करते हैं, उन्ही के ट्विट हमारी होमस्क्रीन पर दिखाई देते हैं। इसे यूँ भी कह सकते हैं कि हम जिनके ट्विट पसन्द करते हैं तो इस देखने के लिए उन्हें ट्विटर पर फ़ॉलो करना पड़ता है। जैसे किसी सेलिब्रिटी के अद्यतन ट्विटस को देखने के लिए हमें उस सेलिब्रिटी को फ़ॉलो करना होगा।

कैसे कार्य करता है ट्विटर:

ट्विटर पर यदि हमे किसी व्यक्ति का कोई ट्विट पसन्द आ जाता है और हम उसे आगे शेयर करना चाहे तो हम उस ट्विट को दुबारा ट्विट करते हैं। इस प्रकार से ट्विटर पर किसी अन्य व्यक्ति द्वारा किये गए ट्विट को दुबारा ट्विट करने की प्रक्रिया को रिट्वीट करना कहते हैं।

ट्विटर हैशटैग पद्धति पर आधारित है। ट्विटर में ट्विट करने के लिए सम्बन्धित व्यक्ति या विषय को मुख्य रूप से दिखाने के लिए आधार प्रदान करने के उद्देश्य से हैशटैग (#) का इस्तेमाल किया जाता है। इस हैशटैग के अनुसार ही उस विषय में चर्चा आगे बढ़ाई जाती है। खोजने के विकल्प का उपयोग आसान बनाने में भी हैशटैग का मुख्य योगदान है।

ट्विटर एप के कुछ विकल्प फेसबुक की तरह ही है। इस पर फोटो भी शेयर की जाती है। ट्विटर उपयोगकर्ता द्वारा किये गए ट्वीट्स व फ़ोटो को पब्लिक कर दिए जाने पर यह सभी को दिखाई देती है, परन्तु इसमें सिक्योरिटी सम्बन्धी विकल्प भी दिए होते हैं, जिससे प्रत्येक व्यक्ति द्वारा न देखे जाने की भी सुविधा होती है। इसे केवल अपने फॉलोअर्स तक सीमित रखा जा सकता है। जो लोग हमें ट्विटर पर फ़ॉलो करते हैं, उन्हें फॉलोअर्स कहा जाता है।

आज के समय में लाखों की संख्या में ट्विटर पर अकाउंट बनाये जा चुके है एवं रोजाना कई नए लोग इससे जुड़ रहे है| सोशल नेटवर्किंग ने दुनिया को जैसे आपकी मुठ्ठी में लाकर खड़ा क्र दिया है|

आप कही भी हो, अपने विचार लोगों के समक्ष रख सकते है एवं अपने रोल मॉडल के विचार भी जान सकते है| उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आई होगी, आपकी ट्वीटर को लेकर क्या सोच है ये हमसे जरुर शेयर करे एवं कमेंट बॉक्स में अपनी राय अबश्य दे|

सामान्यतः लोगों का यह मानना है कि ट्विटर का इस्तेमाल सेलिब्रिटी व बड़ी हस्तियों के द्वारा ही किया जाता है। आये दिन समाचारों में भी सुनने में मिल जाता है कि अमुक सेलिब्रिटी के द्वारा किये गए ट्विट के संबंध में  शीत युद्ध हुआ या चर्चा हुई या किसी बड़ी हस्ती द्वारा किया गया ट्विट चर्चा का विषय बना। इस वजह से आम लोगों की धारणा बन गयी कि ट्विटर केवल विशेष व्यक्तियों द्वारा उपयोग में लाई जाने वाली एप है, परन्तु यह केवल एक मिथ्या है, क्योंकि इसमें ऐसी किसी भी शर्तों का वर्णन नही किया गया है। फेसबुक की तरह ही ट्विटर एक ऐसी एप है, जो किसी भी व्यक्ति द्वारा सामान्य रूप से ट्विटर खाता बनाकर इस्तेमाल की जा सकती है।

कैसे बनी फेसबुक How Facebook was created?

सोशल मीडिया का जाना पहचाना स्त्रोत है- फेसबुक। आज के समय में युवाओं में फेसबुक सर्वाधिक प्रचलित है। अपने पुराने साथियों से जुड़े रहने व दुनियाभर में भिन्न-भिन्न लोगों से सामाजिक सम्बन्ध स्थापित करने में फेसबुक सहयोगी सिद्ध होती है।

सन् 2004 में हार्वर्ड के एक विद्यार्थी ने यह एप बनाई थी, जिनका नाम है- मार्क जुकरबर्ग। शुरुआत में एप का नाम “द फेसबुक” था। उस दौर में यह स्कूल-कॉलेज के विद्यार्थियों में धीरे-धीरे उपयोग में लाई जाने लगी व इसके बाद पूरे यूरोप में इसका प्रचलन बढ़ गया। सन् 2005 में इसका नाम “फेसबुक” कर दिया गया तथा आज भी इसी नाम से प्रचलित है। आज विश्व भर में फेसबुक का प्रयोग जोर-शोर से हो रहा है और इसकी विशेषता यह है कि इसे विभिन्न भाषाओं में उपयोग करने के विकल्प भी उपलब्ध है।

फेसबुक के संस्थापक:

मार्क जुकरबर्ग इसके प्रमुख संस्थापक हैं तथा इनके साथ सहयोगी रहे एडुआद्रो स्वेरिन, डस्टिन मस्कोविट्ज़, क्रिस व्हूजेज  को फेसबुक के सह-संस्थापक के रूप में जाना जाता है।

फेसबुक के विषय में उल्लेख करने से पहले हमें इसके संस्थापक के जीवन के सम्बन्ध में कुछ जानकारी देनी आवश्यक है।

मार्क एलियट जुकरबर्ग का जन्म 14 मई 1984 को न्यूयॉर्क में एक यहूदी परिवार में हुआ था। जुकरबर्ग की धर्म के प्रति कोई आस्था नही थी, वे नास्तिक प्रवृति के हैं। इनके पिता का नाम एडवर्ड जुकरबर्ग है तथा माता का नाम कैरेन केम्परेन् है। इनकी पत्नी का नाम प्रिसिला चेन है। इनकी बचपन से ही कम्प्यूटर प्रोग्रामिंग में विशेष रूचि थी। इसी रूचि के फलस्वरूप इन्होनें फेसबुक बनाई थी।

फेसबुक का उपयोग व उपयोगिता:

फेसबुक उपयोग करने के क्रम में प्रथम कार्य खाता बनाने का होता है। इसके बाद अपनी फेसबुक प्रोफाइल तैयार करने हेतु निजी ब्यौरा देना होता है। प्रोफाइल हेतु अनेक विकल्प दिए होते हैं, जिसमें नाम, शहर, राज्य, फोटो, अध्ययन सम्बन्धी ब्यौरा, जन्मतिथि, कार्यक्षेत्र, नौकरी या व्यवसाय। इसमें से सभी विकल्पों को भरना अनिवार्य नही होता है, परन्तु सभी को रिक्त नही रखा जा सकता, क्योंकि कुछ विकल्प प्रोफाइल निर्माण हेतु आवश्यक व अनिवार्य होते है। इस प्रोफाइल के जरिये ही फेसबुक पर हम अन्य व्यक्तियों को ढूंढ सकते हैं तथा अन्य व्यक्ति हमें ढूंढ सकते हैं तथा फेसबुक मित्र बन सकते हैं।

फेसबुक पर समूह निर्माण की भी सुविधा उपलब्ध होती है। इसमें बहुत से लोगों का जुड़ाव होता है। यह समूह विद्यालय या कॉलेज या ज्ञान सम्बन्धी विषय का या हास्य या व्यवसाय या धर्म अर्थात् किसी भी प्रकार का समूह हो सकता है, जिसमें एकता रखने वाले लोगों को जोड़ा जाता है। इसमें जुड़ने के लिए व्यक्ति को आमंत्रण भेजा जाता है। वह स्वेच्छा से स्वीकार या अस्वीकार कर सकता है। इसी के साथ स्वीकार करने के बाद चाहे तो स्वीकृति रद्द भी जा सकती है। इस प्रकार समूह के जरिये भी श्रंखलाबद्ध रूप से लोग आपस में जुड़ते रहते हैं।

फेसबुक पर कोई भी फोटो या अपनी फोटो डालना व शेयर करना, स्टेटस अपलोड करना जैसे हम कुछ विशेष कर रहे हैं या कहीं जा रहे हैं; सम्बन्धी जानकारी को अपने फेसबुक मित्रों के साथ बाँटना आदि सुविधाएँ भी उपलब्ध हैं।

इसके अतिरिक्त फेसबुक पर स्वयं का पेज बनाने की भी व्यवस्था है। जैसे अपनी व्यैक्तिक कला सम्बन्धी प्रदर्शन करने के लिए या अपने किसी व्यवसाय या कार्य का विज्ञापन करने के लिए पेज बनाकर प्रस्तुतिकरण किया जाता है तथा फेसबुक पर लोगों को अपने पेज को पसन्द करने के लिए आमन्त्रित किया जाता है।

सुरक्षा विकल्प:

इन सब के अलावा फेसबुक उपयोगकर्ता के लिए सुरक्षा सम्बन्धी विकल्प भी दिए होते हैं, जिनमें उपयोगकर्ता अपनी व्यक्तिगत सूचना, फोटो, स्टेटस आदि को अनजान लोगों से छुपाने के लिए व कमेंट पर प्रतिबन्ध लगाने के लिए ऐसे विकल्पों का चयन कर सकता है।

यदि उपयोगकर्ता किसी व्यक्ति के द्वारा फेसबुक पर सन्देश भेजने या अन्य किसी भी कारण से कोई परेशानी का अनुभव करता है तो इसमें ब्लॉकिंग का भी विकल्प होता है। इसमें ब्लॉक कर दिए जाने के बाद वह व्यक्ति फेसबुक की प्रोफाइल खोलने व सन्देश भेजने में असमर्थ हो जाता है।

फेसबुक के दुष्परिणाम या दुष्प्रभाव:

चूँकि फेसबुक इंटरनेट के द्वारा चलित एप है, तो सम्भवतः इंटरनेट के कारण बहुत से दुष्प्रयोग किये जा रहे हैं। कुछ लोगों द्वारा जानबूझकर लोगों से जुड़ने के लिए या परेशान करने के लिए अपनी असली पहचान उजागर न करते हुए नकली फेसबुक प्रोफाइल बनाई जाती है, जिसे फेक आई डी कहते हैं।

जातिगत भेदभाव को बढ़ावा देने के लिए फेसबुक पर जाति सम्बन्धी फोटो डाली जाती है, टिप्पणियाँ की जाती है तथा समूह बनाये जाते हैं, जिनसे जातिगत हिंसा को बढ़ावा मिलता है।

धर्म सम्बन्धी चर्चा हेतु बनाये गए समूह व धार्मिक भेदभाव को प्रदर्शित करने वाली फ़ोटो के द्वारा अभिन्न धर्मों के लोगों के मध्य आपसी रंजिश पैदा होती है। 

इसी प्रकार फेसबुक के माध्यम से ओर भी कई प्रकार के व्यक्तिगत विषयों पर हो रही चर्चा से आपसी मतभेद उत्पन्न होता है। कुछ रहस्य के रूप में रखी जाने वाली कुछ बातें सार्वजनिक हो जाने से झगड़े के कारण पैदा होते हैं|

क्यों होता है, दर्द का एहसास Why you Feel The Pain

मानव शरीर हजारों लाखों छोटी बड़ी नसों से मिलकर निर्मित हुआ है, एवं ये एक जाल की तरह मनुष्य शरीर में उपर से नीचे तक फैली हुई है| आपने कभी ख्याल किया कि शरीर को दर्द का एहसास क्यों होता है, यह कई बार ज्यादा या कम क्यों होता है, या कुछ लोगों को इसका एहसास कभी अधिक या कभी न के बराबर होता है ऐसा क्यों है?

बिजली के जैसे तीव्रता से गति करती हुई मानव शरीर की ये लाखों नसे शरीर में हुई किसी भी हलचल या खराबी का संदेश दिमाग तक पहुचाती है जिससे उसे दर्द का पता लग जाता है|

क्या है कारण दर्द होने का?

यह तो जाहिर सी बात है कि शरीर में कही भी दर्द है तो इसका कोई न कोई जाना अनजाना कारण अवश्य होगा| रक्त संचरण अनियमित होना, तनाव, चोट, किसी प्रकार का संक्रमण, सूजन, कोई बीमारी, जलन आदि दर्द के कारण हो सकते है|

इसके साथ यदि भावनात्मक स्तर पर देखे तो गुस्सा, चिडचिडापन, अवसाद आदि के कारण भी शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है|

दर्द के बढने पर इसके लक्ष्ण बाहर स्पष्ट होने लगते है, जैसे की उलटी आना, बेहोश होना, रक्तदाब बढना, कमजोरी आना आदि|

दर्द को कम करने हेतु कई तरह की दर्द निवारक दवाइयों का इस्तेमाल किया जाता है| एक्यूप्रेशर एवं सुजोक पद्दति भी दर्द को कम करने का कार्य करती है एवं रक्त संचार को ठीक किया जाता है|

कैसे होता है दर्द का एहसास:

शरीर में मौजूद किसी नस के क्षतिग्रस्त होने, रक्त संचार में बाधा आने, या नस के फटने पर दर्द का एहसास होता है| नसों को नुकसान पहुचने पर उत्तकों को भी हानि पहुचती है जिससे काफी दर्द का एहसास होता है|

दर्द की तीव्रता का एहसास अलग-2 व्यक्तिओं में अलग होता है, कई लोग बिलकुल भी दर्द बर्दाश्त नहीं कर पाते जबकि कुछ में दर्द सहने की क्षमता काफी अच्छी होती है|

दर्द के प्रकार Types of Pain:

प्रमुख रूप से दर्द को दो भागों में बांटा गया है:-

स्थायी दर्द:

लम्बे समय तक रहने वाला यह दर्द किसी जटिल बीमारी या संक्रमन के कारण होता है| इसे ठीक होने में काफी समय लगता है एवं दर्द निवारक दवाई का सेवन भी लम्बे समय तक करना पड़ता है| इसे क्रोनिक पेन भी कहा जाता है|

अस्थायी दर्द:

यह दर्द कुछ समय के लिए शरीर को प्रभावित करता है जैसे हड्डी टूटने, चोट लगने या नस आदि फटने पर किन्तु दवाई के द्वारा कुछ समय बाद यह ठीक हो जाता है, इसे एक्यूट पेन भी कहा जाता है|

विभिन्न प्रकार के दर्द:

न्यूरोपैथिक पेन:

किसी कारणवश जैसे की डायबिटीज, HIV, या स्ट्रोक जैसी स्थिति पैदा होने पर सीधा नुकसान तंत्रिका तन्त्र को होता है जिससे ये नष्ट होने लगती है एवं दर्द पैदा होता है| कीमोथेरेपी, जिसका प्रयोग कैंसर के इलाज के लिया किया जाता है इससे भी तंत्रिकाओं को नुकसान होता है| तंत्रिकाओ को नुकसान होने का सीधा असर केन्द्रीय तंत्रिका तन्त्र तक पहुचता है|

सायिकोजेनिक पेन:

तंत्रिकाओ या नसों के क्षतिग्रस्त होने से शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द होता है किन्तु कुछ मरीजों में डर या अवसाद के कारण दर्द का प्रभाव और बढ़ जाता है जिससे मरीज तनाव में रहने लगता है, वह सो नहीं पाता न ही अच्छे से भोजन कर पाता है, इस प्रकार की स्थिति को मानसिक इलाज द्वारा ठीक किया जाता है|

रेफार्ड पेन:

इस प्रकार के दर्द में दर्द का एहसास उसकी ठीक जगह पर न होकर कही और होने लगता है, जैसे कई बार हार्ट अटैक के समय छाती में दर्द न होकर बाजू एवं कंधे में होने लगता है, इसलिए इसे रेफेलेक्टिव पेन भी कहा जाता है|

टेल बोन पेन:

मेरुदंड के निचले हिस्से में यह दर्द होता है, कई बार एक स्थान पर अधिक समय तक बैठे रहने या यह जन्मजात विकृति भी इसका कारण हो सकता है| इसके इलाज के लिए केवल दवाई कारगर नहीं इसलिए मसाज, थेरपी, या छोटी सर्जरी के द्वारा इसे ठीक किया जा सकता है|

साइकोसोमेटिक पेन:

ऐसे बहुत से लोगों में देखा गया है कि शारीरिक जांच में उनके शरीर में किसी भी प्रकार का कोई रोग अथवा दर्द का कारण सामने नहीं आया किन्तु फिर भी वे लगातार दर्द की शिकायत करते है, तो इसे साइकोसोमेटिक पेन कहा जाता है जो केवल आपके दिमाग में होता है|

सिरदर्द:

दर्दों में सबसे साधारण माने जाना वाला सिरदर्द है एवं महिलाओं में इसकी समस्या पुरुषों के मुकाबले अधिक होती है| तनाव, शोर, गैस बनना, ब्रेन ट्यूमर, कब्ज, गलत खानपान, देर तक जागना, शराब आदि इसके मुख्य कारण होते है| माइग्रेन इसका सबसे भयंकर एवं तेज दर्द है एवं करीब 10% लोग माइग्रेन से पीड़ित होते है|

जोड़ो का दर्द:

बुजुर्गो में यह समस्या अधिक होती है क्योकि उम्र बढने के साथ जोड़ो को लचीला बनाये रखने वाला लुब्रिकेंट कम होने लगता है या खत्म हो जाता है जिससे जोड़ो में दर्द रहने लगता है| इसके साथ किसी बीमारी या चोट के कारण भी जोड़ो में दर्द हो सकता है|

जोड़ो की समस्या से निजात पाने के लिए कसरत करना, कैल्शियम युक्त पदार्थ खाना जैसे , पनीर, आदि एवं अधिक समय तक खड़े या बैठे रहने को इग्नोर करना चाहिए|

कमर दर्द:

रीड की हड्डी शरीर को सहारा देने का सबसे मुख्य अंग है जो कि 32 वर्तिब्रे से मिलकर बना होता है जिसमे से 22 कार्यशील होती है| इसके साथ ही यह डिस्क, मांसपेशियों, लिंगामेंट्स, जोड़ आदि सबसे मिलकर बने होते है| इन सब में से किसी में भी कोई खराबी आने पर कमर में दर्द की समस्या उत्पन्न होती है|

कई बार कमर दर्द अस्थायी होता है जो ठीक हो जाता है किन्तु कई बार यह आसानी से ठीक नहीं होता एवं रीड की हड्डी की सर्जरी करवाने जैसी नोबत आ जाती है|

विटामिन D की कमी, कैल्शियम की कमी, गलत खानपान, वजन उठाना, चोट, एक्सीडेंट, अधिक समय तक खड़े रहना, आदि कारण कमर दर्द के लिए जिम्मेवार है| इसलिए सुबह की धूप अवश्य ले, कसरत करे, एवं संतुलित आहार का सेवन करना चाहिए|

निष्कर्ष:

ऐसा कोई भी मनुष्य नहीं होगा जिसने कभी दर्द का एहसास न किया हो अत: अपने जीवन स्तर में सुधार करना चाहिए| उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी, अपने विचार हमसे जरुर शेयर करे|

मोबाइल का आविष्कार कैसे हुआ | The Invention of Mobile Phone in Hindi

आधुनिक युग में ऐसा कोई नहीं जो मोबाइल के प्रयोग से अछुता हो| बच्चे से लेकर बड़े तक मोबाइल का इस्तेमाल करते है| मोबाइल ने आज पूरे संसार को आपकी मुठी में लाकर खड़ा कर दिया है|

आज आप कही भी हो, हमेशा अपनों से जुड़े रह सकते है, कही भी किसी से बात कर सकते है, किन्तु कभी आपने यह सोचा कि मोबाइल को किसने बनाया, कैसे बनाया, कैसे यह विकास के अलग-अलग पहलुओ से होकर गुजरा और आज जो android डिवाइस जिसके आप आदी हो चुके है, कुछ समय पहले किसी ने सोचा तक नहीं होगा इसके बारे में|

यहाँ हम मोबाइल से जुड़े सभी तथ्यों एवं जानकारी के बारे में जानने का प्रयास करेंगे|

कैसे बना मोबाइल?

Martin Cooper और John F. ने 1973 ई. में सबसे पहले मोबाइल का अविष्कार किया जो Motorola का फ़ोन था एवं व्यवसायिक रूप से यह 1983 में प्रयोग में आना शुरू हुआ|

सिम कार्ड जिसके बिना मोबाइल को चलाना मुमकिन नहीं इसका अविष्कार 1991 में Munich Smart कार्ड Maker Giesecke and Devrient द्वारा बनाया गया था|

फर्स्ट Generation या 1G cellular Network का प्रारंभ जापान द्वारा 1979 ई. में किया गया था|

2G network की शुरुआत फ़िनलैंड द्वारा 1991 में की गई थी एवं ठीक 10 साल बाद 3G network अस्तित्व में आया जिसे जापान द्वारा बनाया गया| अब तक 4G नेटवर्क आ चुका है एवं 5G को लाने पर खोजबीन जारी है|

केवल 20 वर्षों में मोबाइल का प्रयोग करने वाले करीब 700 करोड़ users बने एवं इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढती चली गई|

सबसे ज्यादा smart मोबाइल बनाने वाली कम्पनीज में Samsung, Apple, Nokia आदि के नाम प्रसिद्ध है|

2014 तक अकेले Samsung ने दुनिया में प्रयोग होने वाले मोबाइल्स का 25% बनाया एवं Nokia का योगदान इसमें 13% रहा|

मोबाइल से जुड़े कुछ आश्चर्यजनक तथ्य:

सबसे पहले मार्किट में आने वाला मोबाइल Motorola का था जिसका नाम डायना टीएसी था जिसकी कीमत करीब 2 लाख रूपये थी एवं वजन में भारी था, इसलिए इसके मार्किट में उतारने से पहले कुछ हल्का किया गया| इसे १ बार चार्ज करने के बाद आप 35 से 40 मिनट तक बात कर सकते थे|

ब्रिटेन में सबसे पहले मोबाइल फ़ोन की शरुआत ‘एरिन वाइज’ द्वारा 1985 में वोडाफोन के कार्यालय में फ़ोन करके की गई थी|

वोडाफ़ोन कम्पनी को अपने लाखों ग्राहकों से जुड़ने के लिए 9 साल लगे किन्तु ओ2 नामक कम्पनी ने sellnet सेवा द्वारा केवल २ वर्षो में डस लाख का आंकड़ा पर करके वोडाफोन के एकाधिकार को खत्म कर दिया|

कोई भी वाहन चलाते समय मोबाइल के प्रयोग पर पाबन्दी लगा दी गई जिसमे भारत के साथ अन्य देशो में यह कानून लागू कर दिया गया|

वर्ष 2007 में एक नामी कम्पनी ने कुत्तों के लिए मोबाइल फ़ोन बनाया जिसमे GPS सिस्टम लगा हुआ था जिससे आप अपने कुत्ते को कही भी ट्रेक कर सकते थे एवं इसकी कीमत 25,000 थी|

Wireless World कांफ्रेंस में सबसे पहले टचस्क्रीन वाला smart फ़ोन पेश किया गया, इसके द्वारा आप मेल सेवा, कैलकुलेटर, कैलेन्डर, पेजर आदि का लाभ उठा सकते थे|

फरीदेलेहम नामक इंजिनियर ने 160 शब्द की टेक्स्ट सीमा की शुरुआत की जो कि जर्मनी से थे एवं एक अच्छे टाइपिस्ट थे|

साल 2012 में Samsung, Apple, एवं अन्य कम्पनीज के करीब 1अरब 70 करोड़ हैंडसेट बिके|

अब तक सबसे ज्यादा बिकने वाला मोबाइल फ़ोन का रिकॉर्ड नोकिया कम्पनी के 1100 मॉडल के नाम पर है, मार्किट में आने के साथ ही इसके करीब 25 करोड़ सेट बिक चुके एवं अभी तक इतने बड़े रिकॉर्ड को कोई कम्पनी नहीं तोड़ पाई|

केवल ब्रिटेन में 2011 में दो सौ अरब से अधिक टेक्स्ट मेसेज एक दूसरे को भेजे गये जिसमे से अधिकांश 11 से 16 साल के बच्चे थे| सबसे पहला sms 1992 में नील पोप्वोर्थ ने अपने एक दोस्त को भेजा था जिसमे उन्होंने लिखा था Marry Christmas|     

आधुनिक समय में इस्तेमाल होने वाले मोबाइल फ़ोन द्वारा आप नेट बैंकिंग, टिकेट booking, नेट सर्फिंग, बिज़नस प्रमोशन, एवं किसी भी प्रकार की जानकरी प्राप्त कर सकते है|

भारी वजन के साथ शुरू होकर आज एकदम हल्के एवं दिखने में आकर्षक smart फ़ोन हर प्रकार की रेंज में बाजार में उपलब्ध है| उस समय शायद ही किसी ने सोचा होगा की मोबाइल फ़ोन का इतिहास इतना जबर्दस्त एवं तेजी से बदलने वाला होगा|

आज के युवा अपना अधिकतर समय फेसबुक, Whtsapp, ट्विटर, आदि सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बिताते है, इसमें एक बहुत बड़ा भाग गेम्स के लिए भी जाता है|

अमेरिका में वर्ष 2007 में i-Phone को लांच किया जिसको लेने के लिए लोग रात भर लाइन में लगे थे पर कुछ समय बाद एप्पल का यह फ़ोन लोगों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाया|

अपनी बेजोड़ मजबूती के लिए मशहूर सोनिम xp फ़ोर्स मोबाइल को गिनेस बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल किया गया है, इसे 84 फीट से नीचे फेंका गया एवं 2 मीटर पानी में डुबाया गया जिसके बाद भी मोबाइल को कोई नुकसान नहीं हुआ एवं पहले के जैसे वर्किंग मोड में रहा| इसके अलवा और भी फ़ोन है जो पानी में खराब नहीं होते|

अब तक के सबसे महंगे फ़ोन की कीमत 7,850,000 डोलर है जो एप्पल द्वारा बनाया गया है एवं इसमें 500 हीरे लगे हुए है जो 100 कैर्रेट के है, मोबाइल का पिछला कवर गोल्ड का बना हुआ है एवं देखने में यह शानदार है, एप्पल कम्पनी का प्रसिद्ध लोगो भी डायमंड्स का बना हुआ है|

शायद ही आपको पता हो कि मोबाइल बनाने से पहले नोकिया पेपर बनाने का काम करती थी इसके साथ ही यह प्लास्टिक एवं रबर के उत्पाद बनाया करती थी परन्तु मोबाइल जैसी डिवाइस बनाकर इसने सबको हैरान कर दिया|

अब तक के आकड़ो के अनुसार, फिलिपीन में सबसे ज्यादा टेक्स्ट मेसेज एक दुसरे को भेजे जाते है|

आज के समय में जियो ने इन्टरनेट सेवा की दरो को काफी हद्द कम करके भारत में इसके प्रयोग को और भी सुविधाजनक बना दिया है|

निष्कर्ष:

जैसा कि प्रत्येक अविष्कार के साथ होता है, इसके पॉजिटिव एवं नेगिटिव दोनों पहलु होते है| ऐसे बहुत से मामले सामने आये जिसमे मोबाइल की बैटरी में ब्लास्ट होने से लोग बुरी तरह जख्मी हुए, या मर गये|

ड्राइविंग करते समय या पेट्रोल पंप में मोबाइल का प्रयोग निषेध है, कई बार इसके अधिक इस्तेमाल से नींद न आना, सिर में दर्द रहना, एकाग्रता की कमी, जैसी समस्याओं का जन्म हो जाता है|

यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो हमसे अपने विचार जरुर शेयर करे|

खाना खाने के बाद नींद क्यों आती है?why Does you feel sleep after eating?

कभी आपने गौर किया कि भोजन करने के बाद कुछ लोग आलस व् नींद महसूस करते है एवं सोना चाहते है? क्या आपने कभी सोचा कि ऐसा क्यों होता है? हालांकि इसमें कुछ भी अप्राकृतिक या बुरा नहीं है, फिर भी कुछ ऐसे कारण है जिससे भोजन करने के साथ ही शरीर आराम मांगता है और यहाँ हम उसी के बारे में चर्चा करेंगे|

भोजन का हमारे शरीर एवं दिमाग से गहरा सम्बन्ध है, आप क्या खाते है, कब खाते है, कैसे खाते है इससे शरीर पर गहरा असर पड़ता है|

कुछ भोजन ऐसे होते है जिससे शरीर को पर्याप्त ऊर्जा मिलती है एवं शरीर एवं दिमाग एक्टिव बनता है ऐसे भोजन को वेकर्स अर्थात जगाने वाला कहा जाता है जबकि कुछ ऐसे भी होते है जिससे सुस्ती एवं आलस आता है इसे स्लीपर्स कहा जाता है|

क्या है स्लीपर्स?

खाने की बहुत सारी चीजे ऐसी होती है जिसे खाने के बाद शरीर आराम करना चाहता है एवं नींद आती है, जैसे मिठाई, पनीर, रोटी, दाले आदि| ऐसे भोजन को स्लीपर्स कहते है|

इन्हें खाने के बाद शरीर की समस्त ऊर्जा पाचन क्रिया में लग जाती है एवं नसे ढीली पड़ जाती है जिससे हम मीठी नींद सोना चाहते है|

अलग-२ लोगों की शरीरिक बनावट के आधार पर स्लीपर्स अलग-२ असर करते है, जरूरी नहीं कि जिससे एक को नींद आये तो सबको ही आएगी|

क्या है वेकर्स?

जिन खाद्य पदार्थों से शरीर को भरपूर मात्रा में एनर्जी मिलती हो उन्हें वेकर्स कहा जाता है| जैसे चाय, काफी, कोला, एवं विभिन्न प्रकार की एनर्जी ड्रिंक्स आदि|

ये शरीर को इतनी ऊर्जा देती है कि इन्हें खाने या पीने के बाद सोना मुश्किल लगता है|

ऐसा होने का मुख्य कारण:

यदि भोजन करने के बाद नींद आने के पीछे वैज्ञानिक कारण की बात करे तो यही कहा जायेगा कि भोजन को पचाने के लिए अतिरिक्त रक्त की आवश्यकता होती है|

भोजन करने के बाद शरीर के विभिन्न अंगो से रक्त पेट की तरफ प्रवाहित होता है जिससे दिमाग में रक्त प्रवाह धीमा हो जाता है एवं शरीर सुस्ती महसूस करने लगता है एवं नींद आती है|

अन्य कारण:

कुछ विशेषज्ञ लोगों की मान्यता यह भी है कि यदि भोजन नींद आने का कारण है तो सुबह के नाश्ते के बाद या रात के खाने के बाद वैसी नींद क्यों नहीं आती जैसी दोपहर के समय आती है| इसके पीछे कई और कारण जिम्मेवार हो सकते है, जैसे-

अधिक कैलोरी वाला भोजन:

शरीर के कुछ अंग ऐसे होते है जिन्हें एक्टिव बने रहने के लिए अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है जैसे की दिमाग एवं आंते|

दोपहर के समय हम अधिकतर भारी ऊर्जा एवं कैलोरी वाला खाना खाते है जबकि दोपहर एवं रात के समय ऐसा नहीं होता| भारी भोजन करने के बाद हमारा मस्तिष्क लाल रक्त कणों को पेट की तरफ भोजन पचाने के लिए भेजता है एवं दिमाग के शिथिल पड़ते ही शरीर भी शिथिल पड़ने लगता है जिससे नींद आती है|

एडेनोसाइन:

यह एक ऐसा रसायन है शरीर में नींद के लिए जिम्मेवार होता है एवं यह केमिकल रात के समय एवं दोपहर के समय क्रियाशील रहता है इसलिए शायद इन दोनों समय में हम सोना अधिक पसंद करते है|

अधिक देर तक कम करते रहने या जागने के बाद भी यह रसायन आप मे नींद की इच्छा को जगा देता है|

इन्सुलिन:

खाना खाने के बाद लीवर इन्सुलिन का निर्माण करता है जो बाद में हमारे रुधिर के साथ जाकर मिल जाता है यह इन्सुलिन ट्रिप्टोफेन रसायन को एक्टिवेट कर देता है जिसके कारण शरीर सोने के प्रति इछुक होने लगता है|

यह क्रिया और भी तेजी से होती है यदि आप दोपहर के समय मीठा खा लेते है| इसलिए कहा भी जाता है कि मीठा खाने के बाद नींद अच्छी आती है|

उम्मीद करते है कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी| हमारे साथ अपना अनुभव एवं विचार जरुर शेयर करे एवं यदि आप कुछ पूछना चाहे तो हमे मेल के द्वारा सम्पर्क करे|      

सन्तुलित आहार के आवश्यक तत्व । Balance Diet in Hindi

सन्तुलित आहार स्वस्थ जीवन का आधार है। कोई भी व्यक्ति यदि शारीरिक रूप से असन्तुलित है या जिसका स्वास्थ्य असन्तुलित है तो उसका जीवन भी सन्तुलित नही रहता है। यह तो सर्व मान्य ही है कि पहला सुख नीरोगी काया अर्थात् मनुष्य कितने भी सुखों की प्राप्ति कर ले, परन्तु यदि उसका शरीर रोगों से ग्रस्त रहता है तो बाकी सब सुख फीके लगते हैं। अतः अच्छे स्वास्थ्य को कायम रखने से शुरुआत आहार से ही की जानी चाहिए।

सन्तुलित आहार में अनेक प्रकार के तत्व विद्यमान रहते हैं। आज हम आपको इन तत्वों के बारे में बता रहे हैं, ताकि आप अपने भोजन को पेट भरने के साथ-साथ शरीर को विकारों व रोगों से मुक्त रखने के उद्देश्य से ग्रहण करें।

वसा- सन्तुलित आहार का अन्य मुख्य तत्व है- वसा, जिसे फैट भी कहते हैं। बहुत से लोगों में यह धारणा है कि वसा शरीर के लिए अच्छा तत्व नही है, परन्तु यह केवल अधूरी जानकारी के कारण उत्पन्न हुई गलतफहमी मात्र है। वसा भी शरीर के लिए अन्य तत्वों की भाँति लाभदायी है, बशर्ते यह पर्याप्त आवश्यक मात्रा में हो। ध्यान देने योग्य बात है कि वसा की आवश्यकता से अधिक मात्रा भी नुकसानदेय सिद्ध हो सकती है।

शारीरिक रूप से क्रियाशील बने रहने के लिए आवश्यक है कि हमारे शरीर में पर्याप्त मात्रा में वसा रहनी चाहिए। वसा से हमे ऊर्जा प्राप्त होती है। कोशिकाओं, त्वचा व बालों का उचित स्वास्थ्य व गुणवत्ता बनाये रखने के लिए वसा उपयोगी है। काजू, दूध, पनीर, सोयाबीन का तेल व मूंगफली का तेल आदि वसा के अच्छे स्त्रोत हैं। 

वसा दो प्रकार की होती है-

संतृप्त वसा व असंतृप्त वसा।

प्रोटीन- मनुष्य शरीर के भीतर नव कोशिका निर्माण में सबसे ज्यादा योगदान प्रोटीन का होता है तथा इससे क्रियाशीलता बनी रहती है। इसके अतिरिक्त मनुष्य शरीर का उचित तापमान कायम रखने में भी प्रोटीन सहायक होता है। हमारे आहार में 30-35 प्रतिशत तक प्रोटीन होना स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है। प्रोटीन शाकाहारी व माँसाहारी दोनों आहारों से प्राप्त होता है, जैसे- चना, मक्का, बाजरा मूँगफली, दाल, मछली, मुर्गा, अंडा आदि प्रोटीन के अच्छे स्त्रोत हैं। 

प्रोटीन की कमी से शारीरिक बल में कमी आती है तथा वजन में भी गिरावट आती है। साथ में रोग प्रतिरोधक क्षमता में क्षीणता आने से शरीर पर कई रोगों का साया बना रहता है।

फाइबर- जो खाद्य पदार्थ रेशेदार होते हैं, उनमें भरपूर मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जैसे- संतरा।

ये हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने मे सहयोग करते हैं। प्रतिरक्षा तन्त्र को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए फाइबर युक्त यानि कि रेशे वाली चीजों का सेवन करना चाहिए। फाइबर से छोटे-मोटे रोगों को झेलने की व उनसे लड़ने की शक्ति प्राप्त होती है। इसी के साथ पेट के लिए उचित है क्योंकि इससे पाचन ठीक रहता है तथा कब्ज की समस्या भी नही होती और भोजन के साथ पाये जाने वाले दूषित पदार्थों के प्रभाव को कम करने में सहायक होता है।

पपीता, सेब, इसबगोल, अंगूर, खीरा, शकरकन्द, सूजी आदि फाइबर के अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं।

कार्बोहाइड्रेट- यह तीन मुख्य तत्वों से मिलकर बना होता है- कार्बन, हाइड्रोजन व ऑक्सीजन। इसे कार्बोज भी कहा जाता है।

Close up of mixed of pasta

मनुष्य के शरीर में अंदरूनी कुछ अंगों व ऊत्तकों में ग्लूकोज़ पाया जाता है, इसे ही कार्बोहाइड्रेट कहते हैं। 

कार्बोहाइड्रेट के मुख्य घटक शर्करा, स्टार्च व फाइबर है।

सब्जियों, फलियों, पेय द्रवों व साबुत अनाज में कार्बोहाइड्रेट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। 

शरीर ने वसा की मात्रा को नियंत्रित करने में कार्बोहाइड्रेट की विशेष भूमिका रहती है। एक मनुष्य द्वारा उम्र के आधार पर जितनी कैलोरी की आवश्यकता होती है, उस कैलोरी का लगभग 50-60 प्रतिशत तक कार्बोहाइड्रेट की भी जरूरी होता है।

दिल, गुर्दे, मांसपेशियों के उचित व स्वस्थ रूप से कार्य करने के लिए यह आवश्यक होता है।

जल- मनुष्य के लिए जल की आवश्यकता और महत्व के ज्ञान से कोई भी अनभिज्ञ नही होगा। जल भिन्न-भिन्न रूपों में उपयोगी होता है। प्यास बुझाने के साथ ही मूत्र सम्बन्धी समस्याओं से बचाव करता है और पेट की सफाई में सहयोगी है। त्वचा के कसाव व चमक के लिए पर्याप्त मात्रा में जल का सेवन करना चाहिए।

अलग-अलग समय पर जल के सेवन से शरीर को अलग तरह के अनेक लाभ प्राप्त होते हैं। गर्मी के दिनों में कम से कम 10 गिलास पानी पीना स्वास्थ्य के लिए उचित होता है।

खनिज पदार्थ- सन्तुलित आहार के मुख्य तत्वों में खनिज पदार्थ भी महत्वपूर्ण है। खनिज पदार्थों की विशेषता यह है कि इनकी भिन्नता के कारण ये शरीर के प्रत्येक हिस्से के लिए भिन्न-भिन्न रूप से स्वास्थ्य प्रदायी व लाभदायक है। शरीर में खनिज पदार्थों की पूर्ति होने से कई रोगों से बचाव सम्भव हो जाता है। हड्डियों, दाँतो, त्वचा, मांसपेशियों, पेट, मस्तिष्क, रक्त आदि सभी के लिए खनिज पदार्थ फायदेमंद होते हैं।

ये अनेक प्रकार के होते हैं, जिनके बारे में विस्तार से एक अन्य प्रलेख में बताया हुआ है।

विटामिन- विटामिन छः तरह के होते हैं। विटामिन ए, बी, सी, डी, ई, के। विटामिन का कई प्रकार की बीमारियों से बचने व रोकथाम में सहयोग होता है। शरीर के कुछ हिस्सों में जहाँ अन्य तत्वों की भूमिका नही होती है, वहाँ विटामिन की जरूरत पड़ती है। सौंदर्य विकास में भी विटामिन अत्यन्त महत्वपूर्ण माने जाते हैं। दूध से बने सभी खाद्य पदार्थ, पत्तेदार सब्जियां, दालें, फल, माँसाहार आदि भिन्न-भिन्न विटामिन के स्त्रोत हैं।

इस प्रकार आप जान चुके होंगे कि सन्तुलित आहार में उपर्युक्त वर्णित सभी तत्वों का समावेश रहता है, जो कि हमारे शरीर के लिए अत्यन्त लाभदायी होते हैं। सन्तुलित जीवन की ओर पहला कदम सन्तुलित आहार ही है|

विद्युत ऊर्जा क्या है?what is Electrical Energy

विद्युत ऊर्जा यानि कि विद्युत के महत्व का अंदाजा तो आप इसी बात से लगा सकते हैं कि एक बटन दबाते ही लाइट, पंखे व सभी विद्युत चलित साधन हमें दैनिक जीवन की सुख-सुविधा प्रदान करवाते हैं और जब कभी कुछ देर के लिए विद्युत आपूर्ति बन्द हो जाती है तो विद्युत से चलने वाले सभी साधन अनुपयोगी हो जाते हैं, प्रकाश उपलब्ध नही होता व अन्य कई असुविधाएँ महसूस होती है।

आजकल के समय में घर हो या गली, अंदर हो या बाहर, व्यावसायिक उपक्रम या दुकान, प्रत्येक जगह विद्युत के बिना कार्य करने की कल्पना मात्र भी कठिन दिखाई पड़ती है। छोटे से लेकर बड़ा कार्य करने में भी विद्युत ऊर्जा सहायक है। इस तकनीकी युग में मनुष्य पूरी तरह से विद्युत के अधीन होकर ही प्रगति कर सकता है।

विद्युत ऊर्जा को जानने से पहले हमे ऊर्जा के विषय में ज्ञान होना आवश्यक है।

किसी कार्य को करने के लिए शक्ति अर्थात् क्षमता का प्रयोग किया जाता है, इसी क्षमता को ऊर्जा कहते हैं।

ऊर्जा कोई पदार्थ नही है, अपितु पदार्थों में पाया जाने वाला गुण है। इस गुण का स्थानान्तरण व रूपान्तरण किया जा सकता है। इसे केवल अदृश्य शक्ति के रूप में माना जाता है।

जो ऊर्जा किसी विद्युत आवेश से युक्त होती है, वह विद्युत ऊर्जा कहलाती है। यह स्थितिज ऊर्जा होती है, जो कूलाम्ब बल के कारण आवेशित कणों के मध्य जुड़ जाती है। विद्युत ऊर्जा की ईकाई किलोवाट घण्टा होती है। 

विद्युत उत्पादन-

सामान्यतः विद्युत उत्पादन के लिए विद्युत जरनेटर (जनित्रों) की सहायता ली जाती है। जरनेटर के माध्यम से यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में रूपान्तरित किया जाता है। इनमे चुम्बकीय क्षेत्र का महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसी यांत्रिक ऊर्जा की प्राप्ति के कई स्त्रोत हो सकते हैं, जैसे ऊँचाई से गिरते हुए जल से, गैस, भाप या अन्य ईंधन से व परमाणुशक्ति से। 

विद्युत जरनेटर फैराडे के “विद्युत चुम्बकीय प्रेरण” के सिद्धान्त पर कार्य करता है।

जरनेटर विद्युत आवेशों के प्रवाह का कार्य करता है। ध्यान देने योग्य तथ्य है कि विद्युत इंजन स्वयं चलायमान नही होते हैं। बाहरी शक्ति स्त्रोत से इनको चलाया जाता है, जिसके लिए भाप इंजन, गैस टरबाईन, पवन टरबाईन आदि में से किसी भी स्त्रोत का उपयोग किया जा सकता है।

विद्युत जनित्र दो प्रकार के होते हैं- दिष्ट धारा जनित्र व प्रत्यावर्ती धारा जनित्र। इन दोनों का कार्य करने का सिद्धान्त तो एक ही है, परन्तु इनकी संरचना में भेद पाया जाता है।

जहाँ विद्युत (बिजली) का उत्पादन किया जाता है, उस स्थान को बिजलीघर कहते हैं। विद्युत उत्पादन के भिन्न-भिन्न तरीके होते हैं, फलस्वरूप बिजलीघर भी अलग-अलग प्रकार के होते हैं। इनका विवरण इस प्रकार है-

पनबिजलीघर- इनमे मुख्यतः नदी या नहरों से बाँध की सहायता से उपयुक्त मात्रा में पानी एकत्रित करते है। उस पानी को विद्युत जरनेटर वाले टरबाईन पर ऊँचाई से गिराया जाता है। ये टरबाईन इन जनरेटरों के प्रधान चालक होते हैं। इससे विद्युत उत्पादन किया जाता है।

भाप चलित बिजलीघर- इनमे भाप से चलने वाले टरबाईन का प्रयोग किया जाता है। इन टरबाईन को तीव्रता से चलाने के लिए अत्यधिक भाप पैदा करने हेतु इनमे बड़े-बड़े बॉयलर (वाष्पित्र) होते हैं। इस प्रकार भाप वाले टरबाईन से विद्युत उत्पादन होता है।

परमाण्वीय बिजलीघर- आजकल कुछ देशों में परमाणु शक्ति की सहायता से भी विद्युत उत्पादन किया जा रहा है। इसमें किसी प्रकार के ईंधन का इस्तेमाल नही किया जाता और न ही जल का उपयोग होता है। फलस्वरूप ईंधन व जल की खपत ने भी कमी आती है, परन्तु इनकी लागत अपेक्षाकृत अधिक होती है।

इसके अतिरिक्त गैस टरबाईन के द्वारा भी विद्युत उत्पादन किया जाता है। गैस से चलने वाले टरबाईन बड़ी आकृति के होते हैं, परन्तु इनके संचालन के लिए अत्यधिक ताप और दबाव की आवश्यकता पड़ती है। वर्तमान समय में गैस टरबाईन का अधिक इस्तेमाल नही किया जा रहा।

सौर ऊर्जा व पवन ऊर्जा का प्रयोग भी विद्युत उत्पादन में किया जाता है।

विद्युत प्रेषण-

यह तो सर्वविदित ही है कि विद्युत का उत्पादन जिस क्षेत्र में होता है, वहाँ विद्युत का उपयोग नही होता। उपयोग करने वाले क्षेत्र तक विद्युत का स्थानांतरण किया जाता है, जिसे विद्युत प्रेषण भी कहते हैं।  तारों (केबल) की सहायता से विद्युत स्थानांतरित की जाती है। ये तारें भूमिगत यानि कि जमीन के अंदर होती है और कुछ तारें खम्बों के सहायता से जमीन से 20 फ़ीट या अधिक ऊँचाई पर भी होती हैं। आपने सामान्यतः सड़कों पर लगे विद्युत के खम्बे देखें ही होंगे, जिनकी सहायता से हमें घर बैठे विद्युत की सुविधा प्राप्त होती है|