sky in night

तारे टूटते हुए क्यो दिखाई देते है?

हमारी पृथ्वी की आकाशगंगा में कई हैरान कर देने वाले खगोलीय दृश्य समय समय पर पैदा होते हैं जो खगोल सम्बन्धी रूचि रखने वाले शोधार्थियों और विद्यार्थियों के लिये काफी रोमांचकारी अनुभव उत्पन्न करते हैं| रात्रि प्रहर में आपने अक्सर देखा होगा कि आसमान में से एक तेज रोशनी एक तारे से निकलती हुई प्रतीत होती है आम बोलचाल की भाषा में इसे तारों का टूटना कहा जाता है| आइए आज हम आपको इसके पीछे की वैज्ञानिक सत्यता से परिचित करवाते हैं|

एक टूटता हुआ तारा या शूटिंग स्टार जैसी चीज़ वास्तव में कुछ नहीं होती हैं| कभी-कभी रात के समय आकाश में प्रकाश की ये आश्चर्यजनक रेखाएं धूल और चट्टान के छोटे टुकड़ों के कारण होती हैं जिन्हें मेट्रोरोइड्स पृथ्वी के वायुमंडल में गिरने और जलते हुए उल्का पिंड के नाम से बुलाया जाता है|

जलती हुई उल्कापिंड पैदा करने वाले प्रकाश के अल्पकालिक निशान को उल्का कहा जाता है | उल्का आमतौर पर गिरने वाले सितारों या शूटिंग सितारों को बुलाया जाता है | यदि उल्कापिंड का कोई भी हिस्सा जलता रहता है और वास्तव में पृथ्वी को हिट करता है, तो शेष हिस्से को उल्कापिंड कहा जाता है|

साल के कुछ निश्चित समय पर, आपको रात के आकाश में बड़ी संख्या में उल्का दिखाई देने की संभावना होती है| इन घटनाओं को उल्का शावर कहा जाता है और वे तब होते हैं जब पृथ्वी धूमकेतु द्वारा छोड़ी गई मलबे के निशान से गुज़रती है क्योंकि यह सूर्य की कक्षा में होती है| इन शावरों को आकाश में मौजूद नक्षत्र के आधार पर नाम दिए जाते हैं, जिससे वे उत्पन्न होते हैं| उदाहरण के लिए, लियोनिड उल्का शावर, या लियोनिड्स, नक्षत्र लियो में पैदा होते हैं| यह समझना महत्वपूर्ण है कि उल्कापिंड (और इसलिए उल्का) वास्तव में नक्षत्रों या नक्षत्रों में से किसी भी सितार से उत्पन्न नहीं होते हैं बल्कि वे पृथ्वी के उस हिस्से से आते हैं क्योंकि पृथ्वी धूमकेतु की कक्षा के रास्ते में चलने वाले कणों से मुकाबला करती है|


Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *