सवाल जवाब

यहाँ आइन्स्टी के सभी रीडर आपस में एक दुसरे से विज्ञान सम्बंधित सवाल जवाब कर सकते हैं

230 thoughts on “सवाल जवाब”

    • अगर आप डॉलर और रूपये की बात करते हैं तो

      1 मिलियन डॉलर मतलब 10 लाख डॉलर ($1 Million = $1,000,000 )
      1 मिलियन डॉलर इन रुपया = 65 x 1,000,000 = 65,000,000 रुपया
      तो 743 मिलियन =743 x 65,000,000 = 48,44,77,60,800.00 रुपया

      अगर आप डॉलर और रुपये की बात नही करते हैं तो
      743 मिलियन = 743,000,000 मतलब 7430 लाख होगा

      Reply
  1. Magnetic field lines ek dusreko kyo cross nahi karti?Agar aapka ans. Ye he ki van ek point pe 2 direction magnetic field ki nahi ho sakti to for hum unka vector addition kyo nahi kar te?

    Reply
    • फिजिक्स के प्रिन्सिपल के अनुसार एक पॉइंट तो दो डायरेक्शन में अलग अलग force नही हो सकती और इसी का पालन मैग्नेटिक लाइन्स करती हैं , वे एक दुसरे को क्रॉस नही करती , ये नेचर का लॉ है। जैसे की हर दो वस्तु जिसका भार होता है उसके बीच हमेशा गुरुत्वाकर्षण बल होता है ये भी एक नेचर का लॉ है। तो जब एक पॉइंट पर दो डायरेक्शन ही नहीं हो सकता इसलिए हम उसका वेक्टर addition नहीं करते क्यों की ये गलत है।

      Reply
    • hawa ke molecule se jab prakash taktarake chitra jata hai , use prakash prakirnn kehte hain. Isme oxygen or nitrogen ke gas ke molecule bhot chote hote hain aur prakash prakirnn me sahayak hote hain

      Reply
    • क्यों की हमारे दिमाग एक भाग जो हमारे कण्ट्रोल में नही है वो इस संतुलन को बनाये रखता है, इसे सब कोन्सिऔस माइंड भी बोलते हैं

      Reply
  2. गुरूत्वाकर्षण बल के कारण आदमी खङा रहता है तो
    जब आदमी झुकता है तो गुरूत्वाकर्षण के कारण गिरता क्यों नहीं है?

    Reply
    • हमारे दिमाग का एक पार्ट है जिसे हम सेरिबैलम कहते हैं इसका काम ही है बॉडी बैलेंस करना , दिमाग को ये सुचना आँख , कान, नाक , त्वचा द्वारा दी जाती है की बॉडी को किस पोस्चर को मेन्टेन करना है, इसके बाद दिमाग अपने आप ही बॉडी को बैलेंस कर लेता है और हमे पता भी नही चलता। जिन लोगो का सेरिबैलम छतीग्रस्त हो जाता है उनको बॉडी बैलेंस करने में दिक्कत आती है और वे गुरुत्वकर्सन बल के कारन गिर जाते है। हमारे बॉडी को बैलेंस करने में मोटर नुएरोन का भी हाथ है जो मांस पेशियों तक यह सन्देश पहुचता है की कहा क्या करना है।

      Reply
  3. It is in point of fact a nice and helpful piece of info.
    I’m happy that you simply shared this useful info
    with us. Please keep us up to date like this. Thank you for sharing.

    Reply
    • जैसा की आप जानते है पृथ्वी पर वायु है , जल है , मृदा है और इसी कारन पृथ्वी पर जीवन संभव हो पता है। हम इसे पृथ्वी का एक आवरण भी बोल सकते है। इस आवरण को ही जैव मंडल बोला जाता है। शोर्ट में कहे तो जैव मंडल, उस मंडल को बोला जाता है जहा पर सारी जीवन दाई अवश्यक चीज़े मौजूद हो।

      Reply
    • गरीबी का मुख्य कारण निरक्षरता है। आज विश्व बहोत आगे निकल चूका है लेकिन कुछ लोग इस दौड़ में पीछे रह गये उन्हें ही हम गरीब बोलते है अगर वो भी इस दौड़ में सामिल हो जाये तो वे गरीब नही रहेंगे। गरीबी हटाने की लिए उन लोगो को भी मुख्य धारा में आना पड़ेगा और वही करना पड़ेगा जो आज के विकसित देश के लोग कर रहे है। उन्हें संसाधनों का इस्तेमाल कर के कुछ नया करना होगा। भारत में जो गरीबी है वो पीढ़ी दर पीढ़ी चले आ रहा है। पेरेंट्स के पास पैसा नही की वे बच्चो को पढाये और वो पढ़ाने का रिस्क भी नही लेते। जिस दिन वे इस रिस्क को ले लेंगे और अगर उनका बच्चा होनहार निकल जाये तो वह अपने पेरेंट्स को गरीबी से बहार निकल सकता है।

      Reply
    • मुझे लगता है की ऐसे लोगो से दूर रहना चाहिए क्यों की ऐसे लोगो को हम सुधार नही सकते लेकिन खुद को आगे बढ़ा सकते हैं, जब उसे पता चलेगा की आप उससे आगे निकल चुके हैं तो वो मजाक उड़ना तो दूर आपके करीब आने से भी कतरायेगा। सबसे बेहतरीन जवाब अगर आपको किसी को देना है तो आपको उससे बहोत आगे निकलना होगा और ऐसा होने पर वो आपके बारे में सोच सोच कर ही परेशान रहेगा

      Reply
  4. रक्त लाल क्यों होता है छोटे बच्चों को कैसे समझाए

    Reply
    • क्यों की मृत सागर में पानी का घनत्व बहोत ज्यादा होता है, पानी में बहोत तरह के पदार्थ मिले होते है जैसे नमक आदि, पानी का घनत्व ज्यादा होने के कारन चीज़े उसपर तैरने लगती है

      Reply
    • लाइट जब किसी पार्टिकल से टकराता है तो वह छितरा जाता है और हमारी आखो तक आता, जैसे सूरज के रौशनी के सामने धुल उड़े तो हम लाइट को देख सकते है

      Reply

Leave a Reply to Anonymous Cancel reply